प्रचीन काल से भारतीय संस्कृति और हिंदू धर्म में स्वास्तिक को मंगल प्रतीक माना जा रहा है। हिंदू धर्म को मानने वाले लोग अपने घर के दरवाजे और घर के अंदर कई स्थानों पर इस चिन्ह को बनाते हैं। वह केवल इस चिन्ह को बनाते ही नहीं बल्कि इसकी पूजा भी करते हैं। स्वास्तिक का अर्थ ही ‘अच्छा’ होता है। हिंदू धर्म में बहुत सारे चिन्ह हैं जिन्हें शुभ माना गया है। उनमें से यह भी एक है। स्वास्तिक की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसे जिस दिशा में भी बना दिया जाए यह वहां की पॉजिटिव एनर्जी को 108 गुना बढ़ा देता है। यदि कहा जाए कि यह सबसे से विशेष और शक्तिशाली चिन्ह है तो यह गलत नहीं होगा। 

इसे जरूर पढ़ें: क्‍या इन अंधविश्‍वासों पर आपको भी है भरोसा?

अमूमन लोग स्वास्तिक को एक दूसरे से काटती हुई दो रेखाओं के माध्यम से बना लेते हैं। मगर, इस बनाने का यह सही तरीका नहीं होता। आपको जानकर हैरानी होगी कि हिंदू धर्म के प्रसिद्ध ऋगवेद में स्वास्तिक को सूर्य का प्रतीक माना गया है और इसकी 4 भुजाओं को चार दिशाएं बताया गया है। इसे लोग घर के दरवाजे, मंदिर, तिजोरी और दीवारों पर बनाते हैं और उसकी पूजा करते हैं। इस चिन्ह में इतनी शक्ति होती है कि इसे बनाने मात्र से घर में खुशियां आ जाती हैं और आर्थिक दशा भी सुधर जाती है। 

 
 
 
View this post on Instagram

The swastika is a cross with four arms of equal length. The word Swastika derived from Sanskrit word Svasti which means good fortune, luck, and wellbeing. The swastika is an ancient symbol that has been found worldwide but it is especially common in India. According to Hindu beliefs, the right-hand swastika is one of the 108 symbols of the Hindu God Vishnu as well as a symbol of the sun and of the Lord Sun. Whereas the left-hand swastika represents the Goddess Kali, night and magic. The swastika symbol is very commonly used in the decoration of houses and in Hindu art. To receive similar updates on WhatsApp, kindly Inbox us your WhatsApp number or click the below "Learn More" button and subscribe to our WhatsApp broadcast. #cyclepure #puredevotion #Swastika #incense #agarbatti #mytradition #indianculture #bhakti #indiantradition #indianheritage #hindutradition #ourculture #hindurituals #hindu #hinduism #indianrituals #devotion #myrituals #devotional

A post shared by Cycle Pure Agarbathies (@cyclepure) onJun 25, 2019 at 3:30pm PDT

विज्ञान के आधार पर इसे गण्ति का एक चिन्ह माना गया है। यह पॉजिटिव और नेगेटिव दोनों तरह की शक्ति का प्रवाह करता है। इसलिए बहुत जरूरी है कि इसे सही तरह से और सही दिशा में बनाया जाए। स्वास्तिक का चिन्ह बनाने के कई लाभ भी हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Vastu Tips: पति-पत्नी के बीच बना रहेगा प्यार, आजमाएं ये टिप्स

कैसे बनाएं स्वास्तिक 

एस्ट्रो एक्सपर्ट जय मदान ने एक वीडियो में स्वास्तिक बनाने की सही विधि बताई है। उनके वीडियो के अनुसार, ‘स्वास्तिक को बनाते वक्त ध्यान रखें कि उसे क्रॉस बना कर न बनएं। अमूमन लोगों के यह नही पता होता है। वह पहले प्लस का साइन बनाते हैं और उसके बाद स्वास्तिक की अन्य भुजाएं बनाते हैं। मगर, इस तरह बनाए गए स्वास्तिक को शुभ नहीं माना जाता है। स्वास्तिक का हमेशा पहले दाएं का भाग बनाएं और फिर बाएं का भाग बना दें। इस तरह बने स्वास्तिक को ही शुभ माना जाता है।’

इसे जरूर पढ़ें: ‘ॐ’ उच्चारण करने से मिलेंगे ये 5 फायदे, जो पैसा खर्च करने से भी नहीं मिल पाएंगे

swastika secret

वास्तु के हिसाब से स्वास्तिक 

  • अगर आपको खूब पैसा कमाना है तो आपको घर की उत्तर की दिशा में बनी दीवार पर स्वास्तिक का निशान बनाना चाहिए। इससे आपको कभी भी पैसे की कमी नहीं होगी
  • अगर आप चाहती हैं कि आपके घर में ढेर सारी खुशियां आएं तो आपको घर की दक्षिण दिशा में बनी दीवार पर स्वास्तिक का चिन्ह बनाना चाहिए। इससे आपके घर में खुशियां ही खुशियां बिखर जाएंगी। 
  • अगर आपका व्यवसाय ठीक नहीं चल रहा या आपको लगातार हानि हो रही है तो आपको तिजोरी पर लाल रंग की रोली से स्वास्तिक बनाना चाहिए। आपको उत्तर पूर्व दिशा में यह चिन्ह बनाना चाहिए । 
  • वहीं अगर आपको अपने किसी काम या बिजनेस में प्रॉफिट कमाना है तो आपको अपने घर की वेस्ट दिशा में बनी दीवार पर स्वास्तिक का निशान बनाना चाहिए। इससे आपको बिजनेस में बहुत लाभ मिलेगा। 
  • आपके घर में पढ़ने वाले बच्चे हैं तो आपकेा सफेद रंग के कागज पर स्वास्तिक बना कर उसे बच्चों के पढ़ाई वाले स्थान पर रख देना चाहिए। 

स्वास्तिक के लाभ 

एक धामिर्क वेबसाइट को दिन इंटरव्यू में ज्योतिष एवं वास्तु सलाहकार पंडित दयानंद शास्त्री ने स्वास्तिक के लाभों के बारे में बताया है। 

  • अगर आपकी लाइफ में परेशानी चल रही है तो आपकेा पंच धातु के स्वास्तिक को अपने घर की चौखट पर लगवाना चाहिए। इससे आपकेा सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेंगे। 
  • घर में अगर कोई हमेशा बीमार रहता है तो आपको घर के मुख्य द्वारा पर अगर आप स्वस्तिक का चिन्ह बनाना चाहिए। इसकी हल्दी और कुमकुम से पूजा करनी चाहिए। घर में जो बीमार है उसकी सेहत सुधरती हैं। 
  • अगर आपके घर के सामने पेड़ है या फिर कोई खम्बा है तो यह वास्तु के हिसाब से अशुभ होता है। इसलिए आपको इन पर स्वास्तिक का निशान बना लेना चाहिए। 
  • आप जिस भी देवी या देवता की पूजा करने जा रहे हैं उन्हें खुश करने के लिए आप स्वास्तिक बना कर उनकी प्रतिमा को उसके उपर रख दीजिए इससे आपकी पूजा सफल हो जाएगी।