नवरात्र के व्रत रखने के दौरान कई महिलाएं रात को घर जाकर आलू उबालकर खाती हैं। उबले आलू खाने से की लोगों को कब्ज की समस्या हो जाती है। दरअसल नवरात्र में पानी का इनटेक कम हो जाता है। ऐसे में जब आप कोई सूखी सब्जी खाती हैं तो वह आंतों से जाकर चिपक जाती है जिसके कारण कब्ज की समस्या होती है।

इस कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए उबले आलू या आलू की सब्जी खाने की जगह आलू की कढ़ी खाइए। आसान है इसकी रेसिपी... 

ऑब्जेक्टिव्स

  • रेसिपी क्विज़ीन : इंडियन
  • कितने लोगों के लिए : 2 - 4
  • समय : 15 से 30 मिनट
  • मील टाइप : वेज 

आलू की कढ़ी बनाने के लिए जरूरी चीजें

navratri kadhi inside

  • आधे किलो उबले आलू 
  • 1 छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर
  • 1 छोटी कटोरी सिंघाड़े का आटा
  • 1/2 कप दही
  • 4-5 करी पत्ता  
  • 1/2 छोटा चम्मच जीरा 
  • 1 साबुत लाल मिर्च 
  • 1 छोटा टुकड़ा अदरक (बारीक कटा हुआ) 
  • 1/2 छोटा चम्मच धनिया पाउडर
  • पानी जरूरत के अनुसार 
  • स्वादानुसार सेंधा नमक
  • तेल तलने के लिए
  • सजावट के लिए धनियापत्ती 

आलू की कढ़ी बनाने की विधि

navratri kadhi inside

  • सबसे पहले एक बाउल में उबले आलू को अच्छी तरह से मैश कर लें। (Read More: नवरात्र थाली में आपको कौन से पकवान परोसे जाते हैं?)
  • फिर इसमें सेंधा नमक, लाल मिर्च पाउडर और सिंघाड़े का आटा डालकर अच्छी तरह से मिक्स करें। अगर आप घर बैठे ऑनलाइन चिली पाउडर मंगवाना चाहती हैं तो 500 ग्राम चिली पाउडर का मार्किट प्राइस 199 रुपये है, लेकिन इसे आप यहां से 99 रुपये में खरीद सकती हैं
  • अब मिश्रण को दो भागों में बांटे। आधे मिश्रण से पकौड़े बनाएं और आधे को अलग रख दें। 
  • अब एक कड़ाही में तेल गरम करने के लिए रखें। अगर आप घर बैठे ऑनलाइन तेल मंगवाना चाहती हैं। 1 लिटर रिफाइंड ऑयल मार्किट प्राइस 175 रुपये है, लेकिन इसे आप यहां से 115 रुपये में खरीद सकती हैं
  • जब तेल गरम हो जाए तो उसमें पकौड़े तल लें।
  • अब बचे हुए मिश्रण में दही और पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं।
  • फिर से तेल वाली कड़ाही को गरम करें। अब उसमें जीरा, करी पत्ता, साबुत लाल मिर्च आदि डालकर भूनें।
  • जीरे के चटकते ही अदरक डालें। 
  • अदरक के हल्का भुनते ही दही का मिश्रण, सेंधा नमक और धनिया पाउडर डालकर आंच धीमी कर इसे उबालें।
  • मिश्रण के थोड़ा गाढ़ा होते ही इसमें पकौड़े डालकर एक दो मिनट तक उबालें और आंच बंद कर दें।

आलू की कढ़ी तैयार है। इसमें हरा धनिया गार्निश कर सर्व करें और माता को भोग लगाकर खुद भी खाएं।