तुलसी की पत्तियां कई बड़ी बीमारियों के लिए लाभकारी मानी जाती हैं। यहां तक कि सामान्य कफ और कोल्ड में भी तुलसी की पत्तियों का काढ़ा अत्यंत लाभकारी माना जाता है। यही नहीं कई आयर्वेदिक औषधियों में भी तुलसी की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। घर के बड़े भी किसी बीमारी में तुलसी की पत्तियों का सेवन करने की सलाह देते हैं। लेकिन कई गुणों से भरपूर तुलसी का अधिक सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी साबित हो सकता है। आइए जानें कैसे ज्यादा मात्रा में तुलसी की पत्तियों का सेवन नुकसानदेह है। 

गर्भावस्था में न करें सेवन 

tulsi patti in pregnancy

तुलसी का सेवन करने से गर्भाशय में सिकुड़न और मरोड़ आ सकती है। जिसका असर होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य पर भी पड़ सकता है। इसके अलावा तुलसी में मौजूद यूजेनॉल नाम का तत्व भी गर्भाशय में संकुचन और गर्भपात के खतरे को बढ़ा सकता है। खासतौर पर शुरू के तीन महीने इसका सेवन करने से बचना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें : ये आयुर्वेदिक टिप्‍स अपनाएंगी तो आपकी 5 समस्‍याएं हो जाएंगी छूमंतर

डायबिटीज की दवा ले रहे हैं तो न करें तुलसी का सेवन

tulsi leaves 

रिसर्च के अनुसार तुलसी ब्लड शुगर का लेवल कम करने में कारगर है। ऐसे में यदि आप पहले से ही डायबिटीज को नियंत्रित रखने के लिए दवाइयां ले रहे हैं तो तुलसी का सेवन न करें, क्योंकि इसका सेवन आपके ब्लड शुगर लेवल को और कम कर देगा और आपको कमजोरी व चक्कर जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।  

Recommended Video

ब्लड क्लॉट की प्रक्रिया को धीमा करती है 

तुलसी की पत्तियों का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से ब्लड क्लॉट की प्रक्रिया धीमी होने लगती है। इसलिए किसी भी सर्जरी या डिलीवरी से पहले तुलसी की पत्तियों का सेवन न करें। अन्यथा जल्दी ब्लड क्लॉट नहीं होगा और अधिक ब्लीडिंग की समस्या होगी। 

इसे जरूर पढ़ें : घुटने के दर्द से राहत पाने के लिए कैस्टर ऑयल का ऐसे करें इस्तेमाल, मिलेगा जल्द आराम

दांतों के लिए नुकसानदेह 

toothache

तुलसी की पत्तियों में काफी मात्रा में आयरन के तत्व और पारा जैसे तत्व मौजूद होते हैं। ये हमारे दांतों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए आयुर्वेद में तुलसी की पत्तियों को दांतों से चबाने के लिए मना किया जाता है। इसके अलावा तुलसी के पत्ते में कुछ मात्रा में आर्सेनिक भी पाया जाता है, जो दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है। 

हाइपोथायरायडिज्म के मरीजों के लिए हानिकारक 

हाइपोथायरायडिज्म के मरीजों के लिए तुलसी का अधिक सेवन नुकसानदेह साबित हो सकता है। हाइपोथायरायडिज्म की समस्या में थायरॉक्सिन हार्मोन का लेवल जरूरत से कम होता है और तुलसी का अधिक सेवन करने से इस हार्मोन का लेवल और कम हो जाता है। 

इन सभी कारणों से तुलसी का ज्यादा मात्रा में सेवन करना हानिकारक भी साबित हो सकता है। हालांकि तुलसी की पत्तियों का सीमित मात्रा में सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: free pik