पार्सले लीव्स या अजमोद एक औषधीय जड़ी बूटी है जो भूमध्यसागरीय है। जड़ी बूटी के पत्ते, तना और बीज कई व्यंजनों में उपयोग किए जाते हैं। अजमोद पोषक तत्वों और एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध है। अजमोद का उपयोग उच्च रक्तचाप, एलर्जी और श्वास सम्बन्धी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह व्यापक रूप से एक ताजा पाक जड़ी बूटी या सूखे मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है। यह चमकीले हरे रंग का होता है और इसमें हल्का, कड़वा स्वाद होता है जो कई व्यंजनों के साथ अच्छा लगता है। आइए जानें इसके सेहत से जुड़े फायदों के बारे में। 

  • एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध
  • रक्त शर्करा को विनियमित करे 
  • हड्डियों के लिए लाभदायक 
  • एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर 
  • ह्रदय को स्वस्थ रखे 
  • पाचन में मदद करे 
  • प्रतिरक्षा को बढ़ाए 

एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध

parsley leaves

पार्सले की पत्तियों या अजमोद में कई शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट तत्व मौजूद होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को लाभ पहुंचा सकते हैं। एंटीऑक्सिडेंट तत्व मुक्त कणों नामक अणुओं से सेलुलर क्षति को रोकते हैं। शरीर को एंटीऑक्सिडेंट और मुक्त कणों के स्वस्थ संतुलन के लिए इष्टतम स्वास्थ्य  बनाए रखने की आवश्यकता होती है। पार्सले की पत्तियों या अजमोद की पत्तियों में मुख्य एंटीऑक्सिडेंट तत्व फ्लैवोनॉइड्स,कैरोटीनॉयड,विटामिन सी मौजूद होते हैं। अध्ययनों से पता चलता है कि फ्लेवोनोइड्स से भरपूर आहार कोलोन कैंसर, टाइप 2 मधुमेह, और हृदय रोग सहित स्थितियों के अपने जोखिम को कम कर सकते हैं। अजमोद के शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट कोशिका क्षति को रोकने और कुछ बीमारियों के आपके जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

रक्त शर्करा को विनियमित करे 

blood sugar

अजमोद और इसके आवश्यक तेल, मिरिस्टिसिन नामक एक एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध होते हैं। मिरिस्टिसिन रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में मदद कर सकता है। यह इंसुलिन प्रतिरोध और सूजन को भी कम कर सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: फेफड़ों को साफ करने के साथ इम्यूनिटी बढ़ाएगी ये हर्बल टी, जानें इसे बनाने का सही तरीका

हड्डियों के लिए लाभदायक 

bone health

आपकी हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रहने के लिए कुछ विटामिन और खनिजों की आवश्यकता होती है। ये सभी पोषक तत्व पार्सले की पत्तियों में भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें विटामिन के भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो ओस्टियोब्लास्ट्स नामक हड्डी-निर्माण कोशिकाओं का समर्थन करके मजबूत हड्डियों के निर्माण में मदद करता है। यह विटामिन अस्थि खनिज घनत्व को बढ़ाने वाले कुछ प्रोटीनों को भी सक्रिय करता है और हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है।  एक अध्ययन में पाया गया कि उच्च विटामिन के का सेवन फ्रैक्चर के जोखिम को कई गुना तक कम कर देता है।

Recommended Video

पाचन में मदद करे 

परंपरागत रूप से, अजमोद का उपयोग पाचन और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों के इलाज में मदद करने के लिए किया जाता है। अजमोद में मौजूद भरपूर फाइबर सामग्री पाचन में मदद करती है। यह भोजन को पाचन तंत्र में स्थानांतरित करने में मदद करता है और आंत में अच्छे बैक्टीरिया के लिए एक प्रीबायोटिक के रूप में भी कार्य करता है। खासतौर पर पार्सले की पत्तियों का रस पाचन प्रक्रिया को सुचारु रूप से चलाने में मदद करता है। 

एंटीबैक्टीरियल गुणों से भरपूर 

parsley leaves benefits

पार्सले की पत्तियों का जूस जीवाणुरोधी गुणों से भरपूर होता है। इसके जूस का नियमित सेवन भोजन में बैक्टीरिया के विकास को भी रोक सकता है। इसका नियमित रूप से सेवन कई बीमारियों से लड़ने में मदद करने के साथ शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाता है। 

इसे जरूर पढ़ें: स्किन में लाना है नेचुरल ग्लो तो डाइट में शामिल करें ये फूड्स

ह्रदय को स्वस्थ रखे 

heart health

पार्सले की पत्तियां कई पोषक तत्वों से भरपूर जड़ी बूटी है जो हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है। उदाहरण के लिए, यह बी विटामिन फोलेट का एक अच्छा स्रोत है, जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। आहार में फोलेट के उच्च सेवन से हृदय रोग का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है। वहीं दूसरी ओर फोलेट के कम सेवन से आपके हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। कुछ अध्ययनों में उच्च होमोसिस्टीन स्तर को हृदय रोग के उच्च जोखिम से जोड़ा गया है। पार्सले की पत्तियां या अजमोद फोलेट से समृद्ध होती हैं साथ ही इसमें विटामिन बी की भरपूर मात्रा मौजूद होती है जो दिल की रक्षा करता है और हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है। इसलिए इन पत्तियों को किसी न किसी रूप में अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें: एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से भरपूर हैं ये चीजें, प्रेग्नेंसी में महिलाएं जरूर करें इनका सेवन

प्रतिरक्षा को बढ़ाए 

अजमोद में फ्लेवोनोइड्स सहित कई एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ यौगिक होते हैं। इसमें मौजूद एपिगेनिन तत्व शरीर में सूजन से लड़ता है। अजमोद में विटामिन सी भी होता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में मदद करते हैं।अजमोद में केवफेरफेरोल और क्वेरसेटिन जैसे फ्लेवोनोल्स होते हैं, जो ऑक्सीडेटिव तनाव और सेलुलर क्षति से लड़ते हैं।

पार्सले की पत्तियों का इस्तेमाल पूरी तरह से प्राकृतिक है, लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेना न भूलें। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik