शरीर में कई तरह के मिनरल्स की जरूरत होती है। ये मिनरल्स और विटामिन्स ही हैं जो शरीर को सही तरह से चलाने में मदद करते हैं। इनमें से किसी की कमी भी कई बीमारियों को न्योता दे सकती हैं और साथ ही साथ इसका असर हमारी स्किन और बालों पर भी पड़ जाता है। जिन जरूरी मिनरल्स की कमी हमे परेशान कर सकती है उसमें पोटैशियम, मैंग्नीज और जिंक शामिल हैं। 

अगर शरीर में ये मिनरल्स कम रहें तो हड्डियों की तकलीफ, दिल की बीमारी, मसल क्रैम्प्स आदि की समस्या हो सकती है। पर इन चीज़ों के लिए आपको किसी तरह के सप्लिमेंट्स को लेने की जरूरत नहीं होती है बल्कि ये तो बहुत ही आसानी से डाइट से पूरे किए जा सकते हैं। बस आपको ये ध्यान रखना चाहिए कि आप किस तरह की चीज़ें अपनी डाइट में लें। 

Food Safety and Standards Authority of India (FSSAI) ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ये बताया है कि आखिर इन मिनरल्स को कैसे अपनी डाइट के जरिए लिया जा सकता है। इनके सही सोर्स क्या हैं और इनके फायदे क्या हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- गर्मियों में किस तरह से खाएं फल? एक्सपर्ट से जानें किन फ्रूट्स को नहीं खाना चाहिए दूध के साथ

1. पोटैशियम के फायदे और सोर्स-

पोटौशियम की कमी से वीकनेस, मसल क्रैम्प्स, थकान, मांसपेशियों में अकड़न, दिल की धड़कन का बढ़ जाना, सांस लेने में दिक्कत, पाचन संबंधित समस्याएं, मूड में बदलाव आदि हो सकते हैं। 

क्या हैं पोटैशियम के नेचुरल सोर्स-

इसका सबसे बड़ा सोर्स केला है जो आपको हमेशा अपनी डाइट में शामिल रखना चाहिए। इसके अलावा, खरबूज, किशमिश, बाजरा, ज्वार, रागी, हरी पत्तेदार सब्जियां, मशरूम, हल्का मीट जैसे चिकन आदि पोटैशियम का नेचुरल सोर्स है। 

क्या हैं इसे खाने के फायदे?

ये मसल कॉन्ट्रैक्शन को कम करता है। साथ ही ब्लड प्रेशर को सही रखता है। ये हड्डियों और किडनी की हेल्थ के लिए अच्छा है और सही फ्लूइड बैलेंस बनाए रखता है।  

 

2. मैंग्नीज के सोर्स और फायदे-

 वैसे तो मैंग्नीज की कमी कम ही देखने को मिलती है, लेकिन अगर ये हो जाए तो हड्डियों की समस्या के साथ-साथ आपकी ग्रोथ में भी कमी हो जाती है।  

क्या हैं मैंग्नीज के नेचुरल सोर्स- 

हरी पत्तेदार सब्जियां, ओट्स, सोयाबीन, गेहूं का आटा, पाइन नट्स, पाइनएप्पल आदि मैंग्नीज के अच्छे सोर्स होते हैं।  

क्या हैं इसे खाने के फायदे? 

इससे हड्डियों की सेहत बेहतर होती है। ये एंटीऑक्सिडेंट्स की तरह काम करता है, साथ ही इससे मेटाबॉलिज्म रेट भी सही होता है। ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए मैंग्नीज सही हो सकता है।  

 

3. सेलेनियम के सोर्स और इसके फायदे-

 सेलेनियम की कमी को कई लोग नजरअंदाज़ कर देते हैं और ये मिनरल मानव ग्रोथ के लिए बहुत जरूरी होता है। अगर इसकी कमी हो जाए तो मूड, एंग्जाइटी, कन्फ्यूजन आदि हो सकता है।  

क्या हैं सेलेनियम के नेचुरल सोर्स- 

सेलेनियम के सोर्स में चावल, चिकन, ज्वार, अंडे, गेहूं का आटा, हरी दाल, पीली दाल, सरसों आदि शामिल हैं।  

क्या हैं इसे खाने के फायदे? 

ये एंटीऑक्सिडेंट्स की तरह काम करता है। ये हड्डियों की सेहत को सुधारने के साख-साथ इम्यून सिस्टम के लिए भी बेहतर हो सकता है। अगर थायरॉइड की समस्या है तो भी ये काफी मदद कर सकता है।  

 

इसे जरूर पढ़ें- अगर नहीं खाते हैं नॉनवेज तो प्रोटीन के लिए ऐसे इस्तेमाल करें सत्तू 

4. जिंक के नेचुरल सोर्स और इसके फायदे- 

जिंक एक बहुत ही जरूरी मिनरल है जिसे आपको डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए। इसकी कमी से बालों का गिरना, ध्यान न लगना, टेस्ट और स्मेल में कमी आदि हो सकती है। 

 क्या हैं जिंक के नेचुरल सोर्स- 

इसके नेचुरल सोर्स हैं होल ग्रेन्स, काजू, मटर, दूध, चिकन, मीट, अंडे आदि जिंक के नेचुरल सोर्स होते हैं।  

  

क्या हैं इसे खाने के फायदे? 

इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए, डायरिया को ठीक करने के लिए, चोट को ठीक करने के लिए, शरीर की ग्रोथ और डेवलपमेंट के लिए जिंक को अपनी डाइट में शामिल करें।  

ये सारे मिनरल्स शरीर के कई फंक्शन्स को ठीक करते हैं और ये हेल्दी डाइट के लिए बहुत जरूरी हैं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।