आज के समय में बड़े शहरों से लेकर गांव और देहातों में भी इन्वर्टर का इस्तेमाल आसानी से देखा जा सकता है। सर्दियों के दिनों में तो कम लेकिन, गर्मियों के दिनों में इसकी मांग सबसे अधिक होती है। एक तरह पूरे साल भी इसकी ज़रूरत पड़ती है। बिजली जाने के बाद घर में अंधेरा दूर करने से लेकर कई अन्य कामों के इस्तेमाल में इसका उपयोग काफी होता है। ऐसे में इसकी सही से देखभाल भी करना बहुत ज़रूरी है। कई लोगों को लगता है कि लाइट तो हमेशा रहती हैं, फिर इसकी देखभाल की क्या ज़रूरत?, और जब लाइट चली जाती हैं और ऊपर से इन्वर्टर भी ख़राब हो, तो फिर उस समय होने वाली परेशानी को शब्दों में उल्लेख नहीं किया जा सकता है। अगर आपके भी घर में इन्वर्टर है, तो इस लेख में हम आपको उसकी सही से देखभाल करने के बारे में कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं। इन टिप्स को अपनाकर इन्वर्टर की बैटरी को भी ख़राब होने से बचा सकती हैं। तो आइए जानते हैं।

अधिक लोड न दें      

how to maintain inverter inside

अगर किसी भी मौसम में इन्वर्टर को सही सलामत रखना है, तो सबसे पहले ये ज़रूरी है कि आप ओवर लोड पर ध्यान दें। खासकर गर्मियों के मौसम में लगभग सभी रूम्स में पंखे के साथ-साथ लाइट जलाने से इन्वर्टर पर अधिक लोड पड़ता है, जिसके कारण जल्दी ही ख़राब होने का चांस रहता है। इसके लिए जितना ज़रूरी है उस हिसाब से ही इन्वर्टर द्वारा लाइट्स जलाकर रखें। इससे बिजली की बचत भी होगी और इन्वर्टर जल्दी ख़राब भी नहीं होगी।

इसे भी पढ़ें: कोरोना काल में व्यक्ति ने अनोखे अंदाज में निकाला नारियल पानी, वायरल हुआ वीडियो

रखने की जगह पर ध्यान दें 

how to maintain inverter inside

किसी भी सामान को रखने के लिए एक सुनिश्चित जगह होती है। ऐसा नहीं की फ्रिज लिया और बाथरूम में रख लिया। जिस तरह से फ्रिज को रखने के लिए हवादार जगह का सही होती है, ठीक उसी तरह इन्वर्टर को रखने के लिए भी हवादार जगह का ही चुनाव करें। दीवार से चिपकाकर तो आप कतई न रखें। दीवार में सीलन होने की वजह से इन्वर्टर के साथ बैटरी भी जल्दी ख़राब हो सकती है। इन्वर्टर एक फैन युक्त मशीन है जिसके लिए हवादार जगह ही सही है। (गलतियां खराब कर सकती हैं आप का मोबाइल)

Recommended Video

ऐसे करें बैटरी की देखभाल  

how to maintain inverter inside

इन्वर्टर का अहम् हिस्सा है बैटरी। जिस तरह से इन्वर्टर का ध्यान रखने की ज़रूरत है ठीक वैसे ही बैटरी का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है। लगभग हर दो महीने में बैटरी का वाटर लेवल (एसिड) चेक करती रहें। वाटर लेवल कम होने की वजह में बैटरी बहुत जल्दी ही खराब हो जाती है। नियमित मसय पर बैटरी पर मौजूद धूल-मट्टी की भी सफाई करती रहे। ध्यान रहे वाटर लेवल चेक करते समय हाथों में ग्लव्स और चेहरे को अच्छे से ढ़ककर ही रखें। अगर बैटरी अधिक पुरानी हो गई तो आप उसे बदल भी सकती हैं, क्योंकि कभी-कभी पुरानी बैटरी अधिक लोड नहीं लेती है।

इसे भी पढ़ें: फ्रिज में रखी हुई कोल्ड ड्रिंक हल कर सकती है ये 10 घरेलू समस्याएं

इन बातों का भी रखें ध्यान 

how to maintain inverter inside

  • अगर आप बैटरी की सफाई को लेकर डरती है, तो फिर इन्वर्टर एक्सपर्ट को बुलाकर उसी से सफाई करवाएं।
  • चार्जिंग पॉइंट से लेकर सप्लाई पॉइंट तक को नियमित समय पर चेक करती रहे। (बिजली की बचत के लिए जानें ये 11 टिप्‍स)
  • सफाई करने से पहले इन्वर्टर को पूर्णरूप से बंद ज़रूर करें। इन्वर्टर और बैटरी की सफाई करने के लिए कभी भी पानी का इस्तेमाल न करें।   
  • नियमित समय पर बैटरी में मौजूद एसिड का स्तर चेक करती रहें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@imimg.com,.ytimg.com)