अक्सर हमने देखा है कि लोग अपने घरों में सब्जियां, फल, फूल और न जाने क्या-क्या उगा लेते हैं, लेकिन क्या कभी आपने ये सोचा है कि हम अपने फ्रिज में रखी सब्जियों से भी पौधों को उगा सकते हैं? अधिकतर लोगों को लगता है कि बागबानी करने के लिए उन्हें कुछ खास तरह के फर्टिलाइजर, खाद, मिट्टी, बीज आदि की जरूरत होगी और ये बहुत मुश्किल काम है, लेकिन ऐसा नहीं है। इसे करना आसान भी है और साथ ही साथ आप इसे करते हुए मज़ा भी ले सकते हैं। 

फ्रिज में रखी चीज़ों से पौधे उगाने की बात हो रही है तो क्यों न हम आज आपको ऐसी ही कुछ बातें बताते हैं जो फ्रिज में रखी हुई मिर्च से आपको मिर्च उगाने के काम आएगी। ये 5 स्टेप में किया जा सकता है। तो चलिए आपको बताते हैं कि ऐसा कैसे करना है। 

1. फ्रिज से निकालकर कैसे मिर्च के बीज तैयार करें?

फ्रिज में अगर आपने मिर्च रख दी है तो उसमें से कौन सी मिर्च आपको लेनी है उसका चुनाव आप ऐसे कर सकते हैं। 

chilli in fridge

  • थोड़ी लाल होती मिर्च को चुनें।
  • मिर्च को निकाल कर पहले 1 दिन के लिए फ्रिज से बाहर रख लें।
  • फिर इसे बीच में से सफाई से काटकर सारे बीज निकाल लें। 
  • इन बीजों को आप सीधे मिट्टी में डाल सकते हैं, लेकिन इससे सक्सेस रेट कम होता है। आप उसके पहले टिशू पेपर पर हल्का पानी स्प्रे करके इन बीजों को थोड़ी देर के लिए ऐसे ही कवर कर रख दें। 
  • उसके बाद इन्हें मिट्टी में डालें। 
chilli germination

आप नॉर्मल गार्डन सॉइल में इन्हें लगा सकते हैं, लेकिन ये बहुत गहरे न गाड़ें उससे सीड्स पनप नहीं पाएंगे। 1 इंच गहराई काफी होगी और मिट्टी मॉइस्ट रखें साथ ही उसे हवादार और 2-3 घंटे धूप वाली जगह पर रख दें।

इसे जरूर पढ़ें- न सूखेगी हरी मिर्च न होगी लाल, मिर्च को लंबे समय तक स्टोर करने के ट्रिक्स

2. बीज में से पौधे निकलने के बाद ऐसे रखें सीडलिंग का ख्याल-

1-2 हफ्ते में आपका बीज जर्मिनेट हो जाएगा। ये छोटा सा सीडलिंग ही आपके पौधे का बेस बनेगा इसलिए इसे आर्टिफीशियल लाइट में नहीं बल्कि खुली हवा में रखें। आर्टिफीशियल लाइट के कारण आपके पौधे थोड़े पतले हो सकते हैं। लेकिन बहुत ज्यादा धूप में इन्हें अभी भी नहीं रखना है वर्ना ये खराब होने लगेंगे। 

chilli seedlings

  • आपको अब इनमें दो दिन में एक बार धीमी धार से पानी डालना है।
  • चाहें तो पानी स्प्रे करें। बहुत ज्यादा पानी से पौधे खराब हो जाएंगे इसलिए अगर मिट्टी काफी गीली लग रही है तो 3-4 दिन के गैप के बाद भी पानी डाल सकते हैं। 

3. पौधे की रीपॉटिंग करने का समय और उसका ख्याल-

पौधे की रीपॉटिंग कम से कम 1 महीने बाद होगी हो सकता है आपका पौधा 1 महीने बाद भी छोटा ही दिखे इसलिए आप और समय भी ले सकते हैं, लेकिन 4-6 हफ्ते पौधे को रीपॉट करने का सही समय होता है। 

chilli sapling

  • पौधे को रीपॉट करते समय उसे ऊपर से खींचने की कोशिश न करें बल्कि उसके आस-पास की मिट्टी सहित उसे उठाएं।
  • पॉटिंग मिक्स में 50% गार्डन की मिट्टी, 30% कोकोपीट और 20% वर्मी कम्पोस्ट सबसे बेस्ट होगा। 
  • सही पॉटिंग मिक्स के कारण पौधे को बहुत अच्छे से पनपने का मौका मिलेगा।  

इसे जरूर पढ़ें- भारत में मिलने वाली 5 सबसे तीखी मिर्चों के बारे में जानिए 

4. पौधे को बढ़ने के लिए देखभाल की जरूरत- 

अब आप पौधे को लाइट और एयरी जगह पर रख सकते हैं। ध्यान बस एक ही बात का रखना है कि हर 15 दिनों में गमले के किनारे की मिट्टी को थोड़ा सा खोद दें ताकि जो भी खाद-पानी आप दें वो पूरी तरह से पौधे को पोषण दे सके। इसी के साथ, आप बनाना पील फर्टिलाइजर या फिर किचन कॉम्पोस्ट का प्रयोग कर सकते हैं ताकि आपके मिर्ची के पौधे में कोई केमिकल फर्टिलाइजर न जाए।  

chilli plants

5. फूलों की देखभाल और मिर्च की प्रूनिंग- 

जब पौधा 2 महीने का हो जाता है तो उसमें फूल भी आने लगते हैं और आपको उसकी प्रूनिंग भी करनी होगी। जब पौधा इतना बड़ा हो जाए कि उसमें 12-15 पत्तियां लगने लगें तो उसकी प्रूनिंग करनी होगी। इसके लिए आपको मेन स्टेम को ऊपर की तरफ से काटना होगा। यानि लगभग 4 सबसे ऊपर वाली पत्तियों से ठीक नीचे वाली जगह को काटना है।  

प्रूनिंग इसलिए जरूरी होती है ताकि पौधा लंबा होने पर नहीं बल्कि फूल और फल पैदा करने पर फोकस करे और साथ ही साथ घना भी रहे। ऐसा करना जरूरी है और आपको ये स्टेप अपने हर पौधे के साथ अपनानी चाहिए।  

करीब 3 महीने के अंदर आपके पौधे में फल और फूल दोनों आने लगेंगे। इसके बाद आपके पेड़ में मिर्च उगने लगेगी। इसे बहुत कड़ी धूप में मत रखें और मिट्टी को हमेशा गीला भी न करें। आपको ये ध्यान रखना है कि आपकी मिर्च के फूल न गिरें वर्ना फल नहीं आएंगे। आप बनाना पील फर्टिलाइजर 15 दिन में एक बार प्रयोग कर सकते हैं।  

ये सभी टिप्स आपको अच्छे पौधे के लिए मदद करेंगी। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हजिंदगी से।