करी पत्ते को अक्सर हम सिर्फ तड़का लगाने के लिए इस्तेमाल करते आए हैं, लेकिन लगभग हर घर में आसानी से मिलने वाला करी पत्ता असल में सिर्फ खाना पकाने के ही नहीं बल्कि बहुत से काम आ सकता है। आयुर्वेद में करी पत्ते को बहुत से कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसे न सिर्फ हमारे बालों के लिए अच्छा माना जाता है बल्कि इससे माउथ अल्सर, डायबिटीज आदि समस्याएं भी दूर हो सकती हैं। 

आयुर्वेदिक डॉक्टर दीक्षा भावसार ने हमें इस बारे में जानकारी दी और करी पत्ते के अलग-अलग तरह के इस्तेमाल के बारे में भी बात की। उन्होंने हमें बताया कि करी पत्ते के महत्व को अक्सर लोग नजरअंदाज़ कर देते हैं, लेकिन अगर सही तरह से इस्तेमाल किया जाए तो ये हमारे बहुत काम आ सकता है। करी पत्ते के सही इस्तेमाल से शरीर में वो जरूरी तत्व मिलते हैं।

curry patta expert quote

करी पत्ते में मौजूद हैं ये सारे गुण-

करी पत्ते में विटामिन A, B, C और B2 मौजूद है। करी पत्ते में प्लांट बेस्ड कम्पाउंड्स होते हैं जैसे अल्कलॉइड्स, ग्लाइकोसाइड्स, फेनोलिक कम्पाउंड्स, लीनालूल, अल्फा टर्पेनीन आदि (alkaloids, glycosides, phenolic, linalool, alpha-terpinene), ये सभी कम्पाउंड्स शरीर में एंटीऑक्सिडेंट्स का काम करते हैं और साथ ही साथ औषधीय गुण भी देते हैं। यही कारण है कि करी पत्ते का सही इस्तेमाल जरूरी है। 

curry patta for diabetes

डॉक्टर दीक्षा के मुताबिक अगर करी पत्ते को हम उस तरह से इस्तेमाल करें जैसा आयुर्वेद कहता है तो हम कई समस्याओं से बच सकते हैं। उनका कहना है कि इसे खाना पकाने के साथ-साथ आप अन्य तरह से भी इस्तेमाल कर सकते हैं। प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, विटामिन्स और मिनरल्स होने के कारण ये वजन कम करने में तो मदद करता ही है साथ ही इसके अन्य फायदे भी हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- ब्लड प्रेशर और इम्यूनिटी के लिए फायदेमंद है अमरूद, जानें एक्सपर्ट की राय

हेयर फॉल कंट्रोल के लिए कैसे इस्तेमाल करें करी पत्ता?

आयुर्वेद के मुताबिक करी पत्ते का तेल बहुत ही ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है। ये समय से पहले सफेद होते बालों के लिए भी ये एक अच्छा ऑप्शन है। अगर आपको भी ये समस्या है तो आप करी पत्ते वाला तेल जरूर बनाएं। 

कैसे बनाएं तेल-

1-2 कप नारियल के तेल या किसी अन्य कैरियर ऑयल को लेकर और मुट्ठी भर करी पत्ते और थोड़ा सा आंवला मिलाकर उबालें और ये तब तक करें जब तक तेल का रंग गहरा नहीं हो जाता। इसे अब ठंडा करके किसी अन्य कंटेनर में डालें और इसे अपने बालों में पार्टीनश कर अलग-अलग सेक्शन में ठीक से लगाएं। ये तेल जड़ों से लेकर टिप तक लगाया जाना चाहिए और खासतौर पर स्कैल्प पर इसे लगाएं। इसे रात भर लगे रहने दें और सुबह अपने बालों को माइल्ड शैम्पू से धो लें।  

curry patta for dandruff

डैंड्रफ और जुओं की समस्या के लिए कैसे इस्तेमाल करें करी पत्ता?  

करी पत्ता डैंड्रफ और जुओं की समस्या में भी मददगार साबित हो सकता है। आपको करी पत्ते से एक फाइन पेस्ट बनाना है और इसमें खट्टी छाछ मिलानी है। इस पेस्ट को स्कैल्प पर लगाना है जब तक ये सूख नहीं जाता और फिर इसे अच्छे से धो लेना है। हफ्ते में दो या तीन दिन इसे करें (बीच-बीच में 1-2 दिन का गैप देते रहें)। ये आपकी डैंड्रफ और जुओं की समस्या को खत्म करने में मदद करेगा।  

 

वेट लॉस के लिए कैसे इस्तेमाल करें करी पत्ता? 

क्योंकि इसमें बहुत से गुण होते हैं इसलिए ये वेट लॉस के लिए भी आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है। आपको 10-20 करी पत्ते को पानी में उबालना है और कुछ मिनट बाद इसे चाय की तरह छान लेना है। इसमें थोड़ा सा शहद और नींबू का रस मिलाकर इसे पीना है। आप चाहें तो बिना नींबू और शहद के भी इसे पी सकते हैं, लेकिन ये स्वाद में उतना अच्छा नहीं होगा। ये चाय फैट बर्निंग के लिए काफी अच्छी है और आयुर्वेदिक औषधी की तरह काम करती है।  

इसे जरूर पढ़ें- विराट-अनुष्का के डाइट कोच ने बताए विटामिन C से वेटलॉस के 4 तरीके  

माउथ अल्सर के लिए कैसे इस्तेमाल करें करी पत्ता? 

जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं। करी पत्ते का इस्तेमाल माउथ अल्सर्स के लिए भी किया जा सकता है। आपको करी पत्ते का पाउडर शहद के साथ मिलाकर माउथ अल्सर पर लगाना है। 2-3 दिन में ही आपको इस तरह की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।  

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Dr Dixa Bhavsar (@drdixa_healingsouls)

डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल और अन्य स्वास्थ्य संबंधित फायदों के लिए कैसे इस्तेमाल करें करी पत्ता? 

इन सभी समस्याओं के लिए करी पत्ता सीधे चबाना भी बहुत अच्छा ऑप्शन हो सकता है। आपको दिन में 8-10 करी पत्ते खाने हैं अगर आप सीधे करी पत्ते नहीं खा सकते हैं तो करी पत्ते का जूस सीधे पी लीजिए। इसे करी, चावल की डिश या सलाद में भी एड करें। अपनी डाइट का अहम हिस्सा इसे बनाया जा सकती है।  

करी पत्तों से अल्फा-एम्लीज नाम का एक बहुत ही ताकतवर एन्जाइम रिलीज होता है जिससे डाइट स्टार्च को ग्लूकोज में बदला जा सकता है और ये नेचुरल ब्लड शुगर को रेगुलेट करता है।  

आयुर्वेद के अनुसार कड़वा खाने से मीठे पर असर होता है और इसलिए डायबिटिक मरीज़ों के लिए कड़वे करी पत्ते बहुत काम के साबित हो सकते हैं जो कई डायजेस्टिव इशूज से बचाते हैं।  

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि करी पत्ते कितने फायदेमंद हो सकते हैं। अगर आपको ये स्टोरी पसंद आई तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।