इस बार सितंबर 2019 आपके लिए थोड़ा महंगा महीना साबित हो सकता है। वैसे तो हर साल त्योहारों के आते ही जेब पर थोड़ा ज्यादा वजन पड़ जाता है और खर्च का हिसाब रखना मुश्किल हो जाता है, लेकिन अगर सिर्फ सरकारी सेवाओं और कीमत में बढ़त को देखें तो इस साल खर्च और भी ज्यादा बढ़ने वाला है। सोने से लेकर सब्जियों तक काफी कुछ महंगा हो गया है। पर ऐसा क्यों? और किस-किस आइटम पर आपको ज्यादा पैसे चुकाने होंगे? 

इस सितंबर महीने में गणेश चतुर्थी के साथ-साथ बढ़ी हुई कीमतें भी आई हैं। HerZindagi की ये कोशिश रहेगी कि हर महीने आपको इसी तरह मार्केट की कीमतों को लेकर जानकारी दे दी जाएं।  

IRCTC train

1. सोने की कीमत में हुआ है इजाफा-  

त्योहार और शादियों के सीजन में सोने के दाम बढ़ जाते हैं। यही हाल इस सितंबर में भी हुआ है। हालांकि, इस बार सोने के दाम अब तक के सबसे ज्यादा के रिकॉर्ड को पार कर चुके हैं। इसका कारण है चीन और अमेरिका की ट्रेड वॉर जिसका असर भारत पर पड़ रहा है। 4 सितंबर को भी सोने के दाम बढ़े 24 karat सोने के दाम ₹538 और बढ़कर ₹38,987 प्रति 10 ग्राम हो गए हैं। ऐसा ही चांदी के साथ भी हुआ। चांदी के दाम ₹1,080 और बढ़कर ₹47,960 प्रति किलो हो गए हैं। 

सोने और चांदी के दाम अभी और भी ज्यादा बढ़ सकते हैं। इसका कारण है आने वाला त्योहारों का सीजन। 

इसे जरूर पढ़ें- Article 377 Anniversary: भारत-पाकिस्तान के इस लेस्बियन जोड़े ने रीति-रिवाज से अमेरिका में रचाई शादी  

2. IRCTC से ट्रेन टिकट बुकिंग हुई महंगी-  

भारतीय रेलवे ने अपनी ऑनलाइन टिकट बुकिंग वेबसाइट IRCTC पर सर्विस चार्ज लगाने का फैसला किया है। अब नॉन एसी 15 रुपए और एसी के कोच के लिए 30 रुपए अधिक सर्विस चार्ज देना होगा। ये चार्ज आपको किसी भी ऑनलाइन सर्विस पोर्टल के जरिए भी देना होगा जो सीधे IRCTC में लॉगइन करवाता है। यानी ट्रेन टिकट बुकिंग महंगी हो गई है।  

Indian Railway price rise

ये चार्ज UPI और BHIM ऐप पर भी पड़ेगा हालांकि, वहां 10 रुपए नॉन एसी और 20 रुपए एसी के लिए चार्ज होगा। यानी आपको अब अपनी ट्रेन टिकट बुकिंग के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे।  

3. LPG गैस कनेक्शन-  

पिछले महीने LPG के दाम 62 रुपए कम करने के बाद इस महीने उन्हें बढ़ा दिया गया है। सितंबर से 15 रुपए 50 पैसे प्रति सिलेंडर के हिसाब से LPG के दाम बढ़ाए गए हैं। अब ये 574.50 रुपए से बढ़कर 590 रुपए हो गया है। यानी अब खाना बनाना फिर से महंगा होता जा रहा है। 

इतना ही नहीं केरोसीन के दाम भी 25 पैसे बढ़ा दिए गए हैं।  

4. सब्जियों और फलों के दाम- 

इस बार त्योहारों के कारण ही नहीं बल्कि कई अन्य कारणों से भी सब्जियों और फलों के दाम बढ़ रहे हैं। हर साल गणपति के आने के साथ ही फलों, फूलों और सब्जियों के दाम थोड़े बढ़ते हैं, लेकिन इस बार उसका कारण देश भर के कई राज्यों में आई बाढ़ भी है। ओखला मंडी दिल्ली के एक व्यापारी हाजी यमीन के अनुसार पिछले महीने प्याज़ 15-18 रुपए किलो बिक रहा था और अब 22-26 रुपए किलो बिक रहा है। ये तो होलसेल का दाम है और आम तौर पर 40 रुपए प्रति किलो खुदरा रेट में बिक रहा है। 

vegetables price rise in india

इसी तरह से टमाटर, आलू और अन्य सभी सब्जियां महंगी हो रही हैं। फलों का रेट भी इसी कारण बढ़ रहा है। अब 60 से लेकर 90 रुपए दर्जन के रेट में केले बिक रहे हैं। ये महंगाई सीधे आम आदमी के बजट को बिगाड़ रही है।

इसे जरूर पढ़ें- इन 5 टिप्स की मदद से, घर पर अपने Pet को आसानी से दें ट्रेनिंग

5. गाड़ी चलाने वालों का चालान- 

1 सितंबर से ही मोटर वेहिकल एक्ट भी लागू हुआ है। इसके कारण गाड़ी चलाने वालों का चालान बढ़ गया है। अगर आपको पहले बिना हेलमेट गाड़ी चलाने के लिए 500 रुपए का चालान लगता था तो अब 10 हज़ार का चालान कटेगा। इतना ही नहीं अगर गाड़ी के कागज नहीं होंगे तो आपको 21 हज़ार रुपए तक का चालान देना होगा। 

जी हां, ये हो गया है नया नियम और अब इसके तहत अगर एक बार भी चालान कटा तो पूरे महीने का बजट बिगड़ सकता है।