• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

क्या होता है विलंबित यौवन? लड़कियों में देर से प्यूबर्टी आने की क्या हो सकती है वजह

कुछ टीनएजर्स में प्यूबर्टी देरी से आती है। जिस कारण उनका शारीरिक बदलाव अन्य लोगों की अपेक्षा देरी से होता है। 
author-profile
Published -20 Jun 2022, 18:56 ISTUpdated -20 Jun 2022, 19:33 IST
Next
Article
delayed puberty

यौवनावस्था की उम्र 8 से 14 साल के बीच होती है। जहां महिलाओं में 8 से 13 साल के बीच प्यूबर्टी के लक्षण दिखने लगते हैं, वहीं लड़कों में 11 से 14 साल की उम्र तक यौवनावस्था आ जाती है। हालांकि हर लड़की के लिए ये उम्र अलग-अलग होती है। इस दौरान किसी भी लड़की के शरीर में तरह-तरह के बदलाव आते हैं, जिसमें ब्रेस्ट बढ़ना या पीरियड्स आने जैसे लक्षण शामिल होते हैं।

हालांकि कई बार कुछ लड़कियों में प्यूबर्टी के लक्षण समय के अनुसार देरी से आते हैं। जिसके पीछे कई कारण माने जाते हैं। यह जानने के लिए हमने हमारी आज की एक्सपर्ट डॉक्टर शिखा अग्रवाल से बात की और उनसे डिले प्यूबर्टी से जुड़े कई सवाल किए। उन्होंने हमें डिले प्यूबर्टी के पीछे की वजह के कारणों के विषय में बताया। 

क्या है डिले प्यूबर्टी?

why girls are hitting delayed puberty

कई बार लड़कियों को देरी से पीरियड्स आते हैं, जिसे हम विलंबित यौवन यानी डिले प्यूबर्टी के नाम से जानते हैं। ऐसा तब होता है, जब लड़कियों में यौवनावस्था के लक्षण निर्धारित समय के अनुसार देरी से आते हैं।  इसके पीछे कई कारण छिपे होते हैं, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें- टीनेज में कौन-कौन से बदलावों का होता है अनुभव, जानें

डिले प्यूबर्टी के लक्षण- 

  • डॉक्टर शिखा अग्रवाल ने हमें बताया कि डिले प्यूबर्टी के कई लक्षण होते हैं। 
  • इसमें लड़कियों को 14 साल के बाद भी ब्रेस्ट में विकास देखने को नहीं मिलता है। 
  • इसके अलावा प्राइवेट एरिया पर बाल भी नहीं आते हैं। 
  • गर्भाशय का विकास पूरी तरह से नहीं हो पाता है, साथ ही मासिक धर्म आने में भी देरी होती है। 

देरी से प्यूबर्टी आने के कारण- 

delayed puberty symptoms

देर से प्यूबर्टी आने के पीछे कुपोषण, हार्मोन के लिए शरीर की प्रतिक्रिया की कमी और बिडल बार्डेड सिंड्रोम जैसे कारण हो सकते हैं। इसके अलावा कई बार टर्नर सिंड्रोम, एडिसन रोग, कीमोथेरेपी और हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। कई बार कम फैट होने के कारण भी प्यूबर्टी देरी से शुरू होती है। इसके अलावा जो लड़कियां तैराकी, खेल-कूद, एथलेटिक्स, डांसिंग जैसी चीजों में शामिल होती हैं, उनमें प्यूबर्टी देरी से आती है। हालांकि कि हर बार यह बीमारी नहीं होती है, कई बार यह साधारण सी समस्या होती है।

तो ये थी डिले प्यूबर्टी से जुड़ी अहम जानकारियां, जिनके विषय में आपकी बेटियों को जरूर पता होना चाहिए। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ। 

Image Credit- freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।