भारत में कई ऐसे पेड़-पौधे और फूल हैं, जो अपने औषधिय गुणों के लिए जाने जाते हैं। उन्हीं में से एक है कचनार के फूल। पहाड़ी जगहों पर पाये जाने वाले कचनार के पेड़ की छाल और फूलों का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। यही नहीं आज भी इस कचनार का इस्तेमाल ग्रामीण जगहों पर दवाई के रूप में किया जाता है। इसके इस्तेमाल से उन्हें सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं। हालांकि कई लोगों को इसको इस्तेमाल करने का सही तरीका नहीं पता है, जिसकी वजह से नुकसान भी हो सकता है।

कचनार कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर है, जिसमें फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन, जिंक आदि शामिल हैं। इसमें मौजूद फाइबर, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट के गुण कई बीमारियों को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक दवाइयों की तरह इस्तेमाल किया जाता है। कई क्षेत्रों में कचनार की कली की सब्जी और अचार जैसी चीजें बनाई जाती है। यह खाने में बिल्कुल अन्य सब्जियों की तरह ही लगता है। 

  • ब्लड शुगर करें कंट्रोल

 kachnar flower is used for

कचनार में एंटी-डायबिटिक और एंटी हाइपरग्लाइसेमिक के गुण होते हैं। यह शरीर में इंसुलिन तंत्र को नियंत्रित करते हैं, साथ ही बढ़े हुए ब्लड शुगर के स्तर को कम करने में मदद करता है। ग्रामीण क्षेत्रों में कचनार के पेड़ की छालों को पीसकर पाउडर बना लिया जाता है और सुबह-सुबह काढ़ा बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा फूलों के रस का भी सेवन किया जाता है।

  • सूजन करें दूर

kachnar flower

सूजन की समस्या से परेशान हैं तो उससे निजात पाने के लिए कचनार की जड़ का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसकी जड़ के पाउडर में पानी डालकर पेस्ट तैयार कर लें और प्रभावित स्थान पर लगा लें। इससे आपको आराम मिलेगा।

इसे भी पढ़ें: स्किन को हेल्दी बनाने के लिए ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाना है जरूरी, अपनाएं ये टिप्स

  • मुंह के छालों को करें ठीक

मुंह के छालों को भी ठीक करने के लिए कचनार का उपयोग किया जाता है। इसके लिए कचनार के पेड़ की छाल का काढ़ा बना लें और उसमें थोड़ा सा कत्था मिलाएं। अब इससे कुल्ला करें। मुंह के छालों को ठीक करने के लिए यह बेहद प्रभावी माना जाता है।

Recommended Video

  • मंजन के रूप में इस्तेमाल

healthy teeth

दांतों में दर्द या फिर अन्य समस्यों से निपटने के लिए कचनार का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए पेड़ की छाल को जलाकर उसकी राख को मंजन के रूप में इस्तेमाल कर सकती हैं। अक्सर दांतों से निकलने वाले खून या फिर दर्द जैसी समस्याओं से निपटने के लिए यह एक देसी तरीका माना जाता है।

इसे भी पढ़ें:एक या दो मिनट में आ जाएगी गहरी और अच्छी नींद, ट्राई करें ये उपाय

  • घाव को करें ठीक

kachnar ka plant

अगर आपको फोड़े या फिर फुंसी जैसी समस्याएं हो रही हैं, तो कचनार की छाल का काढ़ा बना लें और फिर उस पानी से फोड़े या फुंसी वाली जगह को धोइए। इसके अलावा अन्य किसी घाव को भी ठीक करने के लिए इसका उपयोग कर सकती हैं, इससे आपको जल्द आराम मिलेगा।

  • इन बातों का रखें ध्यान

आमतौर पर कचनार का उपयोग दैनिक जीवन में लोग अक्सर करते हैं, लेकिन उन लोगों को इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, जिन्हें किडनी, लीवर से जुड़ा कोई रोग हो, या फिर सर्जरी या फिर अन्य गंभीर समस्याएं हैं। इसके अलावा गर्भवती महिलाएं भी इसका इस्तेमाल करने से बचें। वहीं अगर आपको कचनार के इस्तेमाल से किसी तरह की समस्याएं शुरू हो रही है तो इसका उपयोग न करें और डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।