बदलती लाइफस्‍टाइल के चलते युवाओं का नशे प्रति रुझान बढ़ता ही जा रहा है। शराब का सेवन करना आजकल युवाओं के लिए स्‍टेटस सिंबल बनता जा रहा है। हालांकि इसके पीने के नुकसानों के बारे में जानकारी हम सभी को हैं, लेकिन ज्‍यादातर युवाओं को सिर्फ यही लगता है कि इसे पीने से लीवर खराब हो जाता है। आज हम आपको एक ऐसे नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं, शायद इसे जानने के बाद आप शराब को छूने पसंद नहीं करेंगी। जी हां एक नई रिसर्च के अनुसार जवानी में ज्‍यादा शराब पीने से आपके ब्रेन पर असर होने लगता है। रिसर्च के अनुसार, अगर आप अपने किशोरावस्था में हैं और बहुत ज्‍यादा शराब पीते/पीती हैं तो आपकी अल्पकालिक याददाश्त इससे प्रभावित हो सकती है।

Read more: तेजी से फैल रही इस बीमारी की जानकारी होना है बेहद जरूरी

alcohol health inside

शराब का दिमाग पर असर

अगर आपने बहुत कम उम्र में ही शराब पीनी शुरू कर दी है तो यह आपके लिए घातक हो सकता है। इससे लीवर पर तो बुरा असर पड़ता ही है, मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य भी बिगड़ सकता है। एक नए शोध में यह तथ्‍य सामने आया है कि कम उम्र में ही ज्‍यादा शराब पीने की आदत अल्पकालिक याददाश्त पर बुरा असर डालती है। जेनूरोसी पत्रिका में प्रकाशित शोध के निष्कर्ष के मुताबिक, किशोरावस्था में अत्यधिक शराब पीने से दिमाग की उन कोशिकाओं की गतिविधियां बाधित होती हैं, जो अल्पकालिक याददाश्त के लिए जिम्मेदार होती है।

alcohol affects mental health inside

क्‍या कहती है रिसर्च

न्यूयार्क के कोलंबिया यू‍निवर्सिटी के माइकेल सेलिंग समेत शोधकर्ताओं के मुताबिक, प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स (पीएफसी) किशोरावस्था के दौरान परिपक्व होता है, यह व्‍यवहार प्रबंधन में अपनी भूमिका निभाता है। किशोरावस्था में अत्यधिक शराब पीने से उसकी कार्यक्षमता पर असर पड़ता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि किशोरावस्था में अल्कोहल के सेवन से दिमाग के पीएफसी पायरामिडल न्यूरॉन्स के गुणों में बदलाव आ जाता है, जो पीएफसी को दिमाग के अन्य क्षेत्रों से जोड़ता है, वह गुण प्रभावित होता है, इससे व्यवहार का विनिमयन प्रभावित होता है।

Read more: कम पानी पीने से दो गुनी तेजी से बढ़ती है ये बीमारी

शोधकर्ताओं ने कहा कि जो किशोरावस्था में शराब का सेवन करते/करती हैं, उनकी पीएफसी की गतिविधियों में शिथिलता आ जाती है, इससे उन्हें संज्ञानात्मक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और बाद में यह शराब पीकर हुड़दंग करने, मारपीट करने जैसी गतिविधियों में बदल जाती है।