बढ़ती उम्र के साथ लोगों को घुटने में दर्द की समस्या होने लगती है। लेकिन अब कम उम्र में भी महिलाएं इस समस्या से प्रभावित हो रही हैं। घुटनों में दर्द होने से एक्सरसाइज या फिर सीढ़ियों को चढ़ने में काफी परेशानी होती हैं। ऐसे में बार-बार दवाईयां खाना घुटनों के दर्द से राहत पाने के लिए प्रभावी तरीका नहीं है। इसके लिए और भी तरीकों को अपनाया जा सकता है। जैसे कैस्टर ऑयल, यह कई स्थितियों में राहत दे सकता है। कैस्टर ऑयल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटीफंगल गुण होते हैं। इसका उपयोग ज्वाइंट पेन, पीठ दर्द और अन्य परेशानियों के इलाज के लिए किया जाता है। घुटनों में चोट लगने पर होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए भी कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है।

आमतौर पर कैस्टर ऑयल जोड़ों के दर्द और घुटने के दर्द के लिए टॉप पर लगाया जाता है। लेकिन अगर आप चाहें तो कैस्टर ऑयल को हल्का गर्म कर के अपने घुटनों पर लगा सकती हैं या फिर इसका पैक बना सकती हैं। आइए जानते हैं कैस्टर ऑयल का पैक किस तरह बना सकते हैं।

कैसे बनाएं कैस्टर ऑयल पैक

pain relief

  • कैस्टर ऑयल (ठंडा)
  • हॉट वॉटर बॉटल
  • प्लास्टिक रैप, सिलोफन टेप, प्लास्टिक शीट,
  • टॉवेल 

इसे भी पढ़ें:बदलते मौसम में सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए ये 3 अद्भुत आयुर्वेदिक टिप्‍स आजमाएं

 

करें इस्तेमाल

castor oil for pain

  • एक टॉवेल या फिर कपड़ा लें और इसे गर्म पानी में भिगो दें।
  • उस पर कैस्टर ऑयल की कुछ बूंद डालें। लेकिन ध्यान रखें कि तेल अधिक न हो।
  • कपड़े को घुटनों पर रखें, और उसको दर्द वाले स्थान पर अच्छी तरह लपेटें।
  • तेल सभी जगह फैल जाए, इसके लिए सिलोफ़न को लपेट सकती हैं। तेल का रिसाव न हो इसके लिए टॉवेल भी लपेट सकती हैं।
  • पैरों पर कैस्टर ऑयल लगाने के बाद करीबन 7 से 8 घंटे के लिए छोड़ दें।

Recommended Video

 

कैस्टर ऑयल पैक लगाने से लिम्फोसाइटों की संख्या बढ सकती हैं। टी सेल एक तरह का लिम्फोसाइट है जो सेल मेडिटेड इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं। ऐसे में 24 घंटों के अंदर टी-सेल को कैस्टर ऑयल बढ़ाता है। वहीं लिम्फोसाइट बॉडी को सुरक्षित रखते हैं और रोगजनकों और टॉक्सिन्स के लिए एंटीबॉडी बनाते हैं। इसके अलावा टी सेल वायरस, बैक्टीरिया की पहचान करता है। साथ ही, यह कैंसर के सेल को भी मारता है।

oil for pain

कैस्टर ऑयल इंजरी या फिर दर्द से राहत पाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करने से पहले यह ध्यान रखें कि चोट पर किसी भी तरह का घाव या फिर त्वचा में किसी तरह का कट नहीं होना चाहिए। अगर आपको अक्सर घुटनों में दर्द या फिर एक्सरसाइज की वजह से दर्द की समस्या होती हैं तो आप कैस्टर ऑयल का पैक इस्तेमाल कर सकती हैं।

कई लोग कैस्टर ऑयल के बजाय अरण्डी के पत्तों का इस्तेमाल करते हैं। आप चाहें तो इसे अकेले या फिर अन्य जड़ी-बूटी के साथ मिलाकर इस्तेमाल कर सकती हैं। उम्र के साथ होने वाले घुटनों के दर्द से राहत पाने के लिए ज्यादातर लोग इसके पत्ते को पीसकर लेप तैयार करते हैं और त्वचा पर बाहरी रूप से उसका उपयोग करते हैं।

इन घरेलू तरीकों को रूटीन में शामिल कर आप न सिर्फ दर्द से राहत पा सकती हैं बल्कि खुद को एक्टिव भी रख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।