बजट 2021 आने वाला है और इस समय बजट को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इस बार का बजट इसलिए भी बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि कोरोना काल में सरकार की आमदनी काफी कम हुई है और आम जनता का नुकसान बहुत ज्यादा। पेंडेमिक अभी भी खत्म नहीं हुआ है और स्वास्थ्य सेवाओं से लेकर एजुकेशन तक हर सेक्टर में बहुत ही ज्यादा समस्या हुई है। मार्च 2020 से लेकर अभी तक लाखों लोगों की जॉब गई है और कोरोना के कारण कई बिजनेस डूब चुके हैं। 

1 फरवरी 2021 को यूनियन बजट आएगा और इस मौके पर देश की वित्त मंत्री निर्माल सीतारमण पर सबकी निगाहें होंगी। इस बार वित्त मंत्री के पिटारे से क्या निकलेगा ये तो वक्त ही बताएगा, लेकिन जहां तक मिडिल क्लास की उम्मीदों का सवाल है तो इस बजट से कुछ खास अपेक्षाएं रखी जा रही हैं। चलिए आज उन्हीं अपेक्षाओं की बात करते हैं।

1. कोरोना कवर-

सबसे बड़ी उम्मीद जो इस बार लगाई जा रही है वो ये है कि कोरोना पेंडेमिक में मिडिल क्लास को बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है और स्वास्थ्य के क्षेत्र में तो ये सबसे ज्यादा परेशानी भरा साल रहा है। यहां डॉक्टर्स ये सोच रहे हैं कि उन्हें उनकी मेहनत का फल मिलेगा और अस्पतालों में मरीज़ों की सेवा करने के लिए बेहतर सुविधाएं मिलेंगी और मरीज़ों के मुताबिक उन्हें कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए आर्थिक सुविधा दी जानी चाहिए। ऐसे में कोरोना कवर का मिलना बहुत ही आवश्यक हो सकता है। 

nirmala devi sitharaman

इनफॉर्मा मार्केट्स के मैनेजिंग डायरेक्टर योगेश मुद्रास का कहना है कि, 'मौजूदा समय में सरकार ने इस ओर इशारा किया है कि वो हेल्थकेयर डिलिवरी मॉडल को और बेहतर बनाएगी। इसके अलावा इंफ्रास्ट्रक्चर को भी अच्छा करेगी। इसके अलावा, सभी को स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए काम करेगी। पेंडेमिक से लड़ते हुए भी इस सेक्टर ने अच्छा काम किया और हम उम्मीद कर रहे हैं कि इस बार हेल्थकेयर पर फोकस करता हुआ बजट आएगा जो मौजूदा समय की जरूरत भी है। हम उम्मीद करते हैं कि सरकार खासतौर पर हेल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर पर काम करेगी और कम आय वाले लोगों के लिए हेल्थकेयर की सुविधाएं देगी।'

इसे जरूर पढ़ें- Expert Advice: गणेश-पार्वती की कहानी से समझें महिलाओं के लिए क्यों जरूरी है पैसों का मैनेजमेंट

2. टैक्स रिलीफ-

मिडिल क्लास को इस बार टैक्स रिलीफ भी चाहिए। पेंडेमिक का सबसे ज्यादा असर उन लोगों पर हुआ है तो 10 लाख से कम सालाना आय रखते हैं। ऐसे में टैक्स रिलीफ के बारे में सोचना सही है। इस बारे में इंस्टिट्यूशनल इक्विटीज के वाइस प्रेसिडेंट सेजराज बारिया का कहना है, 'सरकार की आय नहीं हुई है इसलिए कोई परमानेंट रिलीफ मिलना मुश्किल है, लेकिन ऐसा जरूर हो सकता है कि अस्थाई तौर पर सिर्फ 1 साल के लिए कुछ रिबेट दे दिया जाए।' सेजराज बारिया जी के पास फाइनेंस सेक्टर में 15 साल का एक्सपीरियंस है और ऐसा कहना गलत नहीं होगा कि उनकी टैक्स रिलीफ वाली बात कुछ हद तक सही हो सकती है।  

budget  expectations taxg

तो कुल मिलाकर ऐसा सोचना कि टैक्स रिलीफ मिलेगी ही मिलेगी वो तो गलत होगा, लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि अस्थाई तौर पर कुछ सुविधाएं मिल जाएं।

 3. रोज़गार -

इस बजट में सरकार से ये उम्मीद लगाई जा रही है कि इतने सारे लोगों की नौकरी और रोज़गार के जरिए खत्म होने के बाद सरकार कुछ ऐसी स्कीम लाएगी जिससे लोगों को राहत मिलेगी। पहले ही स्टेट्स अपने-अपने तरीके से बेरोजगार लोगों को कुछ राहत देने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसे में निर्मला सीतारमण से उम्मीद लगाई जा सकती है कि वो रोज़गार के लिए कुछ करेंगी। पोस्ट पेंडेमिक जॉब्स पर मिडिल क्लास की निगाहें सबसे ज्यादा हैं। उम्मीद ये भी की जा सकती है कि वर्क फ्रॉम होम के लिए सरकार की तरफ से खास स्कीम लाई जाएगी।  

4. घर- 

रियल एस्टेट की बात करें तो पिछले कुछ दिनों में इस सेक्टर में बहुत से उतार-चढ़ाव देखे गए हैं। लोगों का मानना है कि रियल एस्टेट सेक्टर को बूस्ट करने के लिए सस्ते घर या होम फर्निशिंग्स आदि की जरूरत होगी। सेजराज बारिया के मुताबिक, 'ऐसी कोई स्कीम इस बजट में देखी जा सकती है जिसमें रियल एस्टेट सेक्टर को राहत मिले। घर या फिर घर का सामान कुछ भी सस्ता हो सकता है जिससे मिडिल क्लास को राहत मिलेगी। अब देखना ये है कि मिडिल क्लास हाउसहोल्ड के लिए बजट में किस तरह से राशि निर्धारित की जाती है।' 

budget expectations home

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: इस दिवाली बन जाइए अपने घर की लक्ष्मी, अपनाएं पैसों के मैनेजमेंट के ये तरीके 

Recommended Video

5. एजुकेशन- 

मिडिल क्लास की एक बड़ी समस्या बच्चों की पढ़ाई होती है और 2020 में बच्चों की पढ़ाई आदि में बहुत ज्यादा समस्या हुई है। बच्चों की पढ़ाई की बात करें तो हमेशा की तरह न तो स्कूल न ही कॉलेज खुले हुए हैं और एग्जाम्स आदि के लिए भी बहुत समस्याएं हो रही हैं। ऐसे में ये कहना कि एजुकेशन के क्षेत्र में बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर, स्कूल्स में बेहतर ऑनलाइन क्लासेज की सुविधाएं आदि के लिए कुछ स्कीम रखी जाएं। 

 

तो कुल मिलाकर बजट 2021 में मिडिल क्लास के लिए बहुत कुछ हो सकता है जिसके लिए हम बजट का इंतज़ार कर रहे हैं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।