आजकल ज्‍यादातर महिलाएं अपनी हेल्‍थ की देखभाल के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्‍स का इस्‍तेमाल करना पसंद करती हैं। इसलिए हम समय-समय पर आपको ऐसे हर्ब्‍स के फायदों के बारे में बताते हैं जो महिलाओं की हेल्‍थ के लिए औषधि की तरह काम करते हैं। हर्ब्‍स के फायदे बताने वाली इस श्रृंखला में आज हम आपको मूसली के फायदों के बारे में बता रहे हैं। जी हां मूसली का नाम तो आपने सुना ही होगा। आयुर्वेद में सफेद मूसली के जड़ और बीज का प्रयोग औषधि के लिए सबसे ज्यादा किया जाता है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि ताकत के लिए कई आयुर्वेदिक दवाओं में इस्‍तेमाल होने वाली मूसली आपकी हेल्‍थ के लिए किसी चमत्‍कारी औषधि से कम नहीं है। इसका इस्‍तेमाल कई तरह की हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स को दूर करने के लिए किया जाता है, खासतौर पर महिलाओं की हेल्‍थ से जुड़ी समस्‍याओं के लिए। सफेद मूसली महिलाओं की हेल्‍थ के लिए किस तरह से फायदेमंद हो सकती है? आइए इस बारे में आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट वाजपेयी जी से जानते हैं। 

एक्‍सपर्ट वाजपेयी जी का कहना है कि ''सफेद मूसली को शक्ति बढ़ाने वाले हर्ब के रूप में जाना जाता है, इसलिए आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल एक औषधि के रूप में बहुत ज्‍यादा किया जाता है। सफेद मूसली की जड़ और बीज, विशेष रूप से औषधि के रूप में बहुत फायदेमंद होते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम आदि बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। महिलाओं के लिए भी मूसली बहुत फायदेमंद होती है। यह बढ़ती उम्र का असर कम करती है, सुंदरता में निखार लाती है। इसके अलावा यह महिलाओं की कई समस्‍याओं जैसे यूरीन में जलन, ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ाने, मोटापा दूर भगाने, सांसों के रोग और ब्‍लड की कमी यानि एनिमिया को दूर करने में फायदेमंद होती है।''

इसे जरूर पढ़ें: 10 रोगों का एक साथ इलाज करता है ये 1 हर्ब, एक्‍सपर्ट से जानें कैसे

ब्रेस्टमिल्क बढ़ाने में उपयोगी

safed musli breastfeeding inside

अगर आपकी डिलीवरी अभी हुई है और ब्रेस्‍ट में पूरी तरह से दूध नहीं उतरता है तो ऐसी महिलाओं को ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ाने के लिए सफेद मूसली का इस्‍तेमाल करना चाहिए। इसे इस्‍तेमाल करने के लिए 2-3 ग्राम सफेद मूसली के चूर्ण में बराबर भाग मिश्री मिला लें। इसका दूध के साथ सेवन करें। इससे ब्रेस्‍ट में दूध बढ़ने लगेगा।

अर्थराइटिस में मददगार

बढ़ती उम्र में महिलाओं की बॉडी में कैल्शियम की कमी होने लगती है जिससे अर्थराइटिस की समस्‍या उन्‍हें परेशान करने लगती है। ऐसे में सफेद मूसली का सेवन फायदेमंद होता है। वाजपेयी जी के अनुसार, ''सफेद मूसली के कंद को पीसकर लगाने, या सफ़ेद मूसली के चूर्ण का सेवन करने से अर्थराइटिस के दर्द से आराम मिलता है।''

यूरीन संबंधी समस्‍या

urine problem safed musli inside

कई महिलाओं को यूरीन में जलन और दर्द की समस्‍या होती है। ऐसी महिलाओं के लिए मूसली बेहद ही फायदेमंद होती है। मूसली जड़ के चूर्ण को 1-2 ग्राम की मात्रा में सेवन करें या सफेद मूसली की जड़ को पीसकर इलायची के साथ दूध में उबालकर पीना बेहद फायदेमंद होता है। इससे आपको कुछ ही दिनों में राहत मिल सकती है।

पेट की समस्‍याओं में फायदेमंद

पेट में गड़बड़ी जैसे पेट दर्द, खाना की इच्छा न होना, दस्त जैसी समस्याएं होने पर सफेद मूसली बहुत फायदेमंद होती है। इसके लिए सफेद मूसली के कंद के चूर्ण का सेवन करना चाहिए। 1-2 ग्राम कंद का चूर्ण लेने या 2-3 ग्राम सफ़ेद मूसली की जड़ का चूर्ण दूध में मिलाकर लेने से समस्‍या ठीक हो जाती है।

Recommended Video

कमजोरी दूर करने में फायदेमंद

safed musli health inside

कभी-कभी अच्‍छी डाइट न लेने से या फिर अन्य कारणों से महिलाओं को कमजोरी की शिकायत हो जाती है। इसमें सफेद मूसली चूर्ण का सेवन करने से काफी फायदा होता है। कमजोरी महसूस होने पर सफेद मूसली के जड़ के 2-4 ग्राम चूर्ण को मिश्री में मिला लें। इसका दूध के साथ सेवन करें।

इसे जरूर पढ़ें: दुबलेपन के कारण बनता हैं आपका मजाक तो वजन को '1 महीने' में बढ़ाते हैं ये 8 चमत्‍कारी हर्ब्‍स

ल्यूकोरिया में फायदेमंद

ल्यूकोरिया महिलाओं में होने वाली एक आम समस्‍या है। इससे महिलाओं की हेल्‍थ पर बुरा असर पड़ता है। लेकिन आप परेशान न हो क्‍योंकि आप सफेद मूसली का इस्‍तेमाल करके ल्यूकोरिया को ठीक कर सकती हैं। समस्‍या से बचने के लिए 1-2 ग्राम सफेद मूसली की जड़ के चूर्ण का सेवन करें।

इस तरह से सफेद मूसली महिलाओं की 6 समस्‍याओं को दूर करने में मदद करती है। अगर आप भी इनमें से किसी भी समस्‍या से परेशान हैं तो आप भी इस औषधि का सेवन जरूर करें। इस तरह की जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।