मानव शरीर में दिल सबसे महत्वपूर्ण अंग है और इसे ध्यान से संरक्षित करने और स्वस्थ कार्यशील अवस्था में रखने की आवश्यकता है। योग एक समग्र स्वास्थ्य अभ्यास है जो शरीर, मन और आत्मा के लिए बहुत उपयोगी है। योग के माध्‍यम से हार्ट अटैक के जोखिम को कैसे कम किया जा सकता है? इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

स्ट्रेस से रहें दूर

योग के नियमित अभ्यास से मन और दिल हल्का और तनाव मुक्त रहता है। तनाव के कारण बढ़े हुए कोर्टिसोल के लेवल के परिणाम से शुगर और ब्‍लड प्रेशर के लेवल में वृद्धि हो सकती है जो दिल पर प्रेशर डालता है। इसलिए तन और मन को तनावमुक्त रखना बहुत जरूरी है।

ध्यान के लाभ

स्वास ध्यान जैसे किसी भी प्रकार की सांस जागरूकता की मदद से मन को शांत और धीमा करने के लिए ध्यान करें। निरंतर अभ्यास के माध्यम से, आप अधिक आराम से आंतरिक स्थिति के लाभों को प्राप्त करना शुरू कर देंगे।

योग का अभ्यास करें - आसन

योग एक समग्र स्वास्थ्य उपकरण है जो शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। आसनों को सावधानी से और किसी अनुभवी चिकित्सक या शिक्षक के मार्गदर्शन या देखरेख में करने की आवश्यकता है।

  • अडोमुखी स्वानासन
  • भुजंगासन
  • मर्ज़री आसन
  • संतोलानासन
  • अष्टांग प्रणामासन
  • अश्वसंचलानासन
  • वज्रासन
  • ताड़ासन
  • हस्त उत्थानासन
  • बालासन

योग मुद्रा

  • सबसे पहले बैठने की किसी भी आरामदायक मुद्रा में बैठ जाएं।
  • हथेलियों को ऊपर की ओर जांघों या घुटनों पर रखते हुए हाथों को रखें।
  • पद्मासन, सिद्धासन, स्वास्तिकासन, वज्रासन आदि ध्यान मुद्राएं मुद्रा के अभ्यास के लिए आदर्श हैं।

हृदय मुद्रा (संजीवनी मुद्रा)

hridaya mudra sanjeevani mudra

हृदय मुद्रा को मृत्युसंजीवनी मुद्रा या दिल का हाव भाव भी कहा जाता है। इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से हृदय की धमनियों में सामान्य हृदय रोग या रक्त प्रवाह न होने पर दिल का दौरा पड़ने की संभावना न के बराबर हो जाती है।

  • अपनी आंखें बंद करें और सांस लेने की प्रक्रिया के प्रति जागरूकता के साथ कुछ गहरी सांसें लें।
  • अपने दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें और हथेलियां आसमान की ओर होनी चाहिए।
  • अब अपने हाथ की तर्जनी को मोड़कर अंगूठे की जड़ में लगाएं और
  • मध्यमा और अनामिका के पहले सिरे को अंगूठे के पहले सिरे से स्पर्श करें और हल्के से दबाएं।
  • बाकी छोटी उंगली को जितना हो सके फैला कर रखना चाहिए।

Recommended Video

 

प्राण मुद्रा कदम

  • अनामिका और छोटी उंगली की युक्तियों को अंगूठे की नोक से जोड़ना होता है।
  • अन्य सभी उंगुलियों को सीधा बढ़ाया जाना चाहिए।
  • समान अवधि के लिए सांस लें और छोड़ें।
  • श्वास लें और श्वास छोड़ें (ध्वनि जप द्वारा)
  • यदि स्थिति पुरानी है, तो इस मुद्रा को एक बार सुबह और एक बार शाम को 15 मिनट तक रखें।

हकीनी मुद्रा

hakini mudra

  • इस मुद्रा का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले हथेलियों को एक दूसरे के सामने कुछ इंच की दूरी पर लाएं। 
  • दोनों हाथों की उंगलियों और अंगूठे को एक साथ लाएं, जिससे वे हल्का संपर्क बनाए रख सकें। 
  • हाथों को माथे के केंद्र में तीसरे नेत्र चक्र के स्तर तक भी उठाया जा सकता है।
  • नासिका छिद्र से सांस लें, और प्रत्येक श्वास के साथ जीभ को मुंह की छत पर रखें, और प्रत्येक श्वास के साथ आराम करें।

सूर्य और चंद्र नमस्कार के अभ्यास की भी नियमित रूप से सिफारिश की जाती है। हृदय को स्वस्थ रखने के लिए ये प्रवाह बहुत अच्छे हो सकते हैं। चंद्र नमस्कार इड़ा नाडी या शरीर के चंद्र चैनल को प्रभावित करता है और इसे एक प्रभावी हृदय-खोलने वाला माना जाता है। इस क्रम को सुबह जल्दी या शाम को सप्ताह में कम से कम तीन बार करें। 

भस्त्रिका और भ्रामरी जैसे प्राणायाम तकनीकें भी आपके दिल की रक्षा करने और हृदय संबंधी किसी भी विकार को रोकने या देरी करने में आपकी मदद कर सकती हैं। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।