World Stroke Day हर साल 29 अक्‍टूबर को मनाया जाता है। स्‍ट्रोक दुनिया में मौतों और विकलांगता के प्रमुख कारणों में से एक है। World Stroke Organization के अनुसार हर साल स्ट्रोक के चलते 65 लाख मौतें होती हैं। 6 में से 1 व्यक्ति के स्ट्रोक का सामना करने की आशंका है। प्रत्येक 4 मिनट में एक व्यक्ति को स्ट्रोक होता है, फिलहाल एक अनुमान के मुताबिक 2.6 करोड़ लोग स्ट्रोक से पीडि़त हैं।

आंकड़े बताते हैं कि दुनिया भर में हर साल हर तीन में से एक महिला की मौत हृदय रोग और आघात के चलते होती है, यानि हर 80 सेकेंड में लगभग एक महिला की जान चली जाती है। इसके अतिरिक्त, लगभग 90 फीसदी महिलाओं में हृदय रोग या स्ट्रोक के लिए एक या इससे अधिक रिस्क फैक्टर यानि जोखिम वाले कारक हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है। पुरुषों में हर छह में से एक पुरुष को स्ट्रोक होता है, जबकि महिलाओं में पांच में से एक को स्ट्रोक का खतरा रहता है। यानि 60 प्रतिशत महिलाओं को स्ट्रोक का खतरा रहता है। महिलाओं के साथ प्रेगनेंसी की वजह से भी खतरा रहता है। इसके अलावा महिलाएं स्‍मोकिंग और अल्‍कोहल ज्‍यादा लेने लगी हैं। लाइफस्‍टाइल भी बदल गई है जिसमें एक्सरसाइज की कोई जगह नहीं है।

Fortis Memorial Research Institute, डायरेक्टर एवं एचओडी, न्‍यूरोलॉजी, Dr Praveen Gupta ने हमें स्ट्रोक, उसके लक्षणों और जोखिमों के कारकों को समझने के लिए कुछ ऐसी जानकारियां शेयर की है, आइए जानें क्‍या है वह जानकारी?

क्या होता है स्ट्रोक?

स्ट्रोक तब होता है जब ब्रेन के किसी हिस्से में ब्‍लड की सप्‍लाई बंद हो जाती है। ब्‍लड के बिना ब्रेन सेल्‍स damaged और die हो जाते हैं। स्ट्रोक की गंभीरता इस बात पर निर्भर करती है कि ब्रेन का कौन सा हिस्सा प्रभावित है और ग्रस्‍त व्‍यक्ति को कितनी जल्दी उपचार मिलता है। स्ट्रोक किसी की भी चलने-फिरने, बोलने, सोचने और महसूस करने और analyse करने की शक्ति को प्रभावित कर सकता है।

स्ट्रोक के लक्षण

  • अचानक संदेह होना
  • बोलने में परेशानी होना या समझने में दिक्कत होना
  • शरीर के एक हिस्से में कमजोरी
  • एक या दोनों आंखों से देखने में परेशानी
  • सुस्‍ती, balance और coordination की कमी
  • चक्कर आना या बेहोश हो जाना
  • शरीर के एक हिस्से में sensation में बदलाव

Read more: महिलाओं का जीना मुश्किल ना कर दें ये ट्रॉमा

 

brain stroke inside

Image Courtesy: Shutterstock.com

स्ट्रोक जोखिम कारक

  • High Blood Pressure या हाइपरटेंशन के कारण स्ट्रोक का जोखिम दोगुना बढ़ जाता है, क्योंकि यह ब्‍लड वेसल्‍स को संकरा कर देता है जिसकी वजह से इसमें टूट या लीकेज होती है। इसके परिणामस्वरूप ब्‍लड जम सकता है और स्ट्रोक का जोखिम और भी बढ़ जाता है।
  • स्‍मोकिंग को स्ट्रोक के एक कारण के तौर पर जाना जाता है क्योंकि इसके चलते ब्‍लड प्रेशर बढ़ जाता है जिसके कारण ब्‍लड क्‍लॉट जम जाता है और ब्रेन तक ब्‍लड पहुंचाने वाली आर्टरी में फैट के रूप में इकट्ठी हो जाती है।
  • डायबिटीज से स्ट्रोक होने का जोखिम दोगुना बढ़ जाता है और स्ट्रोक के 20 फीसदी मामलों में प्रमुख कारण होता है क्योंकि ब्‍लड में शुगर की अधिक मात्रा ब्‍लड वेसल्‍स को नुकसान पहुंचा सकती है और उन्हें टाइट, पतला और ब्लॉक कर सकती हैं। अगर ऐसा ब्रेन तक जाने वाली ब्‍लड वेसल्‍स में होता है जिसकी वजह से स्ट्रोक होता है।
  • Low-density लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल यानि एलडीएल में ब्‍लड के जरिये कोलेस्ट्रॉल का सर्कुलेशन होता है जिसकी वजह से ब्लॉकेज होता है। आर्टरियों में प्लाक बनने से  के लिए ब्रेन तक ऑक्सीजन पहुंचाना मुश्किल हो जाता है।
  • मोटापा और अधिक वजन वाली महिलाओं के लिए जोखिम बहुत ज्‍यादा होता हैं क्योंकि ज्‍यादा फैट से भरपूर सेल्‍स के कारण होने वाली जलन से स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। कमर की चौड़ाई और इससे संबंधित अनुपात बॉडी मास इंडेक्स के मुकाबले स्ट्रोक के खतरे को बेहतर तरीके से बता सकता हैं।
  • ब्‍लड प्रेशर बढ़ाने वाला एक प्रमुख कारण स्‍ट्रेस है। इसकी वजह से ब्‍लड वेसल्‍स संकरी हो जाती हैं और ब्‍लड क्‍लॉट जमने की आशंका बढ़ जाती है जिसके कारण हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम भी बढ़ जाता है।

स्ट्रोक में “Golden Hour” को समझना है बेहद जरूरी

स्ट्रोक मरीज को ’’गोल्डन पीरियड’’ यानि पहले तीन से साढ़े चार घंटों में हॉस्पिटल तक पहुंचाना जरूरी है और यह जितना जल्दी हो उतना ही अच्छा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि क्‍लॉट को खत्म करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं बेहतर ढंग से पहले तीन घंटों में काम करती हैं और पहले साढ़े चार घंटों के बाद उसे ठीक करना मुश्किल होता जाता है। ब्‍लड सर्कुलेशन को बहाल न कर पाने के साथ बीतते हर मिनट के साथ करीब 2 करोड़ अतिरिक्त नर्वस सेल्‍स मरते जाते हैं। इसलिए यह बहुत जरूरी है कि मरीज को जितनी जल्दी संभव हो एक अच्‍छे स्ट्रोक सेंटर तक पहुंचाया जाएं।

स्ट्रोक से ग्रस्‍त की देखभाल कैसे करें?

फिजियोथेरेपी: अगर स्ट्रोक से ब्रेन के उस हिस्से को नुकसान पहुंचता है जो व्यक्ति के चलने-फिरने की शक्ति को कंट्रोल करता है तो उसे कमजोरी या शरीर के एक हिस्से में लकवा, चलने-फिरने में समस्या और रोजाना के कामकाज करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। फिजियोथेरेपी सुधार की प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। फिजियोथेरेपी का पूरा ध्यान हाथों और पैरों को फिर चलाने और जितना संभव हो सके उनको मजबूत करने पर होता है।
Behavioural ट्रीटमेंट: स्ट्रोक के मरीज को स्‍ट्रेस जैसी व्यवहारात्मक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यह सुनिश्चित करना बेहद जरूरी है कि वे उत्साहित और समर्थन महसूस करें। उन्हें एक सपोर्ट ग्रुप का हिस्सा बनाना उनकी भावनाओं को कंट्रोल करने का अच्‍छा तरीका है। एक जैसी समस्‍या का सामना कर रहे लोगों से बातचीत करना बहुत जरूरी और प्रभावी है।
मेडिकल हेल्‍प: यह ध्‍यान देना बेहद जरूरी हैं कि मरीज की चिकित्सकीय देखभाल प्रभावी ढंग से की जा रही है या नहीं। दवाओं, स्ट्रोक के अन्य प्रभावों और व्यवहारात्मक बदलावों पर नजर रखना बेहद जरूरी है।
अगर स्ट्रोक पर गौर नहीं किया गया तो यह भारत में एक महामारी की शुरूआत हो सकती है। खराब जीवनशैली का चयन और जागरूकता की कमी बढ़ती संख्या में योगदान देने वाले प्रमुख कारक हैं।

Read more: सिर्फ ये 5 तरह के बीज खाएंगी तो जिंदगी भर रहेंगी हेल्दी