डायबिटीज यानि शुगर एक ऐसी बीमारी है जो ब्‍लड में ग्‍लूकोज का लेवल बढ़ने से होती है और जिसकी चपेट में हर 5 में से 3 लोग हैं। डायबिटीज को कंट्रोल में रखने के लिए खाने-पीने की आदतों को कंट्रोल में रखना बेहद जरूरी होता है। अंडों में कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल अधिक पाया जाता है, जिसके कारण डायबिटीज से ग्रस्‍त लोगों को आमतौर पर अंडे से बचने की सलाह दी जाती है। अगर आपको भी अंडे पसंद हैं और डायबिटीज के कारण इसे खाने से घबराती हैं तो अब घबराने की जरुरत नहीं है क्‍योंकि एक नए शोध से पता चला है कि डायबिटीज के मरीज भी अंडे बेहिचक अंडे खा सकते हैं।

जान लें क्या है टाइप-2 डायबिटीज

इस टाइप की डायबिटीज से पीड़ित लोगों का ब्लड शुगर का लेवल बहुत ज्यादा ही बढ़ जाता है जिसे बाद में कंट्रोल में करना काफी मुश्किल होता है। इससे पीड़ित शख्स को बहुत ज्यादा प्यास लगती है बार-बार बाथरूम और लगातार भूख लगती है। इंसुलिन भी बॉडी में सही तरीके से काम नहीं कर पाता।

diabetes health egg in
Image Courtesy: Shutterstock.com

अंडा खाने से कम होता है खतरा

टाइप-2 डायबिटीज दुनिया में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन हाल ही में हुए शोध में यह बात कहीं गई है कि डायबिटीज के मरीज अब रोजाना बेहिचक अंडे खा सकते हैं और ऐसा करने में उन्हें कोई नुकसान नहीं होने वाला है। एक नए शोध में पता चला है कि हफ्ते में 12 अंडे तक खाने से डायबिटीज की पूर्व अवस्था वाले अथवा टाइप टू डायबटिज वाले मरीजों को दिल की बीमारियों का कोई खतरा नहीं है।

Read more: बच्‍चों में तेजी से बढ़ रहा है Type-1 Diabetes, मां ऐसे करें अपने बच्‍चे की केयर

अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक शोध के हवाले से बताया गया है कि अंडों का ब्‍लड में कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल पर कोई असर नहीं पड़ता है। इस शोध के सह लेखक और सिडनी यूनिवर्सिटी  के निकोलस फुलर ने कहा, "डायबिटीज की पूर्व अवस्था और टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों के लिए अंडे खाने के सुरक्षित स्तर के बारे में सलाह में मतभेद के बावजूद हमारा शोध इंगित करता है कि अगर अंडे आपके खानपान की शैली का हिस्सा हैं, तो इन्हें खाने से परहेज मत करिए।"

उन्होंने कहा कि इस शोध में संतृप्त वसा अम्ल जैसे मक्खन के स्थान पर एकल संतृप्त वसा अम्ल खासकर एवोकाडो तथा ऑलिव ऑयल अपनाने की सलाह दी गई है।

egg benefits health in

अंडे के फायदे

उन्होंने कहा कि अंडे प्रोटीन और सूक्ष्म पोषक तत्वों को अच्छा साधन हैं और इनके खाने से अनेक फायदे होते हैं, जो आंखों तथा दिल की सेहत के लिए अच्छे तो हैं ही, ये ब्लड वेसल्‍स को हेल्‍दी रखने में भी मददगार हैं और प्रेग्‍नेंसी में इन्हें खाने की सलाह दी जाती है।

भारत में पिछले पांच वर्षों में मधुमेह पीड़ितों की संख्या 69. 2 से मिलियन से भी ज्यादा हुई। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया था कि अंतराष्ट्रीय मधुमेह संघ (आईडीएफ) के मुताबिक भारत में डायबिटीज रोगियों की संख्या वर्ष 2011, 2013 और 2015 में क्रमश 61.3 मिलियन, 65. 1 मिलियन और 69. 2 मिलियन थी।

Recommended Video