• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

World Brain Tumor Day 2022: ब्रेन ट्यूमर होने पर शरीर में दिखने लगते हैं ये लक्षण

ब्रेन ट्यूमर डे के मौके पर हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बता रहे हैं जो आपके बीमारी के होने पर शरीर में दिखाई देने लगते हैं।  
author-profile
Published -08 Jun 2022, 12:50 ISTUpdated -08 Jun 2022, 13:11 IST
Next
Article
brain tumor sign

हमारे शरीर के शारीरिक कामकाज और हमारी मानसिक स्थिति को निर्धारित करने के लिए हमारा ब्रेन हमारे अस्तित्व का केंद्र है। ब्रेन में ट्यूमर की उपस्थिति विभिन्न प्रकार की कमजोरी या सुन्नता, चलने में कठिनाई और निपुणता के साथ कठिनाई पैदा करके शरीर को सीधे प्रभावित करके हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। यह प्राथमिक मानसिक बदलाव - विस्मृति, भाषण दोष, डिप्रेशन और ब्‍लैडर और बाउल कंट्रोल को नुकसान पहुंचाकर, हमारे जीवन की गुणवत्ता को भी प्रभावित कर सकता है।

जी हां, हर साल 8 जून को लोगों को ब्रेन ट्यूमर के प्रति जागरूक करने के लिए ब्रेन ट्यूमर डे मनाया जाता है ताकि लोग समय पर इस ओर ध्‍यान दे सकें।  वर्ल्‍ड ब्रेन ट्यूमर डे के मौके पर इसके लक्षणों और संकेतों के बारे में हमें आनंदपुर, कोलकाता के फोर्टिस अस्पताल के न्यूरोसर्जन, डॉक्‍टर जीआर विजय कुमार जी बता रहे हैं। 

ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों और संकेतों की पहचान कैसे करें?

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण ट्यूमर और उसके स्थान पर निर्भर करते हैं। ब्रेन के विभिन्न क्षेत्र अलग-अलग कार्य करते हैं और ट्यूमर का स्थान लक्षणों को निर्धारित करता है।

ब्रेन में ट्यूमर अक्सर प्रारंभिक अवस्था में कोई लक्षण नहीं पैदा करते हैं। जैसे-जैसे वे बड़े होते हैं, वे अपने भौतिक द्रव्यमान के कारण लक्षणों के साथ पेश कर सकते हैं जिसके परिणामस्वरूप स्‍कैल्‍प के अंदर दबाव बढ़ जाता है। सबसे आम लक्षण सिरदर्द है जो एनाल्जेसिक का जवाब नहीं देता है और शाम या सुबह स्थिति ज्‍यादा खराब हो सकती है। उल्टी, दृष्टि संबंधी समस्याएं, चेतना के स्तर में बदलाव और यहां तक कि कोमा भी ब्रेन के भीतर बढ़ते दबाव के अन्य लक्षण हैं।

ब्रेन के "वाक्पटु" (eloquent) क्षेत्रों से उत्पन्न होने वाले ट्यूमर में अधिक नाटकीय लक्षण हो सकते हैं जैसे भाषण / भाषा के कार्यों की हानि, शरीर के एक तरफ की कमजोरी, चाल और संतुलन की गड़बड़ी, दृष्टि की हानि, व्यवहार और व्यक्तित्व में परिवर्तन, विभिन्न प्रकार के मिर्गी के दौरे, ब्रेस्‍ट से दूध निकलना, आवाज में बदलाव, निगलने में कठिनाई, बहरापन आदि।

brain tumor day

जल्दी पता लगाने का क्या महत्व है?

ब्रेन ट्यूमर जैसे-जैसे बढ़ता है, यह ब्रेन के उस हिस्से के सामान्य कामकाज को प्रभावित करता है। ब्रेन ट्यूमर का जल्दी पता लगाना और उसका शुरुआती उपचार आसपास के सामान्य ब्रेन की रक्षा कर सकता है। यह उपचार के विकल्पों को भी बढ़ा सकता है। उदाहरण के लिए कुछ ट्यूमर का इलाज रेडियोसर्जरी द्वारा किया जा सकता है। जैसे-जैसे ट्यूमर बढ़ता है, वे ब्रेन और स्‍कैल्‍प के कुछ हिस्सों पर आक्रमण कर सकते हैं जो उपचारात्मक उपचार को मुश्किल बना सकते हैं। बड़े ट्यूमर में अक्सर सर्जरी का खतरा अधिक होता है।

इसे जरूर पढ़े:तेजी से फैल रही इस बीमारी की जानकारी है बेहद जरूरी

आपको डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको लगातार या बार-बार सिरदर्द, उल्टी, मिर्गी की नई शुरुआत, शरीर के किसी भी हिस्से की कमजोरी या सुन्नता, याददाश्त या एकाग्रता में कठिनाई, व्यक्तित्व में बदलाव, चलने में कठिनाई, यूरिन या मल को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।

Recommended Video

घातक ट्यूमर की उपस्थिति की जानकारी के लिए एडवांस इमेजिंग

ब्रेन ट्यूमर के लिए इमेजिंग आमतौर पर सीटी स्कैन से शुरू होती है। वे ब्रेन ट्यूमर के बहुमत को प्रदर्शित करने के लिए काफी अच्छे हैं, खासकर कंट्रास्ट इंजेक्शन के साथ। ट्यूमर के प्रकार के बारे में अधिक जानकारी एमआरआई स्कैन करके प्राप्त की जा सकती है। आधुनिक एमआर इमेजिंग में कई अलग-अलग अनुक्रमों में डेटा प्राप्त करना शामिल है। घातक ट्यूमर के लिए, विशेष रूप से महत्वपूर्ण पोस्ट-कंट्रास्ट इमेजस, डिफ्यूजन-वेटेड इमेजिंग (डीडब्ल्यूआई) और परफ्यूजन इमेजिंग हैं।

एमआर स्पेक्ट्रोस्कोपी एक और टेस्‍ट है जो घातक ट्यूमर की पहचान करने में मदद कर सकता है। कार्यात्मक एमआरआई और एमआर ट्रैक्टोग्राफी अन्य टेस्‍ट हैं जो ट्यूमर के आसपास ब्रेन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान करने में मदद कर सकते हैं, जिससे ट्रीटमेंट में मदद मिल सकती है।

SPECT CT और PET स्कैन नए इमेजिंग तौर-तरीके हैं जो घातक ट्यूमर की पहचान करने में भी मदद कर सकते हैं। पीईटी स्कैन (एमईटी और एफईटी ट्रेसर) ने ट्यूमर में घातकता की पहचान करने का वादा करता है।

world brain tumor day

ब्रेन ट्यूमर से संबंधित उपचार जटिलताएं

ब्रेन ट्यूमर से संबंधित उपचार की जटिलताओं और उन्हें समय पर और एडवांस इमेजिंग टेक्नीक्‍स से कैसे निपटा जा सकता है? इसके लिए जानकारी होना भी बेहद जरूरी हैं। 

एडवांस टेक्नोलॉजी और एडवांस इमेजिंग दोनों ने ब्रेन ट्यूमर के लिए सर्जरी की सुरक्षा बढ़ाने में योगदान दिया है। एडवांस इमेजिंग जैसे सीटी, एमआरआई, एंजियोग्राफी, आदि के डेटा को कंप्यूटर-निर्देशित नेविगेशन सिस्टम में एकत्र किया जा सकता है, जो न्यूनतम इनवेसिव और सुरक्षित तकनीकों में महत्वपूर्ण सर्जरी करने में मदद कर सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: स्ट्रोक में ’Golden Hour’को समझना हैं बेहद जरूरी

कीहोल सर्जरी के जरिए ब्रेन ट्यूमर की बायोप्सी करने के लिए नेविगेशन सिस्टम का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। कार्यात्मक एमआरआई और एमआर ट्रैक्टोग्राफी का उपयोग ट्यूमर से सटे ब्रेन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान करने के लिए किया जा सकता है और इस प्रकार, सर्जरी के दौरान संरक्षित किया जा सकता है। यह सर्जरी के बाद पैरालिसिस या तंत्रिका संबंधी समस्‍याओं को कम किया जा सकता है। महत्वपूर्ण क्षेत्रों के निकट स्थित ट्यूमर को आजकल अवेक ब्रेन सर्जरी के माध्यम से हटाया जा सकता है, जहां रोगी ब्रेन के महत्वपूर्ण क्षेत्रों में चोट से बचने के लिए सर्जरी के दौरान जागता और निगरानी रखता है।

मुझे उम्‍मीद है आपको यह जानकारी अच्‍छी लगी होगी। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।