जैसा कि कहा जाता है कि एक हेल्‍दी डाइट हर किसी के लिए जरूरी है। लेकिन लोग किडनी कैंसर से पीड़ित हैं, उनके लिए एक हेल्‍दी डाइट महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। किडनी के कैंसर के ट्रीटमेंट के बाद सही पोषण और हेल्‍दी मील पैटर्न को अपनाने से रोगी को बेहतर महसूस करने में मदद मिलती है और वह अपनी ताकत वापस पा सकता है। कई लोगों में कई कैंसर उपचार मतली पैदा कर सकते हैं या गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं का कारण बन सकते हैं, इसलिए भोजन को सामान्य रूप से खाने और संसाधित करने की क्षमता में हस्तक्षेप होता है। कई मामलों में, रोगियों की भूख पूरी तरह से खत्‍म हो सकती है या यहां तक कि मुंह के घाव भी हो सकते हैं, जिससे खाना मुश्किल हो सकता है।

कैंसर कैशेक्सिया के इन लक्षणों के कारण, आहार की जरूरत और पोषण महत्व को बढ़ाया जाना चाहिए। नियोजित भोजन कैलोरी, प्रोटीन और इम्‍यूनिटी बढ़ाने वाले फूड्स इसमें शामिल होने चाहिए। हालांकि आपका डॉक्टर या डाइटिशियन आपको सही आहार के प्रति मार्गदर्शन करते हैं। लेकिन आज हम आपको किडनी कैंसर के मरीज को किन चीजों को खाना और किसके सेवन से बचना चाहिए, इसकी एक सूची लेकर आए हैं। इस डाइट के बारे में नेफ्रोप्लस के एमएससी, आरडी, चीफ डाइटिशियन श्रीमती अपक्षा एकबोटे बता रही हैं।

क्‍या खाना चाहिए?

डाइट में फॉस्फोरस का ध्‍यान रखें

phosphorus inside

फॉस्फोरस की हाई मात्रा के लिए बीज, नट्स और बीन्स का आनंद लिया जा सकता है लेकिन किसी को खपत की मात्रा पर ध्‍यान देना चाहिए। फॉस्फोरस, जो एक रासायनिक तत्व है, इसका निर्माण किसी के ब्‍लडस्‍ट्रीम में हो सकता है, जिससे किडनी पूरी क्षमता से काम नहीं करती हैं। डेयरी और डेयरी प्रोडक्‍ट्स को 300 मिलीलीटर / दिन तक सीमित करने से भी फास्फोरस के लेवल को जांच में रखने में मदद मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें:किडनी से जुड़ी बीमारियों के इलाज में बैलेंस डाइट के साथ ये 1 फॉर्मूला भी है कारगर

प्रोटीन के सेवन पर ध्‍यान दें

मसल्‍स को बनाए रखने के लिए शरीर को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन की आवश्यकता होती है, लेकिन किडनी कैंसर के रोगियों को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि वे इसे कितना खाते हैं। आमतौर पर किडनी आपके शरीर से अपशिष्ट को फ़िल्टर करती हैं, लेकिन यह अपशिष्ट किसी के ब्‍लडस्‍ट्रीम में तब बन सकती है जब किडनी सामान्य रूप से काम नहीं कर रही हों। इसलिए यह डायलिसिस पर निर्भर करता है कि प्रोटीन का सेवन बढ़ सकता है या घट सकता है। 

हेल्‍दी डाइट लें

healthy diet inside

हेल्‍दी फूड व्‍यक्ति के शरीर को सामान्‍स टिशू को बहाल करने, संक्रमण की रोकथाम और ताकत और एनर्जी बनाए रखने में मदद मिलेगी। अच्छी संतुलित डाइट में बहुत सारे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, उच्च जैविक मूल्य प्रोटीन स्रोत जैसे लीन चिकन या मछली या सोया प्रोडक्‍ट्स शामिल हैं।

थोड़ी-थोड़ी देर में खाएं

किडनी कैंसर के रोगी को उपचार के दौरान आमतौर पर मतली, दस्त और कब्ज जैसी समस्‍याएं महसूस होती है, इसलिए आपको खाने को कैसे और कब खाना है इसे समायोजित करने की आवश्यकता है। एक समय में बहुत सारा एक साथ खाने की बजाय, हर कुछ घंटों के दौरान थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए।

 

क्‍या खाने से बचें?

बहुत ज्‍यादा लिक्विड लेने से बचें 

चूंकि किडनी कैंसर के रोगी की किडनी अच्‍छी तरह से काम नहीं करती है, इसलिए शरीर यूरिन बनाने में सक्षम नहीं होता है। बहुत ज्‍यादा लिक्विड का सेवन सूजन, हाई ब्‍लड प्रेशर और सांस की तकलीफ का कारण बन सकता है।

ज्‍यादा नमक लेने से बचें

salt inside

सोडियम हाई ब्‍लड प्रेशर का कारण बन सकता है, जो किडनी की समस्याओं को बढ़ाता है। इसलिए बहुत ज्‍यादा नमक के सेवन से बचें और जड़ी-बूटियों या नींबू के रस जैसे वैकल्पिक सीज़निंग समाधान को खोजें। इसके अलावा प्रोसेस्ड स्नैक्स और मीट, डिब्बाबंद फूड्स और फास्ट फूड से दूर रहें, क्‍योंकि इनमें सोडियम की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है। इसके अलावा, सोडियम की जांच रखने के लिए फूड लेबल को जरूर पढ़ें।

इसे जरूर पढ़ें: किडनी की बीमारी का आयुर्वेद में मिलता है अचूक इलाज, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे

यह मत मानिए कि सभी कैंसर रोगों में एक ही आहार योजना है। हर कैंसर के लिए आहार के सुझाव अलग-अलग हो सकते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप किडनी कैंसर के लिए पोषण संबंधी जानकारी पर ध्यान दें। जैसा कि अब तक आप समझ चुकी होंगी कि क्या खाया जाना अच्छा है और क्या नहीं, किडनी कैंसर के उपचार से जुड़े विभिन्न प्रकार के खाने से परेशानी हो सकती हैं, इसलिए एक योजना बनाने के लिए किसी डाइटिशियन से सलाह लेना बहुत जरूरी है। आपका एक्‍सपर्ट आपको कुपोषण या बहुत ज्‍यादा वजन घटाने से बचने के लिए सबसे अच्‍छी डाइट को खोजने में मदद करता है और आपको ताकत बनाए रखने, अपनी हड्डियों और शरीर को हेल्‍दी रखने और ट्रीटमेंट के साइड इफेक्‍ट्स को कम करने के लिए सही डाइट खोजने में मदद करता है।

हेल्‍थ और डाइट से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com