आजकल सर्दियों का मौसम है और इस मौसम में पर्याप्त धूप ना होने की वजह से इन्फेक्शन से होने वाली बीमारियां आसानी से फैलती हैं। यह भी सच है कि जिन महिलाओं की इम्यूनिटी कमजोर होती है, उनके लिए मौसम में बदलाव से मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इसीलिए महिलाओं को अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को बेहतर बनाने के लिए प्रयास करने चाहिए।

इम्यूनिटी बढ़ने से क्या होता है फायदा

इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होने से कई तरह की बड़ी बीमारियां और इन्फेक्शन शरीर खुद ही कंट्रोल कर लेता है। स्वस्थ लोगों में रोग इम्यून सिस्टम इस तरह से काम करता है कि यह बैक्टीरिया, वायरस और माइक्रोब्स को शरीर से दूर रखता है। यानी हमारे शरीर के भीतर एक सुरक्षा घेरा हमें तमाम तरह के रोगों से बचाता है। इसे ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कहते हैं।

Read more: ये बॉलीवुड एक्ट्रेसेस जो अपने फिटनेस के कारण बच गईं सिजेरियन डिलीवरी से

immune power protect from disease inside

कैसे काम करता है

वातावरण में मौजूद तमाम बैक्टीरिया और वायरस हमारी सांसों के साथ लगातार शरीर के भीतर जाते हैं। शरीर की इम्यूनिटी स्ट्ऱॉन्ग होने पर ये हमें नुकसान नहीं पहुंचा पाते। लेकिन इम्यूनिटी कमजोर होने पर इन कीटाणुओं की ताकत बढ़ जाती है तो ये शरीर के प्रतिरोधक तंत्र को भेद जाते हैं। इसी के असर से मौसमी बीमारियां हमें घेर लेती हैं। सर्दी, जुकाम इस बात की तरफ इशारा करते हैं कि हमारा इम्यून सिस्टम कीटाणुओं को रोकने पाने में नाकाम रहा। वहीं कुछ दिन में फिर से हेल्दी होने का मतलब है कि आपकी इम्यूनिटी फिर से अच्छी हो गई और बाहरी कीटाणुओं पर काबू पा लिया गया। ज्यादातर लोगों में बीमारियों की मुख्य वजह वायरल और बैक्टीरियल इंफेक्शन होता है। इनकी वजह से खांसी-जुकाम से लेकर खसरा, मलेरिया जैसी बीमारियां हो सकती हैं। 

Read more: पहली सर्दी में कैसे करें अपने नन्हें-मुन्ने की care, जानें

immune power protect from disease inside

घट रही है महिलाओं में इम्यूनिटी

डॉक्टरों के मुताबिक इररेगुलर ईटिंग हैबिट्स, अनिद्रा, देर रात तक काम करने और अनियमित दिनचर्या के कारण महिलाओं की इम्यूनिटी घटती जा रही है। इसके अलावा डॉक्टरों के मुताबिक मौसम बदलाव के समय भी बाहरी बैक्टीरिया और वारयस ज्यादा शक्तिशाली हो जाते है और शरीर पर कई तरह के अटैक करते हैं, जिससे हमारी इम्यूनिटी प्रभावित होती है।

 

इस तरह बढ़ाएं इम्यूनिटी

रोग प्रतिरोधक क्षमता का निर्माण शरीर खुद करने में सक्षम है। हमें हेल्दी रखने वाली सभी चीजें अपनी डाइट में शामिल करनी चाहिए। कम खाना खाने वाले या हेल्दी और न्यूट्रिशस डाइट नहीं लेने वाले की इम्यूनिटी कमजोर हो सकती है। फूड सप्लिमेंट्स पर निर्भर होने के बजाय हेल्दी फूड लेने का ऑप्शन बेस्ट है। इसके अलावा प्रोसेस्ड और पैकेज्ड फूड से जितना हो सके, बचाव करें।  प्रिजरवेटिव्स वाले फूड आइटम्स से भी बचना चाहिए। विटामिन सी और बीटा कैरोटीन जैसे तत्व इम्युनिटी बढ़ाते हैं। इसके लिए मौसमी, संतरा या नींबू लें। जिंक का भी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बड़ा हाथ है। जिंक का सबसे बड़ा स्त्रोत सीफूड है। ड्राई फ्रूट्स में भी जिंक भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग रखने के लिए फल और हरी सब्जियां भरपूर मात्रा में खाएं।

Recommended Video