जामुन का फल न सिर्फ स्वाद से भरपूर होता है बल्कि सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद होता है। यह कई तत्रह के रोगों से लड़ने और बीमारियों का खतरा काफी हद तक कम करने में मदद करता है। खासतौर पर मधुमेह जैसी बीमारी में जामुन का न सिर्फ फल बल्कि इसकी गुठलियों को सुखाकर तैयार किया गया पाउडर भी मधुमेह जैसी कई तरह की  बीमारियों से निजात पाने में मदद करता है। मधुमेह यानी डायबिटीज के लिए जामुन के बीज फायदेमंद होते हैं क्योंकि जामुन के बीजों में एल्कलॉइड होते हैं, जो स्टार्च को ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं और मधुमेह के कई लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं।

मधुमेह के साथ -साथ जामुन के पाउडर का इस्तेमाल और भी तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने में मदद करता है। आइए फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिष्ट शिखा ए शर्मा से जानें किस तरह से जामुन का पाउडर सेहत के लिए फायदेमंद है और इसका कैसे सेवन करना चाहिए। ।

जामुन के बीज का पाउडर मधुमेह रोगियों के लिए कैसे फायदेमंद है 

jamun for health

जामुन के बीजों में जंबोलिन और जंबोसीन नामक तत्व प्रकृति में शक्तिशाली होते हैं और इनमें औषधीय गुण होते हैं जो इस बीमारी को जल्दी ठीक करने में मदद करतेहैं। ये पाउडर इंसुलिन उत्पादन को बढ़ावा देने में मदद करता है  जिससे मधुमेह की बीमारी को नियंत्रण में रखा जा सकता है। जामुन की गुठली में एल्कलॉइड होते हैं, जो स्टार्च को ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं और मधुमेह के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं जैसे लगातार प्यास लगना और बार-बार पेशाब आना। जामुन के बीज, पाउडर के रूप में, रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं। यदि केवल जामुन के बीजों की बात की जाए तो वे फाइबर से भरपूर होते हैं जो पाचन तंत्र को सुचारु बनाते हैं। 

कैसे करें मधुमेह के लिए जामुन के पाउडर का सेवन 

डायबिटीज के रोगियों को 2 छोटे चम्मच जामुन का पाउडर खाली पेट पानी के साथ लेना चाहिए। इसके नियमित सेवन से मधुमेह जैसी बड़ी बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है और इसके नियमित इस्तेमाल से मधुमेह के खतरे को कम भी किया जा सकता है। 

वजन कम करने में सहायक है जामुन का पाउडर 

weight control jamun

शिखा ए शर्मा बताती हैं कि जामुन कैलोरी में कम होते हैं और वजन घटाने के आहार में प्रभावी रूप से शामिल किए जा सकते हैं। यह फल फाइबर से भरपूर होता है और पाचन प्रक्रिया में सुधार कर सकता है। ये सभी गुण मिलकर आपको स्वस्थ वजन घटाने में मदद कर सकते हैं। वजन कम करने के लिए लंच हुए डिनर के बाद इसका पाउडर पानी के साथ लें। ये एक फैट बर्नर की तरह काम करता है और शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है। इसके नियमित सेवन से काफी हद तक वजन नियंत्रित किया जा सकता है। इसलिए इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:सुबह-सुबह खाली पेट कॉफी पीना क्या स्वास्थ्य के लिए है खराब? एक्सपर्ट से जानें कॉफी पीने का सही तरीका

हेयर फॉल  को नियंत्रित करे जामुन का पाउडर 

झड़ते बालों की समस्या से परेशान लोगों को किसी न किसी रूप में जामुन का पाउडर अपनी डाइट में शामिल जरूर करना चाहिए। इसके नियमित सेवन से हेयर फॉल की समस्या को काफी हद तक कम किया जा सकता है। 

shikha a sharmajamun powder

बच्चों की यादास्त के लिए लाभदायक है जामुन का पाउडर 

जामुन का पाउडर 10 साल से ऊपर के बच्चों को भी नियमित रूप से दिया जाता है। ये यादास्त बढ़ाने के साथ ध्यान केंद्रित करने में भी मदद करता है। बच्चों को खाने के किसी भी व्यंजन में मिलाकर जामन का पाउडर दिया जा सकता है। जिससे उनकी एकाग्रता को बढ़ाया जा सके। 

इसे जरूर पढ़ें:भीगी मूंगफली से आप भी पा सकती हैं ग्लोइंग स्किन, डाइट में जरूर करें शामिल

कैसे बनाएं जामुन का पाउडर 

  • जब भी जामुन खाएं उसके फलों के साथ उसकी गुठली को भी अच्छी तरह से साफ़ करें। 
  • उन्हें एक साफ कपड़े पर फैलाएं और उन्हें सूखने के लिए धूप में रख दें। 
  • इसे ठीक से सूखने में लगभग तीन से चार दिन लगते हैं। 
  • सूखने के बाद इन्हें मिक्सर में पीसकर बारीक पाउडर तैयार करें और इसे उपर्यक्त तरीके से इस्तेमाल करें। 
  • जामुन की गुठलियों का पाउडर मुख्य रूप से मधुमेह नियंत्रित करने में मदद करता है। 
  • इसलिए मधुमेह रोगी इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। 

जामुन का पाउडर सेहत के लिए लाभदायक है लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेना न भूलें। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik