प्राचीन काल में जब भी किसी बीमारी को जड़ से खत्म करना होता था तो हर कोई आयुर्वेद की तरफ ही ध्यान देता था। आज भी कई गंभीर बीमारियों को दूर करने के लिए आयुर्वेद का ही सहारा लिया जाता है। आयुर्वेद से बीमारी चंद दिनों में खत्म भी हो जाते हैं और साथ में इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है, क्योंकि काफी हद तक यह एक नेचुरल तरीका है। दर्द की समस्या, त्वचा की परेशानी, आंख-नाक और कान दर्द के साथ-साथ दांतों से संबंधी कई परेशानियों को दूर करने के लिए आज भी कई लोग आयुर्वेद का ही हेल्प लेते हैं।

ऐसे में मसूड़ों में दर्द होना, खून निकलना, कमज़ोर होना आदि कई समस्याओं में आयुर्वेद उपचार आपके लिए बेस्ट साबित हो सकता है। इस संबंध में आयुर्वेदिक विशेषज्ञ और वैद्य आयुर्वेदा की को-फाउंडर डॉक्टर अपर्णा पद्मनाभन हमें बात रही हैं कि आयुर्वेद के माध्यम से दांतों और मसूड़ों को किस तरह अच्छे से ध्यान रख सकते हैं, तो आइए जानते हैं।

आंवला पाउडर का करें इस्तेमाल 

ayurveda tips for receding gum inside

दांतों और मसूड़ों यानि  receding गम की समस्या को दूर करने के लिए आंवला पाउडर एक बेस्ट आयुर्वेदिक उपचार है। इसके इस्तेमाल से कुछ ही दिनों में आपको अच्छा महसूस होगा। इसके लिए लगभग 100 मिली गरम पानी में एक चम्मच आंवला पाउडर मिक्स करके दिन भर में कम से कम तीन बार कुल्ला करें। इससे आपको बहुत जल्द ही आराम मिलेगा। इसके अलावा आप त्रिफला चूर्ण को भी गरम पानी में मिलाकर कुल्ला कर सकती हैं। ये दोनों ही आयुर्वेदिक उपचार आपके लिए बेस्ट साबित हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: बच्चों के लिए बेहद नुकसानदायक हैं यह ड्रिंक्स, बिल्कुल भी पीने ना दें     

नीम और आम के स्टिक का करें इस्तेमाल 

know ayurveda tips for receding gum

जी हां, शायद आपको मालूम होगा कि आज भी कई बीमारियों को दूर करने के लिए आयुर्वेद में नीम के पत्तों के साथ साथ आम के पत्तों या जड़ आदि का सहारा लिया जाता है। दांतों और मसूड़ों की परेशानी को दूर करने के लिए भी आप इसका उपयोग कर सकती हैं। इसके लिए नीम के साथ-साथ आम के स्टिक को चबाकर फेंके। इस परिक्रिया को दिन में लगभग 3 बार ज़रूर करें। इससे भी काफी हद तक receding gum की समस्या दूर हो सकती है।

Recommended Video

ऑयल पुल्लिंग 

ayurveda tips for receding gum inside

दांतों और मसूड़ों की परेशानी को दूर करने ऑयल पुल्लिंग भी एक बेस्ट आयुर्वेदि इलाज है। हालांकि, कोई भी तेल का इस्तेमाल सही साबित नहीं हो सकता है इसलिए इस समस्या को दूर करने के लिए कुछ विशेष ऑयल का जिक्र किया जाता है। इरिमेदादि तेल और sesame ऑयल इस परेशानी को दूर करने के लिए बेस्ट साबित हो सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इरिमेदादि तेल दांतों को सुरक्षित रखने और मसूड़ों के संक्रमण से दूर रखने के लिए बेस्ट तेल माना जाता है। इसी तरह sesame ऑयल को भी।

इसे भी पढ़ें: इन योगासनों को अक्सर लोग करते हैं गलत तरीके से, कहीं लिस्ट में आप भी तो नहीं 

हालांकि, इन सभी उपचारों के सुझाव के बाद भी अगर समस्या दूर नहीं होती हैं, तो डॉक्टर अपर्णा पद्मनाभन का मानना है कि इस समस्या के लिए किसी विशेष व्यक्ति या फिर आयुर्वेदिक जानकर से मिलकर नियमित सलाह ज़रूर लेनी चाहिए। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@wp-content,greenwood.dental)