• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

हैवी पीरियड्स के चलते हर घंटे बदलना पड़ता है पैड, तो अपनाएं ये 4 नुस्‍खे

अगर आपको भी पैड को हर घंटे बदलना पड़ता है तो पीरियड्स में बहुत ज्‍यादा ब्‍लड को रोकने के लिए इन नुस्‍खों को आजमाएं।  
author-profile
Published -23 May 2022, 19:28 ISTUpdated -23 May 2022, 20:17 IST
Next
Article
heavy periods remedies

हैवी पीरियड तब होता है जब ब्‍लीडिंग बहुत ज्‍यादा होती है या यह 7 दिनों से अधिक समय तक रहता है। जी हां, हैवी मेंस्ट्रुअल फ्लो के लिए मेडिकल नाम मेनोरेजिया है। मेनोरेजिया से पीड़ित महिलाओं को लगातार कई घंटों तक अपने पैड या टैम्पोन को हर घंटे बदलना पड़ सकता है। मेंस्ट्रुअल फ्लो में नियमित रूप से एक चौथाई या उससे बड़े साइज के ब्‍लड क्‍लॉट दिखाई दे सकते हैं।

हैवी पीरियड्स किसी महिला के जीवन को बाधित कर सकता है और शरीर पर भारी पड़ सकता है। एक महिला बहुत थका हुआ महसूस कर सकता है और लगातार दर्द और ऐंठन का अनुभव कर सकता है। कुछ महिलाओं में हैवी पीरियड्स से बहुत अधिक ब्‍लड की कमी हो जाती है और एनीमिया हो जाता है।

हालांकि, मेनोरेजिया से परेशान किसी भी महिला को किसी अंतर्निहित कारण की पहचान करने के लिए डॉक्टर से बात करनी चाहिए। डॉक्‍टर से बात करने के अलावा, कुछ घरेलू नुस्‍खे और सहायक उपकरण लक्षणों को कम करने और हैवी पीरियड्स को प्रबंधित करने में आसान बनाने में मदद कर सकते हैं। इसकी जानकारी हमें आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट जीतूंचदन जी दे रही हैं। उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से इस नुस्‍खे को शेयर करते हुए एक वीडियो शेयर किया है। 

इसके कैप्‍शन में लिखा है, 'हैवी पीरियड्स या पीरियड्स में बहुत ज्‍यादा ब्‍लड का आना, कई शारीरिक और रोग संबंधी कारणों से होता है। हार्मोनल असंतुलन, मानसिक स्थिति, आहार और जीवनशैली जैसे कई कारक इन पीरियड्स की समस्याओं में योगदान करते हैं। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे कारकों के बारे में बता रहे हैं जो स्थिति को बिगाड़ते हैं। यदि कोई महिला पीरियड्स में ज्‍यादा ब्‍लड आने से परेशान है तो कृपया इनसे बचें।' 

इसे जरूर पढ़ें:पीरियड से जुड़े यह हैक्स उन दिनों की परेशानी को बनाएंगे आसान

बहुत ज्‍यादा सेक्‍सुशल रिलेशन

यह वात दोष को बढ़ाता है, जिससे पीरियड्स में बहुत ज्‍यादा ब्‍लीडिंग होती है।

मसालेदार और हैवी भोजन का सेवन

heavy foods

मसालेदार भोजन पित्त दोष बढ़ता है। साथ ही यह फैटी फूड आपके शरीर में प्रोस्टाग्लैंडीन की संख्या को बढ़ाता है और आपके यूट्रस को अनुबंधित कर सकता है। यूट्रस का संकुचन ऐंठन को बढ़ा देगा और आपको असहज कर देगा। सैचुरेटेड फैट के कारण पीरियड के दौरान फैटी मीट से भी बचना चाहिए जो पीरियड्स के दर्द को बढ़ा सकता है। इसके अलावा आपको हैवी प्रकृति वाले भोजन का सेवन करने से बचना चाहिए। 

पीरियड्स के दौरान हाई मात्रा में सोडियम युक्त खाद्य पदार्थों से भी बचना चाहिए। अधिक मात्रा में सोडियम युक्त भोजन लेने से आपके शरीर में सूजन और पानी की अवधारण और भी बदतर हो सकती है। चिप्स और फ्रेंच फ्राइज से दूर रहें।

इसे जरूर पढ़ें:पीरियड्स में हेल्दी रहने के लिए इन फूड्स का करें सेवन

बहुत ज्‍यादा फास्टिंग

बहुत लंबे समय तक व्रत करने से वात और पित्त दोष में वृद्धि होती है। वही दो दोष मेनोरेजिया से संबंधित हैं। आजकल वजन घटाने के मामले में बहुत लंबे समय तक फास्‍ट करना आम होता जा रहा है। लेकिन ध्यान रखें कि आप अद्वितीय हैं आपके शरीर को जो चाहिए उसके अनुसार करें। लंबे समय तक फास्‍ट करना सभी के लिए उपयुक्त नहीं होता है।

Recommended Video

बहुत ज्‍यादा तनाव या एक्‍सरसाइज

stress remedies

तनाव से बचकर रहने की कोशिश करें। तनाव से बचने के लिए योग और मेडिटेशन का सहारा लें। इसके अलावा, बहुत ज्‍यादा एक्‍सरसाइज भी वजन घटाने के मामले में एक और चीज चलन में है। लेकिन इससे भी आपको पीरियड्स के दौरान बहुत ज्‍यादा ब्‍लीडिंग की समस्‍या  होती है। अपने शरीर पर अधिक दबाव न डालें। इसलिए बहुत ज्‍यादा एक्‍सरसाइज करने से बचें।  

इन नुस्‍खों को आजमाकर आप भी पीरियड्स के दौरान बहुत ज्‍यादा ब्‍लड आने की समस्‍या से बच सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock & Freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।