अक्सर महिलाओं के साथ ये आदत देखी गई है कि वो अपने खाने-पीने का ख्याल ठीक से नहीं रख पाती हैं। वो बाकी सबके खाने-पीने का ध्यान दें तब भी अपना ख्याल रखना भूल जाती हैं। महिलाओं के लिए ये भी ध्यान रखना जरूरी है कि वो उतने माइक्रोन्यूट्रिएंट्स लें जितने उनके शरीर के लिए जरूरी हैं। एक रिपोर्ट कहती है कि भारत की अधिकतर महिलाओं में आयरन की कमी होती है। 

यकीनन अपने माइक्रोन्यूट्रिएंट्स का ख्याल रखना चाहिए और हम ये गलती भी कर बैठते हैं कि कई बार डाइटिंग के चक्कर में जरूरी न्यूट्रिएंट्स भी भूल जाते हैं। विराट कोहली और अनुष्का शर्मा के डाइट कोच रायन फर्नेंडो ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर तीन मुख्य गलतियों के बारे में बात की है जो महिलाएं अधिकतर डाइटिंग में करती हैं। 

1. खाने की क्वालिटी देखना, लेकिन क्वांटिटी और कैलोरी नहीं-

आपको क्या खाना है अगर ये पता है तो आपको ये भी पता होना चाहिए कि कितना खाना है। सही खाने के लिए क्वालिटी तो देखनी चाहिए, लेकिन इसके साथ ही क्वांटिटी भी देखनी चाहिए कि हम क्या खा रहे हैं और उसका हमारे शरीर पर कितना असर होगा। ध्यान रखना जरूरी है कि बहुत ज्यादा अगर सही चीज़ भी ली जाए तो ये शरीर के लिए गलत हो सकती है। बहुत ज्यादा दूध, दही, घी, अंकुरित अनाज, होल ग्रेन फूड्स आदि भी शरीर में प्रोटीन आदि की अधिकता कर देते हैं जिससे लिवर को इसे पचाने में मुश्किल होती है। भले ही आप सही और पौष्टिक आहार खा रही हों, लेकिन अगर आप उसे सही समय पर और सही तरह से नहीं खाएंगी तो इससे आपकी प्रोग्रेस कम हो जाएगी। 

mistakes in diet by women

इसे जरूर पढ़ें- कांसे के बर्तनों का है ये फायदा, एक्सपर्ट से जानें क्यों पीना चाहिए कांसे के ग्लास में पानी 

2. सभी तरह के फैट्स से बचना है गलत-

हमारे शरीर को फैट और कार्ब्स की जरूरत भी होती है। ऐसे में अगर आप सभी तरह के फैट्स को अपने शरीर में नहीं आने देती हैं तो ये गलत होगा। डाइट में फैट, प्रोटीन, कार्ब्स की थोड़ी मात्रा भी रहनी चाहिए ताकि हमारी डाइट बेहतर हो सके। फैट को अपनी डाइट में शामिल करने से इन समस्याओं से निजात मिल सकती है-

- कार्डियोवस्कुलर रिस्क

- इम्यून सिस्टम की कमजोरी

- दिमाग की हेल्थ में कमी

- लंग हेल्थ में खराबी

- लिवर हेल्थ में खराबी

- जरूरी न्यूट्रिएंट्स का शरीर में एब्जॉर्ब न होना 

इसलिए पूरी तरह से फूड फैट से बचना अच्छा नहीं हो सकता है और डाइट में ये शामिल करना जरूरी है। अगर आप रिफाइंड फैट्स ले रही हैं जैसे वेजिटेबल ऑयल्स आदि तो ये शरीर के लिए अच्छा नहीं होगा, लेकिन अगर आप हेल्दी फैट जैसे घी आदि को अपनी डाइट में शामिल करती हैं तो ये अच्छा होगा।  

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Ryan Fernando (@ryan_nutrition_coach)

 

इसे जरूर पढ़ें- इन चीज़ों को कभी नहीं खाना चाहिए एक साथ, एक्सपर्ट से जानें क्या होते हैं नुकसान  

Recommended Video

3. खाने की जगह सप्लिमेंट्स पर आधारित रहना- 

शरीर में विटामिन D की कमी हो सकती है, आयरन की कमी हो सकती है या फिर अन्य मल्टीविटामिन्स की कमी हो सकती है, लेकिन अगर आप हमेशा खाने की जगह सप्लिमेंट्स लेने के बारे में सोचेंगे तो आपकी सेहत को सही सपोर्ट नहीं मिलेगा। खराब डाइट का असर सही करने के लिए सप्लिमेंट्स लेना सही नहीं होगा। सप्लिमेंट्स का मतलब होता है कि वो हेल्दी डाइट को सपोर्ट करेंगे, लेकिन उसे रिप्लेस करने के लिए आप सप्लिमेंट्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। ये गलती न करें तो ही अच्छा है।  

ये बहुत जरूरी है कि आप हेल्दी डाइट से अपने शरीर के न्यूट्रिएंट्स की कमी को पूरा करें न कि आप उसके लिए किसी सप्लिमेंट के भरोसे रह जाएं। ये ध्यान आपको रखना है कि आपकी सेहत कितनी जरूरी है।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।