• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

फेमस एक्‍ट्रेस ऐश्वर्या सखूजा का आधा चेहरा इस बीमारी के कारण हो गया था पैरालाइज

टीवी की फेमस एक्ट्रेस ऐश्वर्या सखूजा को रामसे हंट सिंड्रोम हुआ। इस बीमारी के बारे में एक्‍सपर्ट से विस्‍तार में जानें।  
author-profile
Published -23 Jun 2022, 14:53 ISTUpdated -23 Jun 2022, 16:03 IST
Next
Article
actress aishwarya sakhuja

कुछ दिनों पहले इंटरनेशनल पॉप सिंगर जस्टिन बीबर ने अपने फैन्‍स को इस बारे में बताया था कि वह रामसे हंट सिंड्रोम बीमारी के शिकार हो गए थे। अब टीवी सीरियल 'सास बिना ससुराल' की एक्ट्रेस ऐश्वर्या सखूजा ने खुलासा किया कि उन्‍हें 2014 में रामसे हंट सिंड्रोम नामक बीमारी हुई थी। 

उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि इस बीमारी के चलते उनका आधा चेहरा पैरालिसिस हो गया था। यह तब हुआ था जब वह टीवी शो 'मैं ना भूलूंगी' की शूटिंग कर रही थीं। इस बीमारी के कारण वह सही तरीके से कुल्‍ला भी नहीं कर पाती थीं। 

आगे ऐश्वर्या ने बताया कि मेरी हालत देखकर मेरी फ्रेंड पूजा ने नोटिस किया कि मेरे चेहरे में कुछ गड़बड़ है और उसने मुझे डॉक्टर को दिखाने की सलाह दी। इसके बाद वह डॉक्टर से मिलीं और तब उन्हें पता चला कि उनके चेहरे पर पैरालिसिस हुआ। उन्हें रामसे हंट सिंड्रोम हुआ था, जिसके बाद उन्हें स्टेरॉयड दिए गए। 

एक्ट्रेस ने बताया कि स्टेरॉयड की मदद से वह 1 महीने में पूरी तरह ठीक हो गई थीं। इस बीमारी के बारे में विस्‍तार से हमें नोएडा इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस की एमडी (मेड), डीएम (कार्डियो) एम्स, एफसीएसआई की वरिष्ठ इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट, एसोसिएट प्रोफेसर, डिपार्टमेंट ऑफ मेडिसिन डॉ जगदा नंद झा जी बता रहे हैं।   

aishwarya sakhuja

रामसे हंट सिंड्रोम क्या है?

यह एक न्‍यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है जो चेहरे की कमजोरी और कान या मुंह को प्रभावित करने वाले रैशेज का कारण बनता है। फेशियल पाल्‍सी, मुंह या कान के आसपास दाने और चेहरे की कमजोरी या पैरालाइसिस इस स्थिति के मुख्य लक्षण हैं। लक्षण आमतौर पर चेहरे के एक तरफ (एकतरफा) को प्रभावित करते हैं। सुनाई न देना और कानों में बजना (टिनिटस) भी हो सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: Sit-Ups करने से paralysis का शिकार हुई इस महिला ने नहीं मानी हार

रामसे हंट सिंड्रोम के कारण क्या हैं?

वैरिसेला जोस्टर वायरस (वीजेडवी), जो बच्चों में चिकनपॉक्स और बड़ों में शिंगल्‍स (हर्पीस जोस्टर) का कारण बनता है, यह रामसे हंट सिंड्रोम का कारण है। रामसे हंट सिंड्रोम में, पहले इनएक्टिव वैरिकाला-ज़ोस्टर वायरस फिर से एक्टिव हो जाता है और चेहरे की नर्वस को प्रभावित करने के लिए फैलता है। 

किसी ऐसे व्यक्ति में जिसे बचपन में चिकनपॉक्स हुआ था, वायरस दशकों तक गुप्त रह सकता है। जब वैरिसेला-ज़ोस्टर वायरस पुनः एक्टिव होता है, तब यह शिंगल्‍स के प्रकोप का कारण बनता है और उन स्थितियों में यह चेहरे की नसों तक फैलता है। वायरस एक अस्पष्ट कारण के लिए चेहरे की तंत्रिका को पुन: एक्टिव और नुकसान पहुंचाता है।

रामसे हंट सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

ramsay hunt syndrome hindi

प्रत्येक व्यक्ति में रामसे हंट सिंड्रोम के लक्षणों का एक अनूठा सेट होता है। चेहरे की नस आमतौर पर प्रभावित लोगों में पैरालाइज हो जाती है, साथ ही कान में रैशेज भी हो जाते हैं। अक्सर ये दोनों लक्षण एक साथ नहीं होते हैं। आमतौर पर, किसी व्यक्ति में चेहरे का केवल एक साइड प्रभावित होती है। चेहरे की कमजोरी, मुंह के आसपास दाने और आंखें बंद करने में असमर्थता जैसी लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ लोगों को बहरापन और चक्कर आने का भी अनुभव हो सकता है।

नर्वस पाल्‍सी के कारण चेहरे की मसल्‍स टाइट या कमजोर हो जाती है और चेहरे लटकता हुआ दिखाई दे सकता है। इससे मुस्कुराना या माथे पर शिकन करना मुश्किल हो जाता है। लक्षणों की शुरुआत के एक हफ्ते बाद चेहरे की कमजोरी आमतौर पर अपनी सबसे बड़ी तीव्रता तक पहुंच जाती है। कुछ लोगों में विषम मसल्‍स की टोन भी प्रदर्शित हो सकती हैं जैसे कि मुंह का गिरना और लार टपकना।

रामसे हंट सिंड्रोम की विशेषता एक क्रिमसन (एरिथेमेटस), असहज, द्रव से भरे ब्लिस्टरिंग (वेसिकुलर) दाने से होती है जो आमतौर पर बाहरी कान के कैनल के साथ-साथ कान के बाहरी भाग पिन्ना को भी प्रभावित करती है। 80% तक लोगों ने मुंह और कान के आसपास वेसिकुलर रैशेज का अनुभव किया है। गले के ऊपर, विशेष रूप से डैमेज नर्वस के किनारे पर, ईयरड्रम, मुंह, नरम तालू और दर्दनाक फफोले के साथ भी प्रभावित हो सकता है। 

टिनिटस, जो कानों में बजने का कारण बनता है और कान का दर्द और कान की अन्य शिकायतें (ओटलगिया) हैं। कुछ लोगों को कान में तेज दर्द का अनुभव हो सकता है। कुछ पीड़ित लोग सेंसरिनुरल हियरिंग लॉस का अनुभव करते हैं, एक ऐसी स्थिति जिसमें आंतरिक कान डैमेज हो जाता है और ब्रेन में अनुचित ध्वनि कंपन संचरण होता है।

रामसे हंट सिंड्रोम का इलाज क्या है?

ramsay hunt syndrome

रामसे हंट सिंड्रोम के ट्रीटमेंट में एसाइक्लोविर या फैमीक्लोविर जैसी एंटीवायरल दवाएं, साथ ही कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स जैसे प्रेडनिसोन शामिल हैं। कार्बामाज़ेपिन, एक एंटी-सीजर दवा है जो नर्वस संबंधी परेशानी को कम करने में मदद कर सकती है। 

इसे जरूर पढ़ें:Paralysis Stroke के बावजूद शूटिंग करती रही Aishwarya Sakhuja, जानें इस बीमारी से कैसे बचें

कुछ दाद संक्रमणों के इलाज के लिए एक और एंटीवायरल दवा फैमीक्लोविर है। फैम्सिक्लोविर का उपयोग आमतौर पर वैलेसीक्लोविर और एसाइक्लोविर के विपरीत दाद या हर्पीज ज़ोस्टर के इलाज के लिए किया जाता है, जो आमतौर पर एचएसवी -1 और एचएसवी -2 के लिए निर्धारित होते हैं।

Recommended Video

अच्‍छे रिजल्‍ट के लिए, लक्षणों की शुरुआत के तीन दिनों के भीतर दवा शुरू कर देनी चाहिए। रामसे हंट सिंड्रोम का इलाज एंटीवायरल दवाओं जैसे एसाइक्लोविर या फैमीक्लोविर के साथ-साथ प्रेडनिसोन जैसे कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ किया जाता है। एंटी-‍सीजर दवा कार्बामाज़ेपिन का उपयोग करके नर्वस संबंधी दर्द को कम किया जा सकता है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। हेल्‍थ से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image Credit: Shutterstock & Instagram

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।