कंप्यूटर पर काफी देर बैठे-बैठे आपके शरीर के साथ आंखें भी थकने लगती हैं। इस दौरान आपको आंखों में खुजली और जलन का एहसास होने लगता है। कॉन्टैक्ट-लेंस का बार-बार प्रयोग करने से भी आंखों में किरकिरापन, जलन होती है, लेकिन हम बार-बार होती इन समस्याओं को अनेदेखा कर देते हैं। यह सोच कर कि यह थोड़े समय में ठीक हो जाएगा। लेकिन क्या आप जानती हैं कि आपकी इस लापरवाही से आपको परेशानी का सामना उठाना पड़ सकता है। आंखों में बार-बार होती परेशानी का जरूर कोई न कोई मतलब तो होगा ही। आइए एक्सपर्ट से जानें आंखों में जलन, खुजली और किरकिरेपन का क्या है मतलब।

क्या होता है ड्राइ आई सिंड्रोम

what is eye dryness

जब आपकी आंखों में पर्याप्त आंसू नहीं बन पाते या फिर आंखों की नमी में कमी होने लगती है। तब आंखों की ड्राइनेस की समस्या होने लगती है। इससे आंखों में जलन, आंखें लाल होना, खुजली, किरकिरापन सा महसूस होता रहता है। आयुर्वेदाचार्य हरि कृष्ण पांडेय बताते हैं कि आयुर्वेद में इसे शुष्क अक्षि कहा गया है। यह वात, पित्त और खून के असंतुलन के कारण होता है। 

क्या हैं इसके कारण और मुख्य लक्षण

लगातार कंप्यूटर में काम करना, कॉन्टैक्ट लेंस का अधिक प्रयोग करना, सूजन या या किसी कारण आंखों की ग्रंथि को कोई नुकसान होने के कारण भी ऐसा हो सकता है। पोषक तत्वों की कमी। प्रदूषण के कारण या फिर कई समय तक एसी के नीचे बैठने के कारण भी ऐसा होता है। इसके अलावा कई अन्य कारणों के चलते आंखों की ड्राइनेस बढ़ती है। आंखों में सूखेपन के साथ जलन एवं खुजली होना। ड्राइनेस के कई लक्षण हैं, लेकिन कुछ मुख्य लक्षण है- आंखों में किरकिरापन या बार-बार आंखों में कुछ होने का आभास होना। आंखों से पानी निकलना। आंखों में अक्सर थकना रहना या फिर सूजन होना। खुजली और जलन होना।

इसे भी पढ़ें:सिरदर्द का देसी इलाज हैं ये 5 हर्ब, एक बार ज़रूर करें ट्राई

आंखों की ड्राइनेस से उबरने के लिए घरेलू उपाय

अगर आप शुरुआती कुछ लक्षण देखें, तो घर पर ही अपनी जीवनशैली में थोड़े बदलाव कर इससे निपट सकते हैं, लेकिन अगर यह परेशानी आपको बार-बार हो रही है, तो किसी डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

गुलाब जल

rose water

गुलाब जल आंखों को आराम देने के लिए सबसे अच्छा और नैचुरल उपाय है। यह विटामिन ए का समृद्ध स्रोत है। आंखों में खुजली, जलन या थकान होने पर आप दो कॉटन बॉल लें और उन्हें गुलाब जल में भिगोकर बंद पलकों पर रख दें। इससे आपकी आंखों को ठंडक मिलेगी। 7-10 मिनट बाद अपनी आंखों को ठंडे पानी से धो देने से आपको आंखों की जलन और खुजली में आराम मिलेगा।

इसे भी पढ़ें:घर में 5 मिनट में बनाएं शुद्ध और ताजा एलोवेरा जैल और अनगिनत फायदे पाएं

ऐलोवेरा जेल

एलोवेरा जेल आपकी त्वचा के साथ-साथ आपकी आंखों के लिए भी बहुत अच्छा है। ऐलोवेरा जेल में एल्‍कलाइन व एंटी-इंफ्लामेटरी गुण मौजूद होते हैं जो आंखों को ड्राईनेस से बचाता है और उन्हें मॉश्‍चराइज करने में भी मदद करता है। ऐलोवेरा जेल को पानी के साथ मिलाकर आंखें साफ करने से यह उनकी थकान मिटाएगा। आप चाहें तो उस मिश्रण में कॉटन की बॉल डालकर उसे आंखों के ऊपर भी रख सकती हैं।

Recommended Video

नारियल का तेल

coconut oil

नारियल के तेल में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। यह तेल आपकी आंखों के लिए एक रीइनवेंटिंग एजेंट की तरह काम करता है। रात को सोने से पहले थोड़ा सा नारियल का तेल हाथों में लेकर आंखों पर हल्के हाथों से लगाएं। 2 मिनट तक इसे एंटी-कॉल्कवाइज और कॉल्कवाइज तरीके से लगाएं। सुबह उठकर आंखों को धो लें। इससे आंखों की थकान कम होगी।

पौष्टिक आहार

ताजा फल, सब्जियां, साबुत अनाज और नट्स जिनमें ओमेगा 6 फैटी एसिड होते हैं, उनका सेवन करें। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक फैटी एसिड्स, विटामिन बी-6, विटामिन सी और डी को बढ़ाने से 10 दिनों के अंदर आंसू उत्पादन में वृद्धि होती है। ड्राई आंखों वाले लोगों में पोटाशियम की कमी होती है, इसलिए बादाम, केले, किशमिश, अंजीर और एवोकाडो को अपने आहार में शामिल करें। 

अगर आपको ये स्टोरी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

Image Credit : freepik images