सेहतमंद रहने का एक ही फंडा है' हेल्‍दी खाओ और हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल जीओ', मगर वर्तमान समय में इस फंडे को नियमित रूप से नहीं अपनाया जा सकता है। खासतौर पर तब, जब कोविड-19 संक्रमण की वजह से हमारा ज्‍यादा वक्‍त घर पर ही बीत रहा हो और बहुत ज्‍यादा हेल्‍दी डाइट के विकल्‍प भी कम हों। 

ऐसे में सेहत से जुड़ी बहुत सारी परेशानियों का हमें सामना करना पड़ रहा है। इनमें से एक है ब्‍लॉटिंग की समस्‍या, जिसे आम भाषा में हम पेट फूलने की परेशानी के रूप में जानते हैं। इस समस्‍या का सामना अक्‍सर गलत खान-पान और खराब लाइफस्‍टाइल की वजह से लोगों को करना पड़ता है। 

इस बारे में फेमस न्‍यूट्रिशनिस्‍ट ऊष्मा छेदा ने अपने ब्‍लॉग में लिखा है, ' पेट फूलने की शिकायत बेहद आम है और यह किसी भी उम्र के व्‍यक्ति को हो सकती है। इस समस्‍या का कारण कुछ भी हो सकता है। अलग-अलग व्‍यक्ति को ब्‍लॉटिंग की समस्‍या अलग-अलग कारणों से हो सकती है। उदाहरण के तौर पर किसी को ब्‍लॉटिंग केवल सेब खाने से भी हो सकती है, वहीं दूसरे व्‍यक्ति को सेब खाने से किसी भी तरह की दिक्‍कत नहीं होती है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप अपनी एक फूड डायरी मेंटेन करके रखें।'

इतना ही नहीं, ऊष्मा ब्‍लॉटिंग की समस्‍या से निजात पाने के लिए कुछ घरेलू नुस्‍खे भी बताती हैं। 

पेट फूलने के कारण

  • कब्‍ज की समस्‍या की वजह से आपको पेट फूलने की शिकायत हो सकती है। 
  • यदि आप जरूरत से ज्‍यादा भोजन कर लेते हैं तो पेट फूलने लगता है। 
  • खाना खाने के तुरंत बाद सो जाने या लेट जाने से भी पेट के फूलने की शिकायत हो जाती है। 
  • बढ़ते हुए वजन को यदि कम न किया जाए तो यह भी पेट फूलने का कारण हो सकता है। 
  • बीज युक्‍त या फिर गैस बनाने वाली बादी सब्जियों को ग्रहण करने के बाद यदि गैस बन रही है तो इससे भी पेट फूल सकता है। 
 
expert tips on bloting

सौंफ का पानी पिएं 

फायदा- सौंफ का सेवन करने से इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम यानी आंतों से संबंधित विकार की शिकायत दूर होती है। अगर आपको पेट फूलने की दिक्‍कत है तो आप सौंफ का सेवन 3 तरह से कर सकती हैं- 

कैसे करें इस्‍तेमाल- 

  1. खाना खाने के बाद आपको एक चम्‍मच सौंफ का सेवन करना चाहिए। 
  2. आप चाहें तो सौंफ को मसाले की तरह अपनी सलाद और सब्‍जी में डाल सकती हैं। 
  3. इसके अलावा आप रात भर सौंफ को 1 ग्‍लास पानी में भिगो कर रखें और सुबह उसी पानी का सेवन कर लें।  

दही का सेवन करें- 

फायदा- दही में प्रोबायोटिक मौजूद होता है। यह एक तरह के हेल्‍दी बैक्‍टीरिया होते हैं जो खाने को पचाने में मदद करते हैं। यदि आपको पेट फूलने की समस्‍या है तो आप दही को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। आप दही में जीरा भी डाल सकती हैं। 

सामग्री 

  • 1 कटोरी दही 
  • 1 छोटा चम्‍मच काला नमक 
  • 1 छोटा चम्‍मच भुना जीरा 
  • चुटकीभर हींग 

विधि 

  • आप जीरे और हींग को अच्‍छी तरह से भून लें। 
  • अब दही में भुना जीरा और नमक डालें और इसे अच्‍छी तरह से मिक्‍स करें। 
  • इसके बाद आप इस दही का सेवन कर सकती हैं। 
home treatment of bloating

अदरक का करें इस्‍तेमाल 

फायदा- अगर आपको गैस की समस्‍या की वजह से ब्‍लॉटिंग हो रही है तो आपको अदरक का सेवन करना चाहिए। आप अदरक का इस्‍तेमाल 3 तरह से कर सकती हैं। 

कैसे करें इस्‍तेमाल- 

  1. आप अदरक का छोटा सा टुकड़ा मुंह में रख कर उसे धीरे-धीरे चबा सकती हैं। 
  2. पानी में अदरक को उबाल कर उस पानी का सेवन कर सकती हैं। 
  3. अपने आहार में आप अदरक को शामिल कर सकती हैं। जैसे सलाद और सब्‍जी में अदरक का इस्‍तेामल करें। 

Recommended Video

पपीता खाने से मिलेगा फायदा 

फायदा- पपीते को पेट के लिए बहुत ही अच्‍छा माना जाता है। इसमें पपाइन तत्‍व पाया जाता है। यह आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्‍त रखता है और पेट फूलने की समस्‍या में राहत पहुंचाता है। 

कैसे करें पपीते का इस्‍तेमाल- 

  1. आप कच्‍चे पपीते की सब्‍जी बना सकती हैं। 
  2. पका हुआ पपीता आप फ्रूट चाट की तरह खा सकती हैं। 
home remedies of bloating

पुदीने की चाय से मिलेगी राहत 

फायदा- पुदीना में फिनोलिक कंपाउंड होता है। यह भी आंतों से संबंधित विकार को दूर करता है। साथ ही पाचन क्रिया को भी दुरुस्‍त रखता है। 

सामग्री 

  • 15-20 पुदीना की ताजी पत्तियां 
  • 1 कप पानी 
  • 1 बड़ा चम्‍मच शहद 

विधि 

  • सबसे पहले पुदीना की पत्तियों को पानी में अच्‍छी तरह से उबाल लें। 
  • अब आप पुदीना के पानी को छान लें। 
  • जब पानी थोड़ा गुनगुना हो जाए तो उसमें शहद मिलाएं। 
  • फिर आप इस पानी को पी जाएं। 

यदि आप इस घरेलू उपायों को अपनाती हैं तो पेट फूलने की समस्‍या से चुटकियों में राहत पा सकती हैं। यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें। साथ ही इसी तरह और भी सेहत से जुड़ी टिप्‍स पाने के लिए पढ़ती रहें हरजिंदगी। 

Image Credit: Freepik