अक्सर देखा जाता है कि हम जब भी चावल बनाते हैं ये जरूरत से ज्यादा ही बन जाता है। ऐसे में हम बचे हुए चावल को गरम करके दोबारा इस्तेमाल में लाते हैं। कभी फ्राइड राइस तो कभी बिरयानी के रूप में ये चावल खाने में स्वाद से भरपूर तो लगता ही है और इसका सही तरीके से इस्तेमाल भी हो जाता है। यही नहीं कई महिलाएं तो जानबूझकर रात में ज्यादा मात्रा में चावल बनाती हैं जिससे इसका इस्तेमाल सुबह के नाश्ते या लंच के लिए कोई नई डिश तैयार की जा सके। यहां तक कि बच्चों को भी कोई हेल्दी डिश जैसे कर्ड राइस या लेमन राइस बनाकर खिला देते हैं। 

लेकिन कभी आपने सोचा है कि आप जिस चावल को दोबारा गरम करके खा रही हैं वो वास्तव में हेल्दी न होकर आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। जी हां, ये सच है कि चावल को किसी भी रूप में दोबारा गर्म करके खाना आपकी सेहत के लिए कई तरह से नुकसानदेह साबित हो सकता है। आइए इस लेख में फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिष्ट शिखा ए शर्मा से जानें कैसे चावल को दोबारा गर्म करके खाना सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। 

फ़ूड पॉइज़निंग का खतरा 

food poisening

जब आप फ्रिज में रखे हुए बचे हुए चावल को माइक्रोवेव में या किसी अन्य तरीकों से गरम करती हैं तो ये आपके लिए एक समझदारी भरा कदम नहीं है। चावल को दोबारा गर्म करके खाने से आपको फूड प्वाइजनिंग हो सकती है। दरअसल, चावल को गर्म करके खाने से फूड प्वाइजनिंग की आशंका इसलिए बढ़ जाती है क्योंकि चावल जैसे -जैसे ठंडा होने लगता है उसमें बेसिलस सेरेस नामक बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। यह बैक्टीरिया चावल को गर्म होने के कारण नष्ट हो जाते हैं लेकिन उसके तत्व उसी चावल में पूरी तरह से मिल जाते हैं जो जहरीले हो सकते हैं। जब आप इस तरह का सेवन करती हैं तब ये जहरीले तत्व शरीर में प्रवेश करते हैं और फ़ूड पॉइज़निंग कारण बनते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:क्या चावल खाने से नींद आती है? न्यूट्रिशनिस्ट पूजा मखीजा से जानें फैक्ट्स

बैक्टीरिया का कारण 

एक रिसर्च के अनुसार यदि पके हुए चावल को फ्रिज में नहीं रखा जाता है, तो यह तुरंत ही बैक्टीरिया के लिए प्रजनन स्थल बन सकता है क्योंकि इसमें कुछ जीवाणु बीजाणु हो सकते हैं जो खाना पकाने की प्रक्रिया में जीवित रह सकते हैं। जब चावल को पकाने के बाद जब काफी देर तक सामान्य तापमान पर छोड़ दिया जाता है, तो ये जीवाणु बैक्टीरिया का रूप ले लेते हैं। यह बैक्टीरिया तेजी से बढ़ता है और टॉक्सिन्स पैदा कर देता है, जिसकी वजह से पेट से संबंधित कई समस्याएं होने लगती हैं। इसके लिए बेहद जरूरी है कि चावल पकाने के बाद उसे ज़्यादा लंबे वक्त तक सामान्य तापमान पर न छोड़ा जाए। यदि आप चावल खाती हैं तो इसे तुरंत ही खाएं और बचे हुए चावल को खाने के लिए इस्तेमाल न करें। 

पाचन कर सकता है खराब 

indigestion problem rice

जब चावल को दोबारा गरम किया जाता है तब बैक्टीरिया के दुष्प्रभाव की वजह से इसके सभी पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। पोषक तत्वों की कमी के कारण चावल पचाने में मुश्किल हो जाती है और ये पेट की अन्य समस्याओं जैसे पेट दर्द का कारण भी बन सकता है। इसलिए यदि आप कमजोर पाचन की समस्या से ग्रसित हैं तब आपको भूलकर भी बचे हुए चावल को दोबारा गरम करके नहीं खाना चाहिए। जब आप चावल को दोबारा गर्म करके इस्तेमाल में लाती हैं तब ये अपने पोषण को ख़त्म कर देता है और इसे खाने से यह शरीर में अपशिष्ट की तरह जमा होने लगता है। इस बात का पता हमे तुरंत नहीं लगता है लेकिन जैसे -जैसे यह अपशिष्ट पेट में बढ़ने लगता है यह कब्ज का कारण बन जाता है जो पेट की अन्य समस्याओं को भी जन्म देता है। इसलिए यदि आप ऐसा करती हैं तो अपनी इस आदत को तुरंत बदल दें क्योंकि ये मल त्याग की प्रक्रिया में बाधा पैदा करने के साथ गंभीर कब्ज की समस्या को जन्म दे सकता है। 

Recommended Video

रखें इन बातों का ध्यान 

  • सुनिश्चित करें कि पकाते समय चावल की मात्रा कम रखें जिसे कुछ ही घंटों में इस्तेमाल किया जा सके। 
  • चावल को फ्राई करके खाएं या उबालने के दो घंटे के भीतर बचे हुए चावल को फ्रिज में रख दें।
  • उबले हुए चावल को रात भर बाहर न रखें।
  • यदि चावल खाने के कुछ घंटे बाद कोई स्वास्थ्य समस्या नज़र आए तो तुरंत चिकित्सकीय परामर्श लें। 

अगर आप भी बचे हुए चावल को गर्म करके इस्तेमाल में लाती हैं तो अपनी इस आदत को तुरंत बदल लें अन्यथा ये आदत आपके स्वास्थ्य को खराब कर सकती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik