कहते हैं 'दो बोतल पानी से अगर प्यास न बुझे तो यक़ीनन एक बोतल घड़े का पानी का सेवन करके देखिये। इसे प्यास भी बुझेगी और शरीर की तमाम बीमारियों को एकदम से खत्म भी किया जा सकता हैं।  हां, अगर नियमित समय से घड़े के पानी का सेवन करती हैं तो'। बदलते समय और लाइफस्टाइल के चलते आजकल हर कोई गर्मियों में पानी को स्टोर और ठंडा करने के लिए फ्रिज का इस्तेमाल करने लगे हैं। लेकिन, आज भी गांव और देहातों में पीढ़ियों से भारतीय घरों में पानी स्टोर करने के लिए मिट्टी के घड़े का ही इस्तेमाल किया जाता रहा है।

लेकिन, सही जानकारी नहीं होने के चलते कई लोग मिट्टी के घड़े में पानी को स्टोर नहीं कर पाते हैं। कुछ लोग घड़े में पानी स्टोर करते भी हैं, तो घड़े का पानी नार्मल पानी की तरह ही रहता है। इसलिए आज आपके साथ कुछ टिप्स शेयर करने जा रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप आसानी से मिट्टी के घड़े में पानी को लम्बे समय और शुद्ध पानी को स्टोर कर सकती हैं। तो आइए जानते हैं।

मिट्टी का सहारा लें 

how to preserve water in earthen pot inside

जी हां, मिट्टी के घड़े में पानी को स्टोर करने के लिए आप मिट्टी का सहारा ले सकती हैं। इसके लिए आप घर के गार्डन में घड़े का आधा हिस्सा मिट्टी के अंदर डाल दीजिये। आधा हिस्सा डालने के बाद चारों तरफ से घड़े को ढक दीजिये। अब इसमें पानी को डालें और ऊपर से किसी बर्तन से ढक दीजिये। इससे घड़े का पानी फ्रिज में भी अधिक ठंडा लगेगा और ये पानी सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद होगा। इसी तरह आप किसी बोरी में मिट्टी भरके घड़े के आधे हिस्से को मिट्टी में रखके घर में किसी जगह भी रख सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: फ्रिज में भूलकर भी इन चीजों को गर्मियों में अधिक दिनों तक न करें स्टोर

सैंड का करें इस्तेमाल 

how to preserve water in earthen pot inside

अगर आपको मिट्टी में घड़े को नहीं रखना और घर के अंदर भी रखना है, तो उसके लिए भी उपाय है। इसके लिए, जिस जगह आपको घड़े को रखना है, उस जगह एक बर्तन में सैंड को रख दीजिये और सैंड के ऊपर से मिट्टी के घड़े को रख दीजिये। ऐसा करने से मिट्टी का घड़ा टूटेगा भी नहीं और आप हेल्दी और शुद्ध पानी का सेवन भी आसानी से कर सकती हैं। मिट्टी के घड़े में से पानी का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होता है।

Recommended Video

समय-समय पर करें सफाई 

preserve water in earthen pot inside

जिस तरह से आप समय-समय पर फ्रिज की सफाई पर ध्यान देती हैं, ठीक उसी तरह मिट्टी के घड़े की सफाई पर भी ध्यान देने की ज़रूरत होती है। लगभग दो से तीन सप्ताह के बाद घड़े से सभी पानी को निकाल कर अच्छे से सफाई कर लीजिये। साफ करने के बाद कुछ देर के लिए तेज धूप में घड़े को ज़रूर रखें ताकि इसमें मौजूद विषैले तत्व नष्ट हो जाए। इसका भी ध्यान रखें कि जिस जगह आप मिट्टी के घड़े को रख रहे हैं वहां का तापमान थोडा नार्मल हो।

इसे भी पढ़ें: हाथों से जर्म्स का सफाया करने के अलावा भी कई तरह से कर सकती हैं हैंड सैनिटाइज़र का इस्तेमाल


घड़े में से पानी पीने के क्या है फायदे 

घड़े का पानी सेवन करें का अर्थ यह कि आप घर बैठे-बैठे कई बीमारियों को आसानी से दूर कर सकती हैं। इसके सेवन से तो सबसे पहले प्यास तो बुझती ही है, साथ में गला और पेट ख़राब नहीं होता है। घड़े के पानी से थकन को भी आसानी से दूर किया जा सकता है। इसके पानी से एसिडिटी पर अंकुश लगाने और पेट के दर्द आदि में भी राहत मदद मिलती हैं। एक तरह से प्लास्टिक के बोतल में पानी पीने या स्टोर करने से कई गुणा अधिक लाभ है मिट्टी के घड़े में पानी स्टोर करने या सेवन सेवन करने से है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@www.babycenter.in,www.rajras.in)