हर साल वैश्विक स्तर पर 1.5 मिलियन से अधिक IVF होते हैं, जो 400,000  से अधिक शिशुओं को जन्म देने में मदद करते हैं। यह भी दिलचस्प है कि कुल मिलाकर, दुनिया भर में जीवित जन्म दर का 0.3% सहायक रिप्रोडक्टिव तकनीकों (एआरटी) से है जिसमें आईवीएफ ट्रीटमेंट शामिल है। लेकिन भारत में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के कारण कोविड मामलों में वृद्धि के साथ, प्रेग्‍नेंट महिलाओं और उनके भ्रूणों के लिए कई चिंताएं और जटिलताएं पैदा हो गई हैं।

प्रेग्‍नेंसी के दौरान कई शारीरिक परिवर्तन होते हैं जो एक महिला को कोविड -19 इंफेक्‍शन्‍स के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकते हैं। इन परिवर्तनों में श्वसन संबंधी प्रदूषण के लिए मातृ संवेदनशीलता, ऑक्सीजन की बढ़ती आवश्यकता और प्रेग्‍नेंसी से जुड़े हाई जोखिम शामिल हैं। लेकिन अच्छी खबर यह है कि आईवीएफ लेबोरेटरी ट्रीटमेंट (इसमें भ्रूण, क्रायोप्रिजर्वेशन या स्‍टोरिंग) की हिस्‍ट्री में किसी भी रोगी या डोनर रिप्रोडक्टिव टिशूओं के प्राप्तकर्ता के दौरान रोग संचरण का कोई दस्तावेज नहीं है।

हालांकि, यह हमेशा जरूरी होता है कि हर कोई, विशेष रूप से प्रेग्‍नेंसी महिलाएं कोविड -19 के खिलाफ सभी आवश्यक सावधानी बरतें। आईवीएफ प्रक्रिया का विकल्प चुनने वाली माताओं की मदद करने के लिए, हमने कोविड -19 के दौरान हेल्‍दी आईवीएफ प्रेग्‍नेंसी के लिए 5 महत्वपूर्ण टिप्‍स को सूचीबद्ध किया है। इन टिप्‍स के बारे में हमें डॉक्‍टर काबेरी बनर्जी बता रही हैं जो एक आईवीएफ स्‍पेशलिस्‍ट और नई दिल्‍ली के एडवांस फर्टिलिटी और गायनोकोलॉजी सेंटर की डायरेक्‍टर हैं। आइए इन टिप्‍स के बारे में इस आर्टिकल के माध्‍यम से विस्‍तार से जानें। 

सही आईवीएफ सेंटर का चयन

ivf during covid inside

ऐसे आईवीएफ सेंटर का चयन करें जो कोविड -19 से जुड़ी सभी जरूरी सावधानियों को फॉलो करता है। प्रेग्‍नेंट महिला को महामारी के दौरान भी फर्टिलिटी ट्रीटमेंट  के लिए अपने आईवीएफ सेंटर का दौरा करना पड़ सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप एक ऐसा सेंटर चुनें जो सभी आवश्यक कोविड -19 सावधानियों को फॉलो करता हो। यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी लोग हेल्‍दी हैं, सेंटर को अपने कर्मचारियों की अनिवार्य दैनिक जांच का संचालन करना चाहिए। इस बात का भी ध्‍यान रखें कि उपयुक्त सोशल डिस्‍टेंसिंग, पीपीई किट और कीटाणुशोधन प्रोटोकॉल जगह में हैं। एक मरीज के रूप में आपको भी सभी प्रोटोकॉल को फॉलो करना चाहिए और यदि आप या आपके परिवार के सदस्य बुखार या किसी अन्य कोविड से जुड़े लक्षण से पीड़ित हैं तो सेंटर पर जाने से बचें।

इसे जरूर पढ़ें: क्या है IVF? जानें इनफर्टिलिटी से जुड़ी इस प्रक्रिया का तरीका और इसे करवाने के कारण

ऑनलाइन परामर्श करें

ivf during covid inside

यदि संभव हो, तो सुरक्षित और हेल्‍दी रहने के लिए सेंटर पर जाने के बजाय ऑनलाइन परामर्श के माध्यम से अपने डॉक्‍टर से सलाह करना सबसे अच्छा रहता है। इसके अलावा, इस बात का ध्‍यान रखें कि आप अपनी दवाओं को समय पर लें और अपने भोजन और दवा को ट्रैक करने के लिए एक रिकार्ड बनाए रखें। यह चिकित्सकीय परामर्श के दौरान आपके डॉक्‍टर को बेहतर विवरण प्रदान करने में मदद करता है।

आईवीएफ प्रेग्‍नेंसी में देरी न करें

pregnant women inside

कोविड -19 के कारण अनावश्यक रूप से आईवीएफप्रेग्‍नेंसी में देरी न करें। डेटा से पता चलता है कि रिप्रोडक्टिव उम्र की महिलाओं में सीओवीआईडी -19 संक्रमण का जोखिम कम दिखाई देता है। अगर आप ज्‍यादा उम्र की हैं और लंबे समय से इनफर्टिलिटी से परेशान हैं तो यह अधिक महत्वपूर्ण है।

Recommended Video

एक्टिव रहें और तनाव न लें

exercise for women inside

अपने शरीर को एक्टिव रखने और शरीर के लिए ब्‍लड और ऑक्सीजन के सेवन के फ्लो को नियमित करने के लिए रोजाना कम से कम 45-60 मिनट एक्‍सरसाइज करने की कोशिश करें। इसके अलावा, अधिक वजन या कम वजन का होना आईवीएफ प्रेग्‍नेंसी के लिए समस्याग्रस्त हो सकता है। इसलिए खुद को एक्टिव रखना बेहद जरूरी होता है।

इसे जरूर पढ़ें:सेल्फ-साइकिल आईवीएफ के बारे में विस्‍तार से एक्‍सपर्ट से जानें

वैक्‍सीनेशन लगवाएं

vaccination inside

सभी इंटरनेशनल गाइडलाइन्‍स इस बात की सलाह दे रही हैं कि फर्टिलिटी से गुजरने वाले कपल्‍स को वैक्‍सीन लगाया जाना चाहिए। अंडे के संग्रह जैसे ट्रीटमेंट से वैक्‍सीनेशन की तारीख को कुछ दिनों के लिए अलग करना समझदारी भरा हो सकता है ताकि वैक्‍सीन के कारण आने वाले किसी भी लक्षण जैसे बुखार को सही किया जा सकें। 

इन टिप्‍स को अपनाकर कोविड -19 के दौरान हेल्‍दी आईवीएफ प्रेग्‍नेंसी को अपनाया जा सकता है। हेल्‍थ से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com