आजकल ज्‍यादातर महिलाएं बढ़ते हुए वजन खासतौर पर पेट के आस-पास जमा चर्बी से परेशान हैं। पेट के पास जमा चर्बी न केवल आपकी सुंदरता को कम करती है बल्कि आप कई तरह की बीमारियों की चपेट में भी आ जाती हैं। बढ़ता वजन किसी को भी अच्‍छा नहीं लगता है इसलिए महिलाएं इससे बचने के लिए कई तरह के उपाय अपनाती हैं। वह डाइटिंग से लेकर एक्सरसाइज और बाजार में मिलने वाले वेट लॉस प्रोडक्‍ट तक, न जाने क्‍या-क्‍या नहीं अपनाती हैं। हालांकि पेट की जिद्दी चर्बी को कम करना इतना आसान नहीं है लेकिन नामुमकिन भी नहीं है। आप कुछ योगासन को अपने फिटनेस रूटीन में शामिल करके इसे आसानी से कम कर सकती हैं। इन योगासन के बारे में स्‍वामी रामदेव अक्‍सर बताते रहते हैं। 

अगर आप भी पेट की चर्बी से परेशान हैं तो इन योगासन को अपने रूटीन में शामिल करें। मोटापे से छुटकारा पाने के लिए रोजाना कुछ देर योगासन जरूर करना चाहिए। ऐसा करने से आप कुछ ही दिनों में कई किलो वजन कम कर सकती हैं। 

चक्‍की चलनासन

Chakki Asanas for belly fat inside

इस योगासन को करने पर आकृति चक्‍की चलाने जैसी हो जाती है इसलिए इसका नाम चक्‍की चलनासन आसन है। यह आसन उस तरह किया जाता है, जिस तरह हाथ से आटा पीसने वाली चक्‍की चलाई जाती है। इसे करना बिल्‍कुल भी मुश्किल नहीं है बस आपको उसी तरह करना है जैसे कभी आपने अपने बड़ों को चक्‍की चलाते देखा होगा। इस आसन को करने से बैली फैट घटाने में मदद मिलती है। अक्‍सर मां बनने के बाद महिलाओं का पेट लटकने लगता है जो दिखने में काफी  भद्दा लगता है लेकिन इस आसन को करने से लटके हुए पेट को वापस शेप में लाने में मदद मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें:ये 2 टिप्‍स अपनाएंगी तो पेट का जिद्दी फैट तेजी से होगा कम

चक्‍की चलनासन करने का तरीका

  • इसे करने के लिए मैट बिछाकर बैठ जाएं।
  • फिर अपने दोनों पैरों को बिल्‍कुल सामने की ओर फैला लें।
  • बैठने के बाद दोनों हाथों को जोड़कर पैरों के पास लाएं।
  • दोनों हाथों को जोड़े हुए ही इसे क्‍लॉक वाइज घुमाना शुरू करें। ठीक वैसे जैसे चक्‍की चलाई जाती है।
  • इसी तरह एंटी क्‍लॉक वाइज घुमाएं। 
  • शुरूआत में आप इसे 5 मिनट कर सकती हैं। फिर क्षमतानुसार समय को बढ़ा सकती हैं।

तिर्यक ताड़ासन

triyak tadasana for belly fat inside

जो महिलाएं तेजी से अपना मोटापा कम करना चाहती हैं उन्‍हें रोजाना 3 से 4 बार इस आसन को करना चाहिए। यह पेट की चर्बी को कम करने के साथ-साथ पूरे शरीर की चर्बी को कम करता है। कमर पतली होती है और साइड से चर्बी कम होती है। साथ ही इसके नियमित अभ्यास से शरीर फ्लेक्सिबल बनता है।

तिर्यक ताड़ासन करने का तरीका

  • इसे करने के लिए सबसे पहले ताड़ासन में खड़ी हो जाएं। 
  • दोनों पैरों के बीच थोड़ा गैप और पैर बिल्कुल सीधे होने चाहिए। 
  • दोनों हाथों की उंगुलियों को आपस में मिला लें। 
  • इन्हें सिर के ऊपर उठाएं और हाथों को ऊपर की ओर स्‍ट्रेच करें। 
  • पैरों की उंगलियों पर खड़े होने की कोशिश करें। 
  • अब शरीर को कमर से पहले दाईं और फिर बाईं तरफ झुकाएं। 
  • इस पोजीशन में थोड़ी देर रुकने की कोशिश करें। 
  • फिर वापस पहले की स्थिति में आ जाएं। 
  • ऐसा दोनों तरफ से कम से कम 4 बार करें।

Recommended Video

बद्ध कोणासन

baddha konasana for belly fat inside

यह आसन पेट की चर्बी को कम करता है। इसे लंबी सांस लेने के साथ-साथ 50 बार किया जा सकता है। पेट की चर्बी कम करने के अलावा यह शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार लाता है, थाइज के अंदर के हिस्से, पीठ, और घुटनों में स्‍ट्रेच लाता है और कई बीमारियों को दूर करता है।

बद्ध कोणासन करने का तरीका 

  • इसे करने के लिए दंडासन में बैठ जाएं।
  • तितली आसन की तरह ही घुटनों को मोड़कर पैरों मिलाएं ताकि तलवे एक दूसरे को छूएं। 
  • जितना हो सके पैरों को शरीर के करीब लेकर आएं, लेकिन जबरदस्ती ना करें।
  • हाथों से घुटनों को नीचे की ओर दबायें ताकि वह जमीन को छुएं।
  • दोनो पैरों को हाथों से पकड़ लें।
  • हिप्‍स के जोड़ों से आगे की ओर तब तक झुकें जब तक सिर ज़मीन को स्पर्श ना करें।
  • अगर शुरू में घुटने जमीन को ना छुएं तो धीरज रखें, समय के साथ घुटने नीचे लगने शुरू हो जाएंगे।

शलभासन

Salabhasana for belly fat inside

यह आसन नाभि के नीचे की चर्बी को कम करने में मदद करता है। यह आसन पीठ को मजबूत और लचीलापन बढ़ाता है। साथ ही डाइजेस्टिव सिस्‍टम को सुधारता है और पेट के अंगो को मज़बूत बनाता है।

शलभासन करने का तरीका

  • इस योगासन को करने के लिए जमीन पर अपने पेट के बल लेट जाएं। 
  • फिर दोनों हाथ शरीर के बगल में, हथेलियां नीचे की ओर और ठोड़ी फर्श पर रखें। 
  • धीरे-धीरे दाहिने पैर को ऊपर उठाएं - लगभग एक फुट ऊंचा, घुटनों से सीधा रखते हुए। 
  • इस स्थिति में 5-6 सांसों तक रुकें और आराम करें। 
  • इसे दूसरे पैर से भी दोहराएं। 
  • यह आसन करने के दौरान पीठ के निचले हिस्से पर दबाव पड़ता है। 

रामदेव के बताए इन योगासन को रेगुलर करने से आपको कुछ दिनों में ही फर्क महसूस होने लगेगा। फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com