हर डिलीवरी का परिणाम एक खुशहाल मां होता है, जो अपने स्‍वस्‍थ बच्‍चे को ब्रेस्‍टफीड कराती है। निश्चित रूप से नवजात शिशु के लिए आदर्श भोजन दूध है। दूध न केवल प्रजाति-विशिष्ट है, बल्कि दूध की संरचना गर्भावधि उम्र के साथ भी बदलती है। गाय का दूध बछड़े के लिए सबसे अच्छा है, बकरी का दूध बच्चे के लिए सबसे अच्छा है, बाघ का दूध शावक के लिए सबसे अच्छा है और मां का दूध मानव बच्चे के लिए सबसे अच्छा होता है। प्रेग्‍नेंसी की प्रगति के रूप में मानव दूध की संरचना बदलती है - अगर बच्चा समय से पहले जन्म लेता है तो यह अलग बात है।

डिलीवरी के बाद, शायद सबसे महत्वपूर्ण निर्णय जो मां लेती है, वह अपने बच्चे को ब्रेस्‍टफीडिंग कराना है। एक मां ब्रेस्‍टफीड कराने का निर्णय अपनी प्रेग्‍नेंसी के दौरान शुरुआत में ही ले लेती है। यह निर्णय हो सकता है कि वह परिवार और दोस्‍तों द्वारा शेयर की गई राय और अनुभवों और मीडिया से प्रभावित हो कर लें, मगर यह पूर्णरूप से केवल माताओं पर ही निर्भर करता है। सभी हेल्‍थकेयर प्रोफ्रेशनल्‍स को उसे बच्चे को फीडिंग कराने के बारे में सही वैज्ञानिक जानकारी देनी चाहिए और सही विकल्प बताना चाहिए।

 हर मां को उसके बच्चे के लिए फीडिंग किए जाने वाले विकल्पों के बारे में सलाह दी जाती है, आमतौर पर प्रेग्‍नेंसी के लगभग 28 सप्ताह में प्रसवपूर्व अवधि में, विशेष रूप से 'बेबी-फ्रेंडली' मैटरनिटी सेट-अप/सर्विस में। प्रेग्‍नेंसी के दौरान मां अपने बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में सुझाव के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार होती है।  ब्रेस्‍टफीडिंग कराने और मिथकों को नष्ट करने के बारे में सही जानकारी प्रदान करना उनके बच्चे के लिए सही पोषण विकल्प बनाने में मदद करने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है, जो भविष्य में बच्चे के स्वास्थ्य का फैसला करता है।

हर मां को दी जाने वाली सलाह है:

  • बच्चे के जन्म के एक घंटे के भीतर ब्रेस्‍टफीडिंग कराना, अधिमानतः "ब्रेस्‍ट क्रॉल" द्वारा।
  • पहले छह महीनों के लिए विशेष रूप से ब्रेस्‍टफीडिंग (कोई बाहर का दूध/जूस या पानी नहीं देना चाहिए) कराना चाहिए। 
  • छह महीने के बाद उचित घर का बना पूरक भोजन शुरू करें।
  • कम से कम दो साल तक ब्रेस्‍टफीडिंग जारी रखें।
  • ब्रेस्‍टफीडिंग के विकल्पों पर केवल विशिष्ट स्थितियों में चर्चा की जानी चाहिए।
importance of breastfeeding inside

बच्चे और मां को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के फायदे

ब्रेस्‍ट मिल्‍क बच्चे के लिए पूरी तरह से प्राकृतिक भोजन है। यह आपके बच्चे के लिए सबसे स्वास्थ्यप्रद और सबसे सुरक्षित पोषण है।

  • इसमें सभी पोषक तत्व इष्टतम विकास के लिए सही अनुपात में होते हैं।
  • आसानी से पचने योग्य होता है। 
  • जर्म-फ्री होता है क्योंकि यह सीधे मां से बच्चे को दिया जाता है।
  • यह इम्‍यून कारक प्रदान करता है जो संक्रमण के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं, जैसे, निमोनिया, दस्त, आदि।
  • सही तापमान में होता है।
  • ब्रेस्‍ट मिल्क में मौजूद एंटीबॉडी बच्चे के इम्‍यून सिस्‍टम का निर्माण करने में मदद करते हैं और उन्हें संभावित बीमारियों और संक्रमणों से बचाते हैं।
  • अस्थमा और एलर्जी से बचाता है।
  • संक्रमण जैसे कान में संक्रमण, आंतों की बीमारी/ दस्त, सांस की समस्या और वायरल संक्रमण जैसे सर्दी, फ्लू से बचाता है। 
  • जीवन में बाद में आने वाली समस्‍याओं जैसे मोटापा, हाई ब्‍लड प्रेशर, हार्ट डिजीज और डायबिटीज से बचाता है।
  • एसआईडीएस को रोकता है - अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम।
  • एक बच्चे को अधिक बुद्धिमान बनाता है - बुद्धि में सुधार करता है।
  • कुछ कैंसर के जोखिम को कम करता है।
  • मजबूत मातृ-शिशु संबंध को प्रोत्साहित करता है।
  • बेहतर न्यूरोसेंसरी, जबड़े और दांतों का विकास में मददगार होता है।

ब्रेस्‍टफीडिंग मां की मदद कैसे करती है?

  • बच्चे के साथ एक इमोशनल बांड के अलावा, ब्रेस्‍टफीडिंग मां को कई अन्‍य तरीकों से मदद करती है:
  • यह प्‍लेसेंटा के शीघ्र निष्‍कासन की सुविधा देती है और आतिरिक्‍त पोस्‍ट-पार्टम ब्‍लीडिंग को कम करती है। 
  • इससे यूट्रस का बढ़ा हुआ साइज तेजी से कम होता है जो प्रेग्‍नेंसी से पहले की अवस्‍था में आ जाता है, साथ ही इससे बच्‍चे के जन्‍म के बाद शरीर को ठीक होने में मदद मिलती है। 
  • बच्‍चे को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के दौरान, ऑक्‍सीटोसिन हार्मेन (लव हार्मोन) रिलीज होता है, जो मां को आराम और शांति का अनुभव कराता है। 
  • यह सुविधाजनक है और इसके लिए कोई तैयारी करने की आवश्‍यकता नहीं होती है। 
  • फ्री ऑफ कॉस्‍ट है। 
  • प्रेग्‍नेंसी के दौरान बढ़ा हुआ फैट तेज़ी से कम होता है। इससे शरीर में मौजूद फैट ब्रेस्‍ट मिल्‍क के द्वारा कम होता है और शरीर को वापिस से शेप में लाने में मदद मिलती है। 
  • इससे अगली प्रेग्‍नेंसी को टालने में मदद मिलती है। मगर मां को इसे कॉन्‍ट्रासेप्‍शन का एकमात्र मेथर्ड मानकर निर्भर नहीं होना चाहिए।
  • इससे ओवरियन, ब्रेस्‍ट और यूटेरिन कैंसर का खतरा कम होता है।
  • इससे हड्डियां मजबूत होती है और पोस्‍ट-मेनोपॉजल ऑस्टियोपोरोसिस से भी बचाव होता है। 
  • ब्रेस्‍टफीड होने वाले बच्‍चे कम बीमार पड़ते हैं, जिससे परिवार का इलाज पर होने वाला खर्च भी बचता है।

सोसायटी के लिए लाभ

ब्रेस्‍टफीडिंग दरों में गिरावट से पशु/प्रसंस्कृत दूध की मांग बढ़ जाती है। इससे पर्यावरण को नुकसान हो सकता है। इसलिए ब्रेस्‍टफीडिंग सिर्फ पर्यावरण के अनुकूल नहीं है, बल्कि समाज और राष्ट्र के समग्र विकास में भी मदद करती है।

फॉर्मूला मिल्क के नुकसान

कुछ साल पहले, हमें 'फॉर्मूला मिल्क' पर चर्चा नहीं करनी पड़ती थी। लेकिन आधुनिक समय में, यह अनिवार्य हो गया है, क्योंकि होने वाली माताओं को प्रिंट और ऑडियो-विजुअल मीडिया में बोनी शिशुओं को दिखाने वाले विज्ञापनों की बमबारी की जाती है।

chat for breastfeeding

Recommended Video

 

समापन टिप्पणी

प्रत्येक मैटरनिटी सर्विस का उद्देश्य यह देखना है कि प्रत्येक बच्चा जन्म के बाद ब्रेस्‍टफीडिंग कर रहा है। हर मां को दिए गए निर्देश हैं-

  • जन्म के तुरंत बाद बच्चे को मां के साथ स्किन-टू-स्किन रखना चाहिए। यह जन्म के एक घंटे के अंदर ब्रेस्‍टफीडिंग की शुरुआत को आसान बनाता है जिसे ब्रेस्‍ट क्रॉल के रूप में जाना जाता है। 
  • पहले छह महीनों के लिए विशेष रूप से ब्रेस्‍टफीडिंग (कोई बाहर का दूध/जूस या पानी नहीं देना चाहिए) कराना चाहिए। 
  • छह महीने के बाद उचित घर का बना पूरक भोजन शुरू करें।
  • कम से कम दो साल तक ब्रेस्‍टफीडिंग जारी रखें।

हालांकि, ब्रेस्‍टफीडिंग सहज ज्ञान नहीं है। इसे सीखने और सिखाने की जरूरत है। सबसे अच्छा तरीका है कि विचारशील मां को एक इंटरैक्टिव मदर सपोर्ट ग्रुप मीटिंग में एंटेना की अवधि में विचार का परिचय देना और उसे जन्म के बाद बच्चे को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने का तरीका सिखाना। इस बारे में लैक्टैशन सलाहकार/ परामर्शदाता बहुत मदद कर सकता है। हर मां को अपने बच्चे को पकड़ना, बच्चे को ब्रेस्‍ट के पास लाना और अपने बच्चे को ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के बारे में आश्वस्त होना चाहिए। डिस्चार्ज के दौरान, मां को अपने बच्चे के स्वास्थ्य की निगरानी करने और यूरिन उत्पादन और वजन बढ़ाने के लिए पर्याप्तता में खिलाने की निगरानी के बारे में बताया जाना चाहिए। लैक्टैशन सलाहकार की मदद से, मैटरनिटी सर्विस को ब्रेस्‍टफीडिंग सही तरीके से कराने तक बच्चे की निगरानी करनी चाहिए।

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर कार्तिक भगत (एमडी, एफआईसीओजी, आईबीसीएलसी) को विशेष धन्‍यवाद। 

Reference:

https://www.webmd.com/parenting/baby/nursing-basics#1

https://bpnimaharashtra.org/resources-for-mothers/faqs/