थकान भरे दिन के बाद घर जाकर राहत मिलती हैं।
शायद आपके साथ भी ऐसा ही होता होगा।
लेकिन कई बार घर में आने के बाद हमें अच्‍छा महसूस नहीं होता है।
क्‍या आपके साथ भी ऐसा होता है?
क्‍या कभी आपने सोचा कि ऐसा क्‍यों होता है? अगर नहीं तो हम आपको बता दें कि घर में मौजूद चीजें भी हमारी हेल्‍थ पर काफी असर डालती है। कई रिसर्च से इस बात का पता चला है। शोधकर्ताओं के अनुसार, अगर आप अपनी हेल्‍थ का ख्याल रखना चाहती हैं तो अपने घर पर एक नजर जरूर डालें?

किचन से बढ़ता है वजन
open kitchen

आजकल हर घर में ओपन किचन देखने को मिल जाती है। अगर आपके घर में भी इस तरह की किचन हैं तो सावधान हो जाये क्‍योंकि इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि जितनी बार हमारी नजर किचन की तरफ जाती है, तो हमारा दिमाग अलमारियों, दराजों या किचन में कहीं पर भी कुछ न कुछ खाने की चीजों को ढूंढता है और खाने की हुड़क उठती है। और बार-बार खाने से हमारा वजन बढ़ने लगता है।
Read more: लाइफ में बढ़ गया है stress तो घबराएं नहीं इन मजेदार तरीकों से कोर्टिसोल करें कम

दीवार के रंग से होता है stress  

NHS Hospital और Lighting की रिपोर्ट के अनुसार घर की दीवारों को रंग ऑरेज या red होने पर घर के लोगों में मोटापे और तनाव की समस्या पैदा होने और बढ़ने का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही इससे स्किन में itching और जलन जैसी शिकायत तक होने लगती है। Eating Behavior Specialist Brian Wansink at Cornell University in America के अनुसार, ब्राइट लाइट से हमारे ब्रेन में गड़बड़ियां पैदा होने लगती है और इससे हमें जल्दी-जल्दी और ज्यादा-ज्यादा खाने की आदत पड़ती हैं और मोटापा बढ़ने लगता है।

बेडरूम में नीला रंग
blue colour paint

हर रंग कुछ कहता है यह बात तो हममें से अधिकतर महिलाएं जानती हैं, लेकिन क्या आप जानती हैं कि घर का रंग, दीवारों का रंग दरवाजे और खिड़कियों का रंग भी हमारी रोजमर्रा की लाइफ पर काफी असर डालता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, अगर आपके बेडरूम का रंग नीला है तो नीला रंग महिलाओं को अच्छी और लंबी नींद में सहायक होता है। इसलिए अगर आप अच्छी नींद लेना चाहती हैं तो अपने बेडरूम की दीवारों को हल्के नीले रंग से सजाये।

लाइट का हेल्‍थ पर असर 

क्‍या आप जानती हैं कि घर में जलने वाली लाइट से आपकी मेंटल हेल्‍थ पर असर पड़ता है। ब्रेस्‍ट कैंसर रिसर्चर डॉक्‍टर रिचर्ड स्‍वीवन्‍स ने जर्नल Philosophical Transaction में लिखा है कि तेज लाइट (ट्यूबलाइट, बल्ब की रोशनी) आपके mental health पर असर डालती है। इसलिए महिलाओं को शाम के समय डिम और हल्के रंग की रोशनी इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती हैं। उनके अनुसार इससे हमारी बॉडी के क्लॉक पर कम असर पड़ता है। और हमारा मन शांत रहता है।

घर के पर्दों का वेट पर असर
curtain colour

आपको सुनकर थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन ऐसा होता है। घर में पतले पर्दें लगाने वाले महिलाओं का वेट मोटे पर्दें लगाने वालों की तुलना में ज्यादा होता है। Institute of cancer रिसर्च के अनुसार, अगर आपके घर में पतले पर्दें हैं और बाहर स्ट्रीट लैंप की रोशनी उनसे छन कर आ रही है तो यह अपके लिए मोटापा बढ़ने का संकेत है। Ohio State University के रिसर्च के अनुसार, जिन महिलाओं के बेडरूम के पर्दें पतले होते है और वे रात में भी दूर तक पर्दें के आरपार देख सकती है, ऐसी महिलाओं की वेस्टलाइन अन्य महिलाओं मे मुकाबले अधिक बढ़ जाती हैं।

शुगरी फूड

अगर आपके घर पर चीनी और इससे बने फूड हैं तो इनसे आपका वजन तो बढ़ेगा साथ ही अधिक शुगर का इस्तेमाल करने से डायबिटीज की भी संभावना बढ़ेगी। क्योंकि अगर आपके घर में मिठाई या बेकरी का सामान रखती हैं तो इसे खाने से खुद को रोक नहीं पायेंगी और यह आदत आपकी हेल्‍थ के लिहाज से अच्‍छी नहीं है। इसलिए शुगरी फूड अपने घर में रखने से बचें।
अब तो आपको पता लग ही गया होगा कि आपके बढ़ते वजन और तनाव का कारण घर में मौजूद ये चीजें हैं।

Read more: इस तरह बॉडी डिटॉक्स करके आप लंबे समय तक रह सकती हैं slim