गर्मियां आ गई हैं और इस समय सत्तू खाने का चलन भी शुरू हो गया है। सत्तू पेट को ठंडक देता है और ये खाने और पीने दोनों के काम आ सकता है। अगर पेट में एसिडिटी और जलन होती है तो भी सत्तू बहुत ही उपयोगी साबित हो सकता है। सत्तू की तासीर ठंडी होती है और ये प्रोटीन का भी बहुत अच्छा सोर्स होता है। जिन लोगों को प्रोटीन के लिए नॉन वेज खाना सही नहीं लगता है वो लोग सत्तू खा सकते हैं। 

प्रोटीन की जरूरत शरीर को बहुत ज्यादा होती है और अगर आप नॉन वेज या फिर किसी अन्य प्रोटीन सप्लिमेंट से इसे नहीं लेना चाहते हैं तो क्यों न आपको सत्तू के बारे में बताया जाए। हमने डायटीशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, डायबिटीज एजुकेटर और एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से सत्तू के बारे में बात की और ये जानने की कोशिश की कि आखिर कैसे सत्तू को अपनी डाइट में शामिल कर आप प्रोटीन की जरूरत को पूरा कर सकते हैं और साथ ही साथ शरीर को ठंडा भी रख सकते हैं। 

स्वाति बथवाल का कहना है कि, 'सत्तू की तासीर ठंडी होती है और ये पोस्ट वर्कआउट ड्रिंक की तरह प्रोटीन का एक अच्छा सोर्स हो सकता है। इसमें गुड फाइबर की मात्रा भी काफी है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। ये आयरन और कैल्शियम से भी भरपूर होता है।'

sattu and swati bathwal

इसे जरूर पढ़ें- गर्मियों में ऐसे इस्तेमाल करें चिया सीड्स, 5 समस्याओं से देंगे छुटकारा 

कैसे डाइट में शामिल करें सत्तू-

सत्तू को डाइट में शामिल करने के कई तरीके हो सकते हैं। आप अपनी जरूरत के हिसाब से इसे सही तरीके से ले सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि इसे कैसे लेना है। 

  • सत्तू को नींबू के रस और पानी के साथ मिलाकर गर्मियों के हाइड्रेशन के लिए पी सकते हैं। 
  • प्रेग्नेंसी में सत्तू के पराठे के तौर पर इसे खाएं। इससे फोलेट, कैल्शियम, आयरन और प्रोटीन बढ़ते हैं। 
  • अगर किसी को सत्तू वर्कआउट के बाद पीना है तो इसे छाछ या दही में मिलाकर परफेक्ट पोस्ट वर्कआउट ड्रिंक बनाएं जो शरीर को ठंडा करने के साथ-साथ आपको गैस, एसिडिटी जैसी समस्याओं से भी बचाएगा। 
  • जिन लोगों को वजन बढ़ाना है वो सत्तू लेने के लिए गुड़ के साथ इसका लड्डू बनाकर खा सकते हैं। इससे यकीनन वजन बढ़ता है और साथ ही साथ आपको भरपूर प्रोटीन भी मिलता है। 
sattu and protien

2 चम्मच सत्तू में होता है 1 अंडे के बराबर प्रोटीन-

जिन लोगों को प्रोटीन की कमी है वो सत्तू खाने के लिए कई सारे तरीके अपना सकते हैं। स्वाति बथवाल का कहना है कि 2 चम्मच सत्तू में 5 ग्राम प्रोटीन होता है जो 1 अंडे के बराबर होता है। अगर आप इसे दही के साथ (200 ग्राम दही) मिलाते हैं तो इसमें 15 ग्राम प्रोटीन मिलता है। अगर आप इस ड्रिंक में 1 चम्मच फ्लैक्सीड (अलसी के बीज) का पाउडर भी मिला देते हैं तो ये 17 ग्राम प्रोटीन बन जाता है। ये प्री-वर्कआउट ड्रिंक भी बन सकता है जो आपको 3 अंडों के बराबर प्रोटीन दे सकता है।  

इसे जरूर पढ़ें- गर्मियों में किस तरह से खाएं फल? एक्सपर्ट से जानें किन फ्रूट्स को नहीं खाना चाहिए दूध के साथ 

ग्लूटेन एलर्जी वाले लोगों के लिए है परफेक्ट- 

सत्तू के साथ एक बात और अच्छी है और वो ये कि इसमें ग्लूटेन नहीं होता। तो जो लोग ग्लूटेन एलर्जी से परेशान है वो अपनी डाइट में ये जोड़ सकते हैं। जो लोग वीगन हैं और किसी भी तरह का एनिमल प्रोडक्ट नहीं इस्तेमाल करते उनके लिए सत्तू फोलेट, कैल्शियम, आयरन और प्रोटीन का सब्सटिट्यूट बन सकता है।  

sattu uses for protien

बालों और स्किन के लिए भी परफेक्ट है सत्तू- 

सत्तू में सेलेनियम, कॉपर और जिंक भरपूर मात्रा में होता है। इसलिए सत्तू को स्किन और बालों के लिए परफेक्ट माना जाता है। इसमें इनसॉल्यूबल फाइबर भी होता है जो धीरे-धीरे एब्जॉर्ब होता है और ये शरीर में शुगर स्पाइक नहीं होने देता। इसी के साथ, ये भूख लगने को भी कम करता है और पेट को ठंडा रखता है।  

अगर आपको बैड कोलेस्ट्रॉल या एसिडिटी की समस्या है तो भी सत्तू काफी काम का साबित हो सकता है।  

पर जरूरत से ज्यादा सत्तू भी हो सकता है खराब- 

सत्तू के कई फायदे हैं, लेकिन ये फायदे तभी सही होंगे जब आप सत्तू को लिमिटेड मात्रा में लें। सत्तू से पेट फूलने की समस्या भी होती है और अगर आप दिन में 4 बड़े चम्मच से ज्यादा सत्तू लेते हैं तो ये पेट फुलाएगा। अगर आपने पहले सत्तू नहीं खाया तो 2 चम्मच सत्तू से शुरुआत करें। सत्तू खाने के यही तरीके हो सकते हैं।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।