गर्मियों का मौसम नजदीक आते ही धूप में तेजी आ जाती है। यह मौसम पापड़-चिप्‍स बनाने के लिए बेस्‍ट होता है। खासतौर पर आलू के पापड़, साबूदाने के पापड़ और चावल के पापड़ बनने के लिए यह समय बहुत ही अच्‍छा होता है। बाजार में भी आपको रेडीमेड पापड़-चिप्‍स इस वक्‍त खूब मिल जाएंगे। दरअसल, होली का त्‍यौहार आने से पहले लोग इन स्‍नैक आइटम्‍स को खूब खरीदते हैं और होली पार्टी में इन्‍हें तल कर मेहमानों को सर्व भी किया जाता है। मगर आप घर पर ही आलू के पापड़, साबूदाने के पापड़ और चावल के पापड़ बना सकती हैं।

इन्‍हें बनाना कठिन भी नहीं है। बस कुछ बातों का ध्‍यान रखा जाए तो आप घर पर ही बाजार से भी अच्‍छे आलू के पापड़, साबूदाने के पापड़ और चावल के पापड़ बना सकती हैं। 

हमने अपने पिछले आर्टिकल में आपको आलू के पापड़ बनाते वक्‍त ध्‍यान रखने वाली बातें बताई थीं। इस बार हम आपको घर पर साबूदाने का पापड़ बनाते वक्‍त ध्‍यान रखने वाली महत्‍वपूर्ण बातें बताएंगे, जिन्‍हें फॉलो करके आप सुंदर और स्‍वादिष्‍ट साबूदाने के पापड़ बना सकती हैं- 

tips  for  sabudana  papad

साबूदाने का चुनाव 

बाजार में कई तरह के साबूदाने की वैरायटी उपलब्‍ध होती हैं। आप छोटे या बड़े किस भी आकार के साबूदाने से पापड़ बना सकती हैं। मगर इस बात का ध्‍यान रखें कि साबूदाना जितना ट्रांसपेरेंट होगा, पापड़ उतने ही अच्‍छे बनेंगे। 

साबूदाने को कैसे साफ करें 

बहुत से लोग साबूदाने को पकाने से पहले उसे पानी से साफ करते हैं। मगर ऐसा तब करें जब आप साबूदाने की खिचड़ी बना रही हों। साबूदाने के पापड़ बनाते वक्‍त ऐसा न करें क्‍योंकि इससे साबूदाने का पाउडर भी पानी के साथ निकल जाता है और फिर पापड़ अच्‍छे नहीं बनते हैं। हां आप ऐसा जरूर कर सकती हैं कि साबूदाने को भिगोने से पहले उसे चावल की तरह साफ कर लें। अगर कोई कूड़ा या कंकड़ आपको नजर आए तो उसे निकल दें। इसके बाद आप साबूदाने को पानी में भिगो कर रात भर के लिए छोड़ दें। अगर आपने आधा किलो साबूदाना लिया है तो आपको उसमें 1 लीटर पानी डालना चाहिए, ज्‍यादा पानी में साबूदाने को न भिगोएं। 

इसे जरूर पढ़ें: आलू का पापड़ बनाते वक्‍त ध्‍यान रखें ये 5 बातें

sabudana  papad  at  home

साबूदने को कैसे पकाएं 

रात भर साबूदाने को पानी में भीगा रहने दें और फिर सुबह उसी पानी सहित साबूदाने को गैस पर पकाएं। गैस की आंच धीमी रखें और साबूदाने को लगातार करछी से चलाती रहें। ऐसा करने से साबूदाने में गांठ नहीं पड़ती है और साबूदाना न जलता है न बर्तन में चिपकता है। (साबूदाने के पापड़ रेसिपी)

कैसा घोल तैयार करें 

साबूदाने का घोल न तो ज्‍यादा पतला होना चाहिए और न ही ज्‍यादा गाढ़ा। यह घोल इतना गाढ़ा होना चाहिए कि पॉलीथीन में इसे जब सुखाने के लिए डाला जाए तो यह फैले नहीं। फिर भी अगर आपका घोल ज्‍यादा गाढ़ा हो गया है तो आप उसमें गरम पानी डाल कर मथानी से मथ सकती हैं। वहीं अगर घोल पतला हो गया है तो आपको इसे दोबारा गैस पर पकाना होगा। साबूदने में नमक भी कम ही डालें। वहीं अगर आप जीरा डालना चाहें तो डाल सकती हैं। आपको बता दें कि जीरे का रंग पापड़ पर आ जाता है तो वह हल्‍का भूरा हो जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें: घी निकालने के बाद मलाई की खुरचन को इस तरह करें इस्‍तेमाल

 

कैसे सूखाएं 

साबूदाने का घोल तैयार हो जाने के बाद उसे एक पॉलीथिन में गोल-गोल फैलाएं। पॉलीथीन में पहले ही थोड़ा सा तेल लगा लें, जिससे सूखने के बाद पापड़ आसानी से निकल सकें। इस बात का ध्‍यान रखें कि जब तक पापड़ अपने आप पॉलिथिन से न उखड़े तब तक उसे जबरदस्‍ती न निकालें। 3 दिन तक साबूदाने के पापड़ को धूप दिखाएं और फिर उसे एयर टाइट डिब्‍बे में पैक कर दें। 

अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें। साथ ही इसी तरह के और भी किचन हैक्‍स और कुकिंग टिप्‍स जानने के लिए पढ़ती रहें हरजिंदगी। 

Image Credit: Freepik,Maayeka