जैसा कि हम इन दिनों अपने आहार पैटर्न के बारे में अधिक सावधान और समझदार हो रहे हैं और अपनी कुछ रेसिपीज, दैनिक खाना पकाने के व्यंजन या विशेष अवसरों के लिए फूड्स को संशोधित करना चाहते हैं। इसलिए कुछ फायदेमंद अनाज, दालें, सब्जियां, फल और अन्य श्रेणी के खाद्य पदार्थ भी चुनने की आवश्यकता है। आज हम आपको ऐसे ही एक फायदेमंद फूड ब्राउन राइस के बारे में बता रहे हैं। ब्राउन राइस एक साबुत अनाज है। 

ब्राउन राइस में रेशेदार चोकर, पौष्टिक रोगाणु और कार्ब युक्त एंडोस्पर्म सहित अनाज के सभी भाग होते हैं। दूसरी ओर, सफेद चावल से चोकर और रोगाणु को हटा दिया जाता है, जो अनाज के सबसे पौष्टिक भाग हैं। यह सफेद चावल को बहुत कम आवश्यक पोषक तत्वों के साथ छोड़ देता है, यही कारण है कि ब्राउन चावल को आमतौर पर सफेद की तुलना में अधिक स्‍वस्‍थ माना जाता है।

brown rice benefits by expert

पोषक तत्‍वों से भरपूर होते हैं ब्राउन राइस 

पोषक तत्वों की बात करें तो सफेद चावल की तुलना में ब्राउन राइस का बड़ा फायदा है। इस प्रकार के चावल में अधिक फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, साथ ही साथ बहुत अधिक महत्वपूर्ण विटामिन्‍स और मिनरल्‍स भी होते हैं। जबकि सफेद चावल ज्यादातर "खाली" कैलोरी और बहुत कम आवश्यक पोषक तत्वों के साथ कार्ब्स का स्रोत है। 

इस चावल में कुछ आवश्यक पोषक तत्व जैसे आहार फाइबर, जिंक, मैग्नीशियम, आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, और सेलेनियम, विटामिन-बी1, बी2, बी3, बी6, ई, और के और एंटीऑक्सीडेंट-फ्लेवोनोइड्स और प्रोटीन भी होते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: मास्टर शेफ कविराज खियालानी से जानें हेल्दी ब्राउन राइस से बने 3 टेस्टी व्यंजनों की रेसिपीज

दिल के लिए अच्‍छा

brown rice for heart

ब्राउन राइस के पोषक तत्व आपके दिल को हेल्‍दी रखने में मदद करते हैं। यह आहार फाइबर का एक समृद्ध स्रोत है, जो हार्ट डिजीज से मृत्यु के जोखिम को कम करता है। ब्राउन राइस में हाई लेवल का मैग्नीशियम भी होता है, जो आपको हार्ट डिजीज और स्ट्रोक के प्रति कम संवेदनशील बनाने में मदद करता है।

डायबिटीज का जोखिम होता है कम

ब्राउन राइस में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) होता है, जिसका अर्थ है कि यह खाने के बाद आपके ब्‍लड शुगर को नहीं बढ़ाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि ब्राउन राइस जैसे साबुत अनाज के प्रति दिन तीन सर्विंग खाने से आप टाइप 2 डायबिटीज के विकास के जोखिम को 32% तक कम कर सकते हैं।

वहीं दूसरी ओर सफेद चावल आपके डायबिटीज के खतरे को बढ़ा सकते हैं। एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि जो लोग बहुत अधिक सफेद चावल खाते हैं, उनमें डायबिटीज विकसित होने की संभावना कम खाने वालों की तुलना में लगभग 17% अधिक होता है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि प्रति दिन लगभग 50 ग्राम सफेद चावल को ब्राउन राइस से बदलकर एक व्यक्ति अपने डायबिटीज के जोखिम को 16% तक कम करता है।

Recommended Video

वजन कंट्रोल करने में मददगार

brown rice benefits for weight loss

ब्राउन राइस को आहार प्रधान के रूप में शामिल करने से अधिक वजन वाले लोगों को अधिक वजन कम करने और अपने बॉडी मास इंडेक्स को कम करने में मदद मिल सकती है, जो हेल्‍दी या अनहेल्‍दी वजन का एक सामान्य मार्कर है। ब्राउन राइस में सफेद चावल की तुलना में अधिक आहार फाइबर होता है। हाई फाइबर वाले खाद्य पदार्थ कम कैलोरी लेते हुए आपको अधिक समय तक भरा हुआ महसूस कराते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:Brown rice या white rice, कौन से चावल खाएं और क्यों खाएं

पाचन में करता है मदद

ब्राउन राइस एक सहायक स्टेपल है जिसे पाचन तंत्र को अनुकूलित करने के लिए आसानी से दैनिक आहार में शामिल किया जा सकता है। ब्राउन राइस में मौजूद फाइबर आंतों की गतिविधियों को नियंत्रित करने और आपके मल त्याग को नियमित रखने में मदद करते हैं। कब्ज को ठीक करने के लिए इसके उत्कृष्ट परिणाम हैं।

इस तरह से आप भी ब्राउन राइस को अपनी डाइट में शामिल करके ये सारे फायदे पा सकती हैं। डाइट से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com