हैदराबादी बिरयानी! एक मिनट ज़रा रुकिए और ये बताएं कि हैदराबादी बिरयानी ही क्यूं? हम सिर्फ इसे बिरयानी क्यूं नहीं बोल सकते। अगर नहीं बोल सकते तो फिर दिल्ली बिरयानी, मध्य प्रदेश बिरयानी या फिर बिहारी बिरयानी क्यूं नहीं। क्या आपने कभी सोचा या फिर जानना चाहा है कि आखिर क्यों शहर के नाम से कुछ फूड्स को जाना जाता है। अगर नहीं, तो आज हम आपको ऐसी ही 5 डिश के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिनका नाम शहर या फिर किसी व्यक्ति के नाम पर रखा गया और इसके इतिहास के बारे में भी बताएंगे। तो चलिए प्रारंभ करते हैं इस रोचक सफर को और जानते हैं इसके पीछे की कहानी को।

1-हैदराबादी बिरयानी 

indian foods named after cities story inside

सबसे पहले हम हैदराबादी बिरयानी को लेते हैं। क्या कभी आपने ये जानने की कोशिश की है कि हैदराबाद की इस डिश को शहर के नाम से ही क्यूं जाना जाता है। अगर नहीं, तो आज हम आपके इसके इतिहास के बारे में बताते हैं। आपको ये तो मालूम होगा ही कि हैदराबाद को निजामों का शहर कहा जाता है। दरअसल, बात ये है कि बिरयानी को सबसे पहले हैदराबाद के निजाम शासकों की रसोई में बनाया गया था जिसके बाद यह डिश हैदराबादी बिरयानी के नाम से पूरे देश में प्रचलित हो गया।

इसे भी पढ़ें: यह छोटी-छोटी ग्रिलिंग मिसटेक्स बिगाड़ देती हैं चिकन का टेस्ट

2-मुरादाबादी दाल

these indian foods named after cities inside

अगर आप उत्तर प्रदेश के किसी होटल में जायेंगे तो मेन्यू कार्ड में आपको मुरादाबादी दाल ज़रूर दिख जाएगी। इस डिश का नाम मुरादाबाद शहर के नाम पर पड़ा है। ऐसा कहा जाता है इस डिश को अफगान शासक मुराद बख्श ने अपने रसोई में सबसे पहले बनवाया था। आपकी जानकरी के लिए ये भी बता दें कि मुरादाबाद शहर को मुराद बख्श ने ही 17 वीं शताब्दी के आसपास बसाया था। (केरल की वेजिटेरियन ट्रेडिशनल डिशेज)

3-बीकानेरी भुजिया

know about indian foods named after cities inside

यह एक स्नैक है जिसे राजस्थान के बीकानेर शहर के नाम से जाना जाता है। इस भुजिया के बारे में कहा जाता है कि साल 1877 में पहली बार उस समय के मौजूदा शासक महाराज डूंगर के शासनकाल में इस भुजिया को पहली बार बनाया गया था जिसके बाद यह पूरे भारत में बीकानेरी भुजिया के नाम से प्रसिद्ध हो गई। (इन बंगाली डिशेज की बात है निराली)

Recommended Video

4-इंदौरी पोहा

know indian foods named after cities inside

पोहा के बारे में कहा जाता है कि इस डिश को सबसे पहले होल्कर और सिंधिया वंश ने अपने लिए बनवाया था, जो बाद में यहीं का हो गया। वैसे पोहा महाराष्ट्र में भी खूब पसंद किया जाता है। पोहा के बारे में एक और मिथक यह है कि इंदौर में पोहा साल 1949-50 के करीब में बना और यह यहीं का हो गया।

इसे भी पढ़ें: क्या आप भी किचन की इन 5 कॉमन समस्याओं से परेशान हैं

5-आगरा का पेठा      

indian foods named after cities inside

आगरा में है और पेठा नहीं खाया तो फिर कुछ नहीं खाया। खैर, पेठा के बारे में कहा जाता है कि इस डिश को सबसे पहले मुगल शासक शाहजहां ने बनवाया था। इसके बारे में ये भी कहा जाता है कि शाहजहां की बेग़म मुमताज को पेठा बहुत पसंद था। ये भी कहा जाता है कि खुद मुमताज ने अपने हाथों से बना के शाहजहां पेठा खिलाया था। (खजूर से बनने वाली सबसे फेमस रेसिपीज)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@thecitybytes.com,archanaskitchen,vegecravings.com)