• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial

गर्मी के मौसम में मिट्टी का मटका रखते समय वास्तु के इन नियमों का रखें ध्यान

अगर आप गर्मी के मौसम में मिट्टी के मटके को इस्तेमाल करती हैं, तो आपको वास्तु के इन नियमों का भी ध्यान रखना चाहिए। 
Published -20 May 2022, 15:42 ISTUpdated -20 May 2022, 17:30 IST
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
  • Published -20 May 2022, 15:42 ISTUpdated -20 May 2022, 17:30 IST
Next
Article
vastu tips to follow for earthen pot m

गर्मी के मौसम में हम सभी ठंडा पानी पीना पसंद करते हैं। आमतौर पर, लोग पानी को ठंडा करने के लिए फ्रिज का सहारा लेते हैं। लेकिन वहीं कुछ लोग पानी को नेचुरली ठंडा करने के लिए मटके का इस्तेमाल करते हैं। मिट्टी से बना मटका ना केवल पानी को नेचुरल तरीके से ठंडा करता है, बल्कि इससे अन्य भी कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। इसलिए, गर्मी के मौसम में आपको घर-घर में मिट्टी का मटका मिल जाएगा।

हो सकता है कि आपने भी मटके को हाल ही में खरीदा हो और अब आप उसमें रखे पानी का ही सेवन कर रहे हों। लेकिन क्या आपको पता है कि वास्तु के अनुसार मटक को रखने और उसे इस्तेमाल करने के भी अपने कुछ तरीके होते हैं।

अगर वास्तु के इन नियमों का ख्याल रखा जाए तो इससे आपको अतिरिक्त लाभ मिलता है। तो चलिए वास्तुशास्त्री डॉ. आनंद भारद्वाज आपको घर में मिट्टी के मटके को रखने के सही तरीके के बारे में बता रहे हैं-

सही दिशा में रखें मटका

keeping pot in right direction

अगर आप घर में पानी का घड़ा या मटका रख रहे हैं तो उसे सही दिशा में रखना बेहद आवश्यक है। इसे हमेशा उत्तर दिशा या उत्तर-पूर्व दिशा अर्थात् ईशान कोण में रखना चाहिए। उत्तर-पूर्व दिशा बृहस्पति का स्थान है और अगर वहां पर जल विशेष रूप से पीने का पानी रखते हैं तो इससे बच्चों के भौतिक विकास में मदद मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें- वास्तु के अनुसार किचन को घर में कहां होना चाहिए

वहीं, उत्तर दिशा में मटका रखने से बच्चों को करियर ग्रोथ में मदद मिलती है। साथ ही साथ, उत्तर दिशा में रखा घड़ा आर्थिक उन्नति के लिए भी अच्छा माना जाता है।

टेराकोटा का बना हो मटका

terracota pot

अगर आप घर के लिए घड़ा खरीद रही हैं, तो उसके मैटीरियल पर भी ध्यान दें। आप ऐसे मटके को खरीदने का प्रयास करें, जो टेराकोटा का बना हो। इसमें किसी भी रूप से मेटल का इस्तेमाल ना किया गया हो। मसलन, कभी-कभी मटके के ऊपर मैटेलिक पॉलिश या पेंट कर दिया जाता है, जो अच्छा नहीं माना जाता है।

ना करें यह भूल

earthen pot mistakes to avoid

कई बार लोग यह भी समझते हैं कि मटका रेड कलर का होता है, जो अग्नि का प्रतीक है और इसलिए इसे उत्तर दिशा में नहीं होना चाहिए। अगर आप भी ऐसा ही सोचती हैं, तो आप गलत हैं।

इसे जरूर पढ़ें- Easy Hacks: मटके के रख-रखाव के आसान टिप्‍स

आपको यह समझना चाहिए कि मटका अग्नि का प्रतीक नहीं है, बल्कि वह नेचुरल मिट्टी का बना हुआ है, जिसे बाद में अग्नि में पकाया गया है। बनने के बाद इसमें प्रधानता अग्नि की नहीं, बल्कि जल की है और इसलिए उत्तर दिशा इसके लिए सर्वोत्तम है।

ना करें इस्तेमाल चटका हुआ मटका

avoid using broken pot

यह भी देखने में आता है कि अगर मटका कहीं से चटक जाता है या फिर उसका ऊपरी कोना टूट जाता है, तब भी लोग उसका इस्तेमाल करते रहते है। लेकिन चटके हुए मटके को कभी भी घर पर प्रयोग नहीं करना चाहिए। अगर आपका मटका चटक गया है, तो उसे तुरंत बदल दें।  

प्लास्टिक से बचें

मटका लेने के बाद लोग अक्सर उसे कवर करने के लिए प्लास्टिक के बर्तन का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आपको ऐसा भी करने से बचना चाहिए। आजकल मार्केट में टेराकोटा के ही बने हुए छोटे-छोटे लिड मिलते है। अगर आप इन मिट्टी से बने लिड का इस्तेमाल करती हैं, तो इससे आपको अतिरिक्त लाभ मिलता है। इसलिए जब भी आप मटका खरीदें तो उसके साथ वह लिड भी खरीद सकती हैं।

तो अब आप इन वास्तु नियमों का ख्याल रखे और मिट्टी के मटके को सही तरह के रखकर उसका पूरा लाभ उठाएं।

 


अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकीअपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।