• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

एक्सपर्ट टिप्स: अगर घर में होता है रामचरितमानस का पाठ तो ध्यान में रखें ये नियम

अगर आपके घर में रामचरितमानस का पाठ होता है तो आपको ज्योतिष के बताए कुछ नियमों का पालन करते हुए ही इसका पाठ करना चाहिए। 
author-profile
Next
Article
ram charit manas katha

रामचरितमानस एक ऐसा धार्मिक ग्रंथ है जिसका नियमित पाठ और इसकी सच्चे मन से की गई पूजा किसी भी व्यक्ति की सभी मनोकामनाओं की पूर्ति करती है। इसमें लिखे गए हर एक दोहे और चौपाई का अलग महत्व और मतलब है और ये जीवन के सत्य को परिलक्षित करती है। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में नियमित रूप से रामचरितमानस का पाठ होता है उस घर में कभी भी कोई परेशानी नहीं आ सकती है और उस घर के लोगों का मन भी साफ होता है।

इस पवित्र ग्रंथ का पाठ व्यक्ति के लिए मोक्ष के द्वार खोलने में मदद करता है। रामचरितमानस, भगवान राम और रावण के जीवन की कहानी कहता है और यह ग्रंथ निरंतर आगे बढ़ते हुए विजय प्राप्ति की प्रेरणा देता है। इस पवित्र ग्रंथ की सभी चौपाइयां मनुष्य को मुसीबतों से बाहर आने में मदद करती हैं। लेकिन इस ग्रंथ  के पाठ के लिए कुछ नियमों का पालन करना जरूरी है जिससे किसी भी तरह का नकारात्मक प्रभाव न पड़ सके। आइए Life Coach और Astrologer, Sheetal Shaparia जी से जानें कि अगर आप घर पर रामचरितमानस का पाठ करती हैं तो आपके लिए किन नियमों का पालन करना जरूरी है। 

नियमित रूप से रामचरितमानस का पाठ करने के नियम 

ram charit manas path rules

कई घरों में घर के बड़े बुजुर्ग नियमित रूप से रामचरितमानस का पाठ करते हैं। इस ग्रन्थ का नियमित पाठ करने वालों के लिए कुछ खास नियम बनाए गए हैं, जिसका असर आपके जीवन पर सीधे ही पड़ता है। कुछ लोग नियम से इसकी कुछ चौपाइयों या फिर इसके भीतर लिखे काण्डों का पाठ करते हैं। इसलिए उन्हें कुछ नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। 

  • रामचरित मानस का पाठ करने से पहले चौकी पर पर सुंदर वस्त्र बिछाकर भगवान राम की प्रतिमा स्थापित करें।
  • सर्वप्रथम हनुमान जी का आह्वाहन करें व उन्हें राम कथा में आमंत्रित करें। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम जी के पूजन से पूर्व हनुमान जी का आह्वाहन अनिवार्य होता है। जिससे पूजा का सही फल मिल सके। 
  • हनुमान जी का आह्वाहन करने के पश्चात श्री गणपति का आह्वाहन करते हुए रामचरितमानस का पाठ शुरू करें। 
  • नियमित रूप से आप जहां तक पाठ कर सकते हैं वहां तक रामचरित मानस का पाठ करें फिर विराम देते हुए रामायण जी की आरती करें।  
  • रोज पवित्र तन और मन से ही रामचरित मानस का पाठ करना चाहिए। ऐसा करने से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। 

संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ करने के नियम

24 घंटे लगातार करें रामचरित मानस का पाठ 

ramayan path rules

शीतल जी बताती हैं कि यदि आप संपूर्ण रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं तो इसे 24 घंटे तक लगातार पढ़ा जाता है। इस पाठ के दौरान किसी भी असुविधा से बचने के लिए सारी तैयारियां पहले से ही कर लेनी चाहिए और सभी सामग्रियों को उपलब्ध करके ही पाठ करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करने से होगी धन की वर्षा, जानें इसका महत्व

ऐसे करें देवताओं की स्थापना 

रामचरित मानस का पाठ शुरू करने से पूर्व सभी देवताओं की प्रतिमा पूर्व की ओर मुख करके एक मंच पर स्थापित करें। पूजा में तुलसी की पत्तियां अवश्य रखें। भगवान राम, देवी सीता, भगवान हनुमान, भगवान गणेश, भगवान शिव और देवी पार्वती की मूर्तियां स्थापित करें। भगवान राम की मूर्ति के सामने, चावल के ढेर पर पानी के साथ कलश रखें। 

कैसे करें कलश स्थापना 

kalash sthapna

जब आप अखंड रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं तो कलश के मुख में पांच आम या पान के पत्ते रखकर नारियल से ढक दें। नारियल और कलश दोनों को मौली के धागे से बांधें। कुमकुम से कलश पर स्‍वास्तिक (घर के मंदिर में इस तरह बनाएं स्‍वास्तिक) और पांच बिंदु बना लें। एक तरफ सुपारी, लौंग, इलायची, मिश्री और अन्य प्रसाद रखें। जबकि दूसरी तरफ फल, फूल और भोग रखें। 

Recommended Video

हवन है जरूरी 

रामचरित मानस के पाठ के समापन पर सभी भक्तजनों को श्रद्धापूर्वक मिलकर आरती करनी चाहिए और आरती के पश्चात हवन करें। पुजारी तब पूजा सामग्री, नवग्रह समिधा और अंत में पूर्णाहुति और आरती करके हवन करते हैं तब अखंड रामचरित मानस के पाठ को सफलतापूर्वक पूर्ण माना जाता है। पूजा पूरी होने के बाद, ब्राह्मणों को भोग अवश्य परोसें और प्रसाद बाकी भक्त मंडली को सौंप दें। ऐसा माना जाता है कि अखंड रामायण का भोग ग्रहण करना सौ जन्मों के पुण्य फलों के समान होता है। 

इसे भी पढ़ें:सिर्फ एक वजह से रामायण में सीता जी को देनी पड़ी थी अग्नि परीक्षा, जानें क्या

ramcharit manas path rules by sheetal shaparia

इन बातों का रखें विशेष ध्यान 

  • यदि आपके घर में रामचरित मानस का पाठ होता है तो आपको मांस मदिरा का सेवन भूलकर भी नहीं करना चाहिए। 
  • जिस घर में रामचरित मानस का पाठ होता है वहां लड़ाई झगड़े न करें। 
  • कभी भी अपवित्र तन और मन से पाठ न करें। 
  • रामचरित मानस का पाठ करने वाले घर में स्त्री का अपमान न करें। 

यहां बताए गए सभी नियमों का पालन करके ही घर में रामचरितमानस का पाठ करना चाहिए जिससे समस्त पापों से मुक्ति मिले और मनोकामनाओं की पूर्ति हो। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।