आमतौर पर लोग सोने से पहले अच्छी नींद के लिए लाइट्स बंद कर देते हैं। लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं जो लाइट बंद नहीं करते हैं और लाइट जलाकर ही सोते हैं। कई बार लोग बच्चों को सुलाने के लिए भी लाइट्स जलाकर ही रखते हैं। कभी किसी डर की वजह से, तो कभी जानबूझकर सोने से पहले लाइट बंद न करना आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। आइए आपको बताते हैं कि किस तरह से लाइट जलाकर सोना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। 

अच्छी नींद न आना

sleeping night 

नींद के दौरान प्रकाश के संपर्क में आने से आपके मस्तिष्क के लिए गहरी नींद प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है। रात में आप जितनी अधिक उथली या हल्की नींद लेते हैं, आपके मस्तिष्क की गतिविधि नकारात्मक रूप से प्रभावित होती है। नींद ठीक से ना आने की वजह से ब्रेन यानी मस्तिष्क की प्रक्रिया धीमी हो जाती है और किसी भी काम को सफलतापूर्वक करने में अवरोध उत्पन्न होता है। अच्छी नींद स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है इसलिए नींद कम होने की वजह से स्वास्थ्य भी प्रभावित होता है। नींद की कमी, असंतुलित मनोदशा और चिड़चिड़ापन का कारण बन सकती है। 

इसे जरूर पढ़ें:गैस और एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए ये 5 आयुर्वेदिक उपचार आजमाएं

डिप्रेशन की समस्या 

dipression problem

रिसर्च के अनुसार जो लोग रात में लाइट जलाकर सोते हैं उनमें डिप्रेशन की समस्या बहुत ज्यादा होती है। तेज रोशनी के साथ सोने का सीधा संबंध अवसाद यानी कि डिप्रेशन से है। यहां तक कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की नीली रोशनी भी आपके मूड पर सबसे बुरा प्रभाव डाल सकती है, जो आगे चलकर डिप्रेशन का मुख्य कारक बन सकता है। अगर आप चीजों को कहीं रखकर भूल जाते हैं, हमेशा अकेलापन महसूस करते हैं, किसी काम को अच्छी तरह नहीं कर पाते हैं तो ये रात में लाइट जलाकर सोने की वजह से होने वाली परेशानी हो सकती है।

Recommended Video

मोटापे की समस्या

obesity sleeping 

महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि मोटापे के लक्षण उन लोगों में अधिक होते हैं जो रात में तेज लाइट या इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के प्रकाश के बीच सोते हैं। इसका एक कारण संभवतः ये भी हो सकता है कि तेज़ लाइट में ठीक से नींद न आने की वजह से बार-बार भूख लगती है और ज्यादा खाना खाने की वजह से मोटापा बढ़ जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें:स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हो सकता है तुलसी का अधिक सेवन

आकस्मिक दुर्घटनाओं का कारण 

sleeping problem

तेज रोशनी की वजह से पर्याप्त गुणवत्ता वाली नींद (महिलाओं के लिए जरूरी है अच्छी नींद ) न लेने की वजह से आप अगले दिन कम सतर्क हो जाते हैं। यह विशेष रूप से खतरनाक हो सकता है यदि आप कार या अन्य प्रकार का कोई वाहन या मशीनरी चलाते हैं। यदि बच्चों की नींद ठीक से पूरी न हुई हो तो, वो भी किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। यहां तक कि वयस्कों को भी चक्कर आने और गिरने का अधिक खतरा हो सकता है। 

इन सभी कारकों की वजह से आपको रात में अच्छी नींद के लिए तेज रोशनी की आवश्यकता नहीं है, इसलिए जहां तक संभव हो धीमी लाइट या लाइट बंद करके ही सोएं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and unsplash