सर्दियों में जिस तरह से स्किन केयर जरूरी है उसी तरह आंखों की देखभाल भी एक अहम् हिस्सा है। सर्दियों के दौरान यूवी किरणें आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाने के साथ आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकती हैं। इसलिए धूप में निकलते समय आंखों की सुरक्षा करने का सबसे अच्छा उपाय सनग्लासेस का इस्तेमाल करना है। आइए डॉक्टर अनुरीता वधावन, नेत्र विशेषज्ञ और चेयर पर्सन आई कैन फाउंडेशन (दिल्ली), से जानें कि सर्दियों की धूप से आंखों की सुरक्षा के लिए सनग्लासेस क्यों पहनना जरूरी है।  

अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से सुरक्षा

uv rays protection

जिस तरह गर्मियों के मौसम में, धूप का चश्मा या सनग्लासेस हमारी आंखों के आसपास की त्वचा की रक्षा के लिए जरूरी हैं, उसी तरह सर्दियों में भी हानिकारक यूवी किरणें आंखों के आस-पास की त्वचा को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती हैं, जिससे आंखें सुस्त दिखाई दे सकती हैं। साल के इस समय यानी कि सर्दियों के मौसम में अधिक सक्रिय यूवी किरणें मौजूद होती हैं जो आपकी आंखों को प्रभावित करती हैं। आमतौर पर सर्दियों में धूप का एक्सपोज़र ज्यादा होता है जिसका सीधा असर आंखों की रोशनी पर पड़ता है। इसलिए धूप में निकलने से पहले सनग्लासेस का इस्तेमाल करना अच्छा विकल्प है। सनग्लासेस 99 प्रतिशत यूवीए और यूवीबी किरणों को रोकते हैं और आंखों की सुरक्षा करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: सर्दियों में इन 5 टिप्स से करेंगी आंखों की देखभाल तो नहीं होगी कोई भी परेशानी

विंड बैरियर की तरह काम करते हैं

wind barrier

सर्दियों के दिनों में हवा में धूल और मलबे के कारण कॉर्नियल घर्षण हो सकता है। धूप का चश्मा, हवा की बाधाओं के रूप में कार्य करता है और हवा के कणों को आंखों में प्रवेश करने से रोकता है। क्लोज-फिटिंग, रैपराउंड स्टाइल धूप के चश्मे इन कारकों को रोकने में विशेष रूप से प्रभावी हैं। कुछ सनग्लासेस विशेष हाइड्रोफोबिक लेपित लेंस के साथ आते हैं जो धूल, पानी और तेलों को पीछे हटाते हैं, जिससे आँखें सुरक्षित और दृष्टि बिल्कुल स्पष्ट रहती है।

Recommended Video

नेत्र रोगों से सुरक्षा 

अच्छी क्वालिटी के सनग्लासेस पहनने से आंखों के कई रोगों से सुरक्षा होती है। नेत्र संबंधी कई ऐसे रोग होते हैं जो सूरज की हानिकारक किरणों से हो सकते हैं। नेत्र संबंधी रोग जैसे मोतियाबिंद, पिंगुइकुला, धब्बेदार अध: पतन आदि ऐसे नेत्र रोग हैं जो सूरज के असुरक्षित संपर्क के कारण होते हैं और वे आगे चलकर आंखों की रौशनी को भी प्रभावित कर सकते हैं। इसलिए विंटर धूप में सनग्लासेस का इस्तेमाल एक बेहतर ऑप्शन है। 

इसे भी पढ़ें: Expert advice: कोरोना काल में मास्क लगाने से क्यों बढ़ रहा है ऑक्युलर इरिटेशन का खतरा

डॉक्टर की सलाह है जरूरी

eye expert

हमेशा सनग्लासेस का चुनाव करने से पहले जरूरी है कि अपने डॉक्टर से सलाह लें। यदि आपकी आंखों की दृष्टि कमजोर है तो आपके लिए जरूरी है कि अपनी आंखों की पावर के अनुसार सनग्लासेस पहनें। हमेशा ऐसा धूप का चश्मा चुनें जो आपकी आंखों के लिए सबसे उपयुक्त हो। यदि आप सर्दियों में स्कीइंग जैसी कोई शीतकालीन गतिविधियाँ कर रहे हैं तो स्नो गॉगल भी पहन सकते हैं, वे यूवी किरणों से 100 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान करते हैं जो उन्हें गर्म और संरक्षित रखने के लिए आपकी आंखों के चारों ओर एक ढाल का निर्माण करते हैं। ऐसे सनग्लासेस चुनें जो 99% से 100% यूवीए और यूवीबी किरणों को अवरुद्ध करते हैं । रैप अराउंड ग्लासेज आपकी आंखों को साइड से बचाने में मदद करते हैं। ध्रुवीकृत लेंस ड्राइव करते समय चकाचौंध को कम करते हैं। यदि आप कांटेक्ट लेंस पहनते हैं, तो कुछ सनग्लासेस यूवी सुरक्षा प्रदान करते हैं।

यहां बताए सभी कारणों की वजह से सर्दियों की धूप सेआंखों की सुरक्षा करने के लिए सनग्लासेस का इस्तेमाल बहुत जरूरी है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik