कोविड-19 की वजह से हम सभी की फिजिकल एक्टिविटी काफी कम हो गई है और इस पैंडेमिक ने बच्चों की मानसिक और शारीरिक गतिविधियों पर भी असर डाला है। बच्चों को भूख ना लगना, इम्यूनिटी कम होना, फिजिकल फिटनेस में कमी, ध्यान ना लगा पाना जैसी कई समस्याएं हो रही हैं और ये बहुत जरूरी है कि बच्चे अपने लिए सही तरह से एक्सरसाइज भी करे। बच्चों को कई तरह की फिजिकल फिटनेस की आदत डालनी चाहिए जिससे उनका ध्यान इस ओर बढ़ सके। 

बच्चों को किस तरह से एक्सरसाइज करनी चाहिए और कौन सी स्ट्रेचिंग टिप्स उनके लिए फायदेमंद हो सकती हैं ये जानने के लिए हमने Aster RV हॉस्पिटल बेंगलुरु की चीफ फिजियोथेरेपिस्ट पलक डेंगला से बात की। 

पलक जी ने हमें बताया कि बच्चों के लिए एरोबिक मूवमेंट्स भी काफी मददगार साबित हो सकते हैं जैसे कूदना, जॉगिंग करना आदि उन्हें बढ़ने में मदद करते हैं। सोलो स्पोर्ट्स में हिस्सा लेने से बच्चे ज्यादा लचीले बनते हैं और वो अगर एक्सरसाइज करते हैं तो उनकी फ्लेक्सिबिलिटी ज्यादा चलती है।

children stretches

इसे जरूर पढ़ें- एक्सरसाइज से पहले करें ये 4 वार्मअप, मिलेंगे सुपर फायदे

एक्सरसाइज और स्ट्रेचिंग के क्या हैं फायदे?

एक्सरसाइज और स्ट्रेचिंग के कई फायदे भी हैं जहां आपका बच्चा सिर्फ फिजिकल ही नहीं बल्कि मेंटल ग्रोथ भी होती है। 

  • ये हेल्दी वेट को प्रमोट करती है
  • इससे कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ बेहतर होती है
  • ये बैलेंस बनाने में मददगार है
  • फ्लेक्सिबिलिटी के लिए अच्छा है
  • ये कोआर्डिनेशन के लिए भी अच्छा है
  • ये आपके बच्चे की स्ट्रेंथ को बेहतर बनाता है 

कॉमन एक्सरसाइज जो बच्चे के लिए अच्छी है- 

पलक जी ने हमें ये भी बताया कि कौन सी एक्सरसाइज बच्चों के लिए बहुत अच्छी साबित हो सकती हैं- 

1. पुल अप्स-  

एक मंकी बार आप अपने घर में भी इंस्टाल कर सकते हैं। लटकने से हाइट बढ़े न बढ़े ये बच्चों के लिए एक हेल्थ एक्सरसाइज जरूर साबित हो सकती है। बच्चों को शुरुआत से ही पुल अप्स की आदत डालें। 30-50 पुल अप्स उनके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं। हां, बढ़ती उम्र में ये हाइट बढ़ाने में भी सहायक हो सकते हैं।  

exercise for growing children

2. क्रंचेज- 

पेट के क्रंचेज आपके बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद होंगे और ये डायजेशन से लेकर पेट की एक्सरसाइज करने तक सभी में फायदेमंद होंगे। बास्केटबॉल या फुटबॉल को आपका बच्चा प्रॉप की तरह इस्तेमाल कर सकता है। 30-50 एब क्रंचेज बहुत अच्छे हो सकते हैं।  

3. जंपिंग जैक्स- 

जैसा कि नाम बता रहा है जंपिंग जैक्स आपके बच्चे के लिए फन एक्सरसाइज हो सकती है जो उसकी हड्डियों के लिए बहुत अच्छी साबित होगी। ये बच्चे का स्टैमिना बढ़ाने के लिए भी अच्छी है।  

4. पुश अप्स- 

ये बहुत ही अच्छा फुल बॉडी वर्कआउट हो सकता है जिसके लिए किसी भी एक्स्ट्रा चीज की जरूरत नहीं होती। दिन के 30 पुश अप्स बच्चे के पूरे विकास में मदद कर सकते हैं।  

5. बर्पी- 

कम इंटेंसिटी का वर्कआउट बच्चों के लिए अच्छा हो सकता है। बच्चों में एनर्जी बहुत होती है और ये वर्कआउट उनके लिए बहुत अच्छा होगा।  

6.  दौड़ना- 

ये सबसे बेसिक एक्सरसाइज होते हुए भी बच्चों के लिए बहुत अच्छी एक्सरसाइज साबित हो सकती है। ये बच्चों के ज्यादा डेवलपमेंट के लिए अच्छी होती है। ये बच्चे के वजन को भी सही रखने में मदद करेगी। बच्चों के लिए बैलेंस बनाना सीखने में दौड़ना बहुत सहायक होता है।  

7. रस्सी कूदना- 

रस्सी कूदने में ब्रेन-बूस्टिंग प्रॉपर्टीज होती हैं और ये हार्ट रेट बढ़ाने के साथ-साथ पूरे शरीर पर काम करती है। ये आपकी कोर स्ट्रेंथ को भी बढ़ा सकती है।  

stretches for children and exercise

8. स्क्वेट्स- 

जितना फायदेमंद स्क्वेट्स एडल्ट्स के लिए होता है उससे ज्यादा ये बच्चों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। ये ना सिर्फ उनकी ताकत को बढ़ाएगा बल्कि इससे सेल्फ कॉन्फिडेंस भी बढ़ता जाएगा।  

9. योगा और स्ट्रेचिंग- 

योगा पॉश्चर आपके बच्चे के लिए अच्छे हो सकते हैं। कोबरा पोज, चाइल्ड पोज, बेबी पोज आदि बच्चे की नसों के लिए अच्छे होंगे और ये फ्लेक्सिबिलिटी भी बनाए रखेंगे। ये स्ट्रेचिंग रूटीन बच्चों को रिलैक्स करने में भी मदद करसकता है।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- बच्‍चा एक्‍सरसाइज करने से कतराता है तो ये 5 मजेदार तरीके अपनाएं 

10. बियर क्रॉल- 

हाथों और पैरों दोनों पर चलना और जानवर की तरह पेट को नीचे की ओर रखना बियर क्रॉल कहलाता है। ये बढ़ते बच्चों के लिए फुल बॉडी वर्कआउट साबित हो सकता है। ये हाथों और पैरों दोनों में काफी स्ट्रेंथ रखती है।  

आजकल के समय में ये बहुत मुश्किल है कि बच्चों को रेगुलर एक्सरसाइज में इंगेज करना काफी मुश्किल हो सकता है, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाए तो वीडियो गेम्स और स्मार्टफोन आदि के बढ़ते इन्फ्लुएंस के कारण उनमें कई तरह की बीमारियां और मोटापे की समस्या हो सकती है। फिजिकल एक्टिविटी की कमी समय के साथ ज्यादा खतरनाक हो सकती है और इसलिए उन्हें शुरू से ही फिजिकल एक्टिविटी की आदत डालें।  

लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल करना, ट्रॉली की जगह पेपर बैग्स में सामान लाना और ऐसी ही छोटी-छोटी चीज़ें उन्हें बेहतर बना सकती हैं। अपने बच्चों की आदत शुरू से ही बनाएं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।