दुनिया में कोई और भूमिका नहीं है जो शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से मातृत्व की मांग के रूप में है। इसके लिए जीवन भर समर्पण, अथक प्रयास, रातों की नींद असंख्य बलिदान और कठिन परिश्रम की आवश्यकता होती है। माताओं को हमेशा अपने बच्चों की खुशी और आराम पर ध्यान रहता है, बिना किसी वेतन, प्रोत्साहन, पदोन्नति या कोई छुट्टी लिए वह सब करती हैं। माताओं को अलौकिक शक्ति का आशीर्वाद दिया जाना चाहिए ताकि वह लगातार, कठोर और निरंतर भूमिका निभा सकें। 

इसलिए आज हम आपको माताओं की फिटनेस के लिए एक योग आसन के बारे में बता रहे हैं जिसे हर मां अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकती है। इसके बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं। वज्रासन हर मां के लिए एक आसन है। यह एक सरल और बुनियादी स्तर का आसन है जिसे किसी भी पृष्ठभूमि से कोई भी कर सकता है।

वज्रासन एक घुटने टेकने वाली मुद्रा है और यह संस्कृत शब्द वज्र से अपना नाम लेता है, जिसका अर्थ है हीरा या वज्र। इस डायमंड पोज को कभी-कभी एडमिनटाइन पोज के नाम से भी जाना जाता है। वज्रासन को डाइजेशन के लिए अनुशंसित किया जाता है और भोजन का सेवन करने के तुरंत बाद किया जा सकता है। यह ध्यान और प्राणायाम के लिए भी एक अच्छी स्थिति है।

वज्रासन करने का तरीका

Vajrasan inside

  • सीधे अपनी बाहों से अपनी तरफ से शुरुआत करें। 
  • धीरे-धीरे अपने घुटनों को नीचे लाएं और अपनी चटाई पर घुटने रखें। 
  • अपने पैर की उंगलियों के साथ बाहर की ओर इशारा करें।  
  • अपनी एड़ी को थोड़ा अलग रखें। 
  • अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर रखें जो कि प्रपथी मुद्रा में बैठें।  
  • अपनी पीठ को सीधा करें और आगे की ओर देखें। 
  • इस आसन को कुछ देर के लिए रोककर रखें।

वज्रासन के फायदे 

  • पाचन में सहायक होता है।  
  • कब्ज से राहतदेता है या रोकता है। 
  • पेल्विक मसल्स को मजबूत बनाता है।  
  • मन को शांत रखता है।
  • पाचन अम्लता और गैस को ठीक करता है। 
  • घुटनों के दर्द से राहत दिलाने में मददगार। 
  • थाइज की मसल्‍स को मजबूत बनाता है।
  • कमर दर्द से राहत दिलाता है। 
  • यूरिन संबंधी समस्याओं का इलाज करता है। 
  • पेट के निचले हिस्से में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है। 
  • मोटापा कम करता है। 
  • पीरियड्स की ऐंठन को कम करता है।
Vajrasan inside

सांस लेने की पद्धति

  • धीरे-धीरे श्वास लें और छोड़ें।

सावधानी

  • यदि आप घुटने के जोड़ों के दर्द, अर्थराइटिस या किसी भी घुटने की चोट से पीड़ित हैं तो कृपया इस आसन से बचें।

Recommended Video

आसन, प्राणायाम या ध्यान के माध्यम से; यहां तक कि केवल अपनी सांस के प्रवाह को देखने से - श्वास (पुराक), प्रतिधारण (कुंभक) और सांस छोड़ना (रेचक), एक चिह्नित अंतर को महसूस कर सकता है। योग शांति और विश्राम की लगभग तुरंत भावना लाता है। नियमित अभ्यास के साथ, आप ऊर्जावान, और तरोताजा महसूस करेंगे। बहु-कार्य की क्षमता को काफी बढ़ाया जाएगा, और आपके सहनशक्ति के स्तर में भी वृद्धि होगी। सूर्य नमस्कार और चंद्र नमस्कार दोनों का शरीर, मन और आत्मा के लिए व्यापक लाभ है। इस अभ्यास से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए अपनी सांस के साथ-साथ अपने शरीर के संरेखण पर ध्यान दें।

अगर आप भी एक मां हैं तो फिट रहने के लिए अपने रूटीन में इस योगासन को जरूर शामिल करें। इस आसन को आप कभी भी और कही भी आसानी से कर सकती हैं। फिटनेस से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com