हिंदी साहित्‍य के महान रचनाकार तुलसीदास ने 16वीं शताब्‍दी में रामचरितमानस की रचना की थी। भगवान श्री राम पर आधारित ये ग्रंथ हिंदूओं के मध्‍य बहुत ही महत्‍व रखता है। इस ग्रंथ में 27 श्‍लोक, 1074 दोहे और 4608 चौपाइयां हैं। इन चौपाइयों का धार्मिक महत्‍व तो हैं साथ ही इनमें से कुछ चौपाइयां आपको आर्थिक लाभ पहुंचाने और आपकी मनोकामना पूरी करने का काम भी करती हैं। तो चलिए जानते हैं इन चौपाइयों के बारे में। 

इसे जरूर पढ़ें:   आज की सीता की कहानी जो समाज में चाहती है ये बदलाव

ramayan chaupai lyrics

जे सकाम नर सुनहिं जे गावहिं। 

सुख सम्‍पत्ति नानाविधि पावहिं 

इस चौपाई को पढ़ने से आपको अपारा सुख की प्राप्‍ती होगी और आपके घर में कभी आर्थिक संकट भी नहीं आएगा। इस चौपाई को आपको रोजाना दोहराना है। अगर आप इसे पूरी श्रद्धा के साथ दोहराएंगे तो आपको धन का लाभ मिलेगा साथ आपको जीवन के हर उस सुख की प्राप्‍ती होगी जिसकी आप कामना करते हैं। इस चौपाई का अर्थ भी यही है कि यदि मनोवांछित फल प्राप्‍त करना है तो यह केवल आपको री रघुनाथ जी यानी श्री राम के नाम जपने से ही प्राप्‍त होगा। 

इसे जरूर पढ़ें:  नवंबर में शुरू होगी श्री रामायण एक्सप्रेस, टूर प्लान करने से पहले जान लें ये बातें

गई बहारे गरीब नेवाजू। 

सरल सबल साहिब रघुराजू।। 

ऐसा कई बार होता है जब आपकी कोई बेहद प्रिय वस्‍तु आप से खो जाती है। इस वस्‍तु के खो जाने से आपको आपार दुख होता है और आप हमेशा उस वस्‍तु के वापिस मिल जाने की कामना भी करते हैं। मगर, ऐसा कम ही होता है कि खोई हुई वस्‍तु आपको वापिस मिल जाए। मगर, आप रामचरितमानस की इस चौपाई का रोजाना पूरे विश्‍वास के साथ पाठ करेंगी तो आपकी खोई हुई वस्‍तु आपको अवश्‍य ही मिल जाएगी। भारत में बलात्‍कार की पौराणिक कथाएं

ramcharitmanas chaupai for marriage

भव भेषज रघुनाथ जसु सुनहि जे नर अरू नारि। 

तिन्‍ह कर सकल मनोरथ सिद्ध करहि त्रिसरा‍री।। 

रामचरितमानस को तुलसी दास ने इस तरह लिखा है कि उसके पाठ से आप सारी मनोकामनाएं पूरी हा जाती हैं। मगर इस चौपाई में यह खासियत है कि अगर आप इसका रोज पाठ करेंगी तो आपकी कोई ऐसी मनोकामना पूरी होगी जिसके पूरे होने की कामना आप बहुत दिनों से कर रही हैं। इसलिए आपको अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए हमेशा इस चौपाई का पाठ करना चाहिए। भगवान कृष्‍णा से यदि आपको भी है प्रेम तो जवाब दें इन आसान से सवालों का

सकल विघ्‍न व्‍यापहि नहिं तेही। 

राम सुकृपा बिलोकहिं जेही।। 

मनुष्‍य को अपने जीवन में बहुत सारी समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कई लोगों को घबराहट होने लगती हैं। मगर, घबराने की जगह आपको रामचरितमानस की इस चौपाई का पाठ करना चाहिए। इससे आपको आर्थिक, सामाजिक और घरेलू हर तरह की परेशानियों से लड़ने का रास्‍ता मिलेगा और यह सारी पेरेशानियां आसानी से हल हो जाएंगी। साथ ही आपकी सफलता के मार्ग में आने वाली बाधाएं भी इस चौपाई को पढ़ने से दूर हो जाएंगी। ये 5 चीजें भगवान को करें अर्पित, जो पैंसों से नहीं खरीदी जा सकती

सुनहि विमुक्‍त बिरत अरू विबई। 

लहहि भगति गति संपत्ति नई।। 

रामचरितमानस की यह चौपई आपको बहुत सारे लाभ देगी। इससे आपको जीवन में मिलने वाले सारे सुख मिलेंगे। यदि आपको बहुत दिनों से कोई दुख सता रहा है तो आपको रोज ही इस चौपाई का पाठ करना चाहिए।