दही का नाम लेते ही इससे मिलने वाले फायदों की लिस्ट आंखों के सामने घूमने लगती है। यह एक ऐसा डेयरी प्रॉडक्ट है, जो आपके पाचन तंत्र में सुधार करने के साथ-साथ हड्डियों और दांतों को मजबूती प्रदान करता है। इतना ही नहीं, अगर दही का नियमित रूप से सेवन किया जाए तो यह कोलेस्ट्रॉल और हाई बीपी को भी कम करता है। वहीं, यह शरीर की इम्युनिटी को बूस्ट अप करता है और स्किन हेल्थ को बेहतर बनाता है। जो लोग वेट लॉस करना चाहते हैं या फिर तनाव को मैनेज करना चाहते हैं, वह इसका सेवन अवश्य करते हैं।

आमतौर पर, गर्मी के मौसम में लोग हर दिन इसका सेवन करना पसंद करते हैं। इसके बिना उनका भोजन कंप्लीट ही नहीं होता, क्योंकि यह उनके भोजन के स्वाद को बढ़ाता है। हालांकि, हर कोई व्यक्ति दही का सेवन नहीं कर सकता। कुछ लोगों को दही का सेवन करने की मनाही होती है। इतना ही नहीं, अगर हर दिन दही का आवश्यकता से अधिक सेवन किया जाए तो भी व्यक्ति को नुकसान उठाना पड़ सकता है। तो चलिए आज इस लेख में सेंट्रल गवर्नमेंट हॉस्पिटल के ईएसआईसी अस्पताल की डायटीशियन रितु पुरी आपको बता रही हैं कि किन लोगों को दही का सेवन नहीं करना चाहिए-

अर्थराइटिस के मरीज  

arthritis effects

यूं तो दही का सेवन करना आपकी हड्डियों और दांतों के लिए काफी अच्छा माना जाता है। लेकिन अर्थराइटिस के मरीजों के लिए दही का सेवन करना उचित नहीं माना जाता है। दरअसल, अगर आपको अर्थराइटिस या गठिया की समस्या है तो ऐसे में आपको नियमित रूप से दही खाने से बचना चाहिए। इससे आपके जोड़ों के दर्द की समस्या बढ़ सकती है। दरअसल, दही एक खट्टा भोजन है और खट्टे खाद्य पदार्थ को जोड़ों के दर्द को बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

ritu puri quote

श्वास संबंधी समस्याएं 

अगर किसी को श्वास संबंधी समस्याएं जैसे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस है या फिर आपको बार-बार जुकाम हो जाता है या फिर हरवक्त कोल्ड की समस्या रहती हैं, तो आपको दही का सेवन करने से बचना चाहिए। अगर आप इसे ले भी रही हैं तो इसके केवल कभी-कभी ही लें। साथ ही आप  दिन के समय ही दही का सेवन करें। रात में बिल्कुल भी दही का लें। कोशिश करें कि आप कमरे के तापमान पर ही दही का सेवन करें।

लैक्टोज इनटॉलरेंज

lactose in taulrance

जो लोग लैक्टोज इनटॉलरेंज होते हैं, उनके लिए दूध समस्या बनता है, लेकिन दही खाने से उन्हें कोई परेशानी नहीं होती। लेकिन अगर आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें बहुत अधिक लैक्टोज इनटॉलरेंज की समस्या होती है, उन्हें दही भी नहीं खानी चाहिए। ऐसे लोगों को दही खाने से डायरिया व पेट में दर्द की समस्या हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें:एक्ने की छुट्टी कर देंगे यह फूड्स, जरूर करें डाइट में शामिल

Recommended Video

बुखार या फ्लू

अगर आप इन दिनों बुखार, फ्लू या फिर कोल्ड की समस्या को फेज़ कर रही हैं तो भी आपको दही को अवॉयड करना चाहिए। वैसे तो डेली रूटीन में दही का सेवन करने से आपको प्रोटीन मिलता है। लेकिन कोल्ड या बुखार होने पर दही लेने से समस्या पैदा होती है। चूंकि, दही की तासीर ठंडी होती है, इसलिए दही का सेवन आपके लिए इस स्थिति में बिल्कुल भी सही नहीं माना जाता। इस स्थिति में आप मिल्क बेस्ड प्रॉडक्ट ले सकती हैं, लेकिन दही का सेवन करने से बचें।

एसिडिटी की समस्या

acidity problem

वैसे तो दही का सेवन पाचन तंत्र के लिए बेहद अच्छा माना जाता है, लेकिन अगर आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें बहुत अधिक एसिडिटी, एसिड रिफ्लक्स या GERD आदि की समस्या होती है, उन्हें दही का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। खासतौर से, आप रात को तो बिल्कुल भी दही ना लें। दही नेचर से एसिडिक होती है और इसलिए इसका सेवन करने से आपकी एसिडिटी की समस्या बढ़ सकती है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।