आजकल अधिकतर लोग सिर्फ आउटडोर ही नहीं, बल्कि इनडोर में भी प्लांट्स लगाना पसंद करते हैं। लेकिन सिर्फ प्लांट्स लगाना ही काफी नहीं होता, बल्कि जरूरी है कि उसकी सही तरह से देखरेख भी की जाए। हालांकि, कभी-कभी ऐसा भी होता है कि इनडोर प्लांट्स लगाने के बाद और उसकी सही तरह से केयर करने के बाद भी हाउसप्लांट बेहद उदास नजर आते हैं या फिर वह सही तरह से पनपते नहीं है और आपको समझ ही नहीं आता कि आखिर वास्तव में क्या समस्या हो रही है। 

हो सकता है कि आपको भी प्लांटिंग करने का शौक हो, लेकिन फिर भी आपके हाउसप्लांट्स की सही तरह से ग्रोथ ना हो रही हो, तो इसका अर्थ है कि वह नाखुश है। कई बार इंडोर हाउसप्लांट्स अनहेल्दी भी होते हैं और इस कारण भी उनकी ग्रोथ पर असर होता है। अगर आप एक बिगनर हैं तो शायद आप प्लांट्स द्वारा दिए जाने वाले संकेतों को ना पहचान पाएं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको अनहैप्पी हाउसप्लांट्स के कुछ संकेतों के बारे में बता रहे हैं-

फूल कम और पत्ते अधिक

plants care tips in hindi

अगर आप अपने फूलों वाले हाउसप्लांट पर देखती हैं कि उस पर फूल बहुत कम हैं, जबकि उसकी तुलना में पत्ते अधिक हैं, तो यह अत्यधिक नाइट्रोजन या सूर्य के प्रकाश की कमी का संकेत देता है। इस स्थिति में प्लांट्स की केयर करने के लिए आप उसे ज्यादा रोशनी वाले स्थान में रख दें और कम नाइट्रोजन वाली खाद डालें।

पत्तों का भूरा व क्रिस्पी होना

tips to green plants

किसी भी पौधे के लिए कुछ भूरे रंग के पत्ते होकर गिरना सामान्य बात है। लेकिन समस्या तब होती है जब इससे नए पत्ते प्रभावित होते हैं, या बहुत अधिक संख्या में पत्ते भूरे रंग के हो जाते हैं। तो यह संकेत है कि आपका पौधा खुश नहीं है। अगर पूरा पत्ता भूरा और झुर्रीदार हो रहा है, तो यह अंडरवाटरिंग और ह्यूमिड एनवायरनमेंट की कमी का संकेत देता है। ऐसे में आप पौधे को सही तरह से पानी दें और सुनिश्चित करें कि आप मिट्टी को लंबे समय तक पूरी तरह से सूखने न दें। वहीं, अगर पत्तियों के किनारे भूरे हो जाते हैं, तो यह बहुत अधिक उर्वरक, कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग, शुष्क मिट्टी, गर्म हवा, कम तापमान, या जड़ की सड़न का संकेत है। इस समस्या को ठीक करने के लिए महीने में एक बार पौधे को खाद दें और पॉट  को पेबल्स ट्रे में रख दें।

इसे ज़रूर पढ़ें- Astro Tips: दिन के हिसाब से करें तुलसी के ये उपाय

झुलसे हुए पत्ते

झुलसी हुई और जली हुई पत्तियां सीधे सूर्य के अत्यधिक संपर्क का संकेत हैं। ऐसी स्थितियों में, पौधे को सीधे से अप्रत्यक्ष सूर्य के प्रकाश की ओर ले जाएं और जले हुए व झुलसे हुए पत्तों को हटा दें। पौधे को अच्छी तरह से पानी दें लेकिन पानी तभी दें जब ऊपरी मिट्टी को छूने के लिए सूखा महसूस हो। साथ ही ओवर फर्टिलाइजेशन से बचें। (गर्मी में आपके पौधों को नहीं होगा कोई नुकसान, बस इन बातों का रखें ध्यान)

पौधे का मुरझाना  

plant care

अगर अभी मिट्टी बहुत अधिक गीली है तो इससे पौधा मुरझा सकता है और पत्तियां गिर सकती हैं। हेल्दी रूट ग्रोथ को प्रोत्साहित करने के लिए पौधों को अधिक मात्रा में पानी देने से बचें। यदि पौधा मुरझा रहा है, तो पौधे को गमले से हटा दें और रूट्स को चेक करें। यदि आपको सड़ी हुई या संक्रमित जड़ें मिलें, तो उन्हें काट लें। साथ ही प्लांट को एक दूसरे साफ पॉट में लगाएं, जिसमें पर्याप्त ड्रेनेज सिस्टम हो।

पत्तियों का गिरना

leaf care tip

पत्तियों का गिरना एक अनहेल्दी पौधे होने का एक सामान्य संकेत है। अधिकांश हाउसप्लांट की कभी-कभी एक या दो पत्ती ही गिरती है। (हाउसप्लांट्स खरीदते समय इन टिप्स पर दें ध्यान) लेकिन अगर आपके पौधे की बहुत अधिक पत्तियां गिर रही हैं, तो इसके कई कारण हो सकते हैं। मसलन, तापमान में उतार-चढ़ाव, ठंडे पानी से पौधे को पानी देना, पानी की कमी होना या फिर प्लांट्स को जरूरत से ज्यादा देना। इसलिए, अगर आपके पौधे की पत्तियां मुरझाने या गिरने लगती हैं तो ऐसे में आपको अपने प्लांट्स को एक बार अच्छी तरह चेक करना चाहिए।

इसे ज़रूर पढ़ें- अपने इंडोर प्लांट्स का ऐसे रखें ध्यान, नहीं होंगे आपके पौधे खराब

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- freepik, balconygardenweb