भले ही वे पुरुष महिलाओं के आस-पास ही रहते हैं, लेकिन वह सेक्स और उनसे संबंधित विषयों जैसे पीरियड्स और मेनोपॉज के बारे में आश्चर्यजनक रूप से बहुत कम समझते हैं। मेनोपॉज के सामान्य लक्षणों में हॉट फ्लेश और वेजाइना में ड्रार्इनेस शामिल है। साथ ही नींद में गड़बड़ी भी हो सकती है। इन लक्षणों का कॉम्बिनेशन अक्सर गंभीर चिंता या अवसाद का कारण बन सकता है। इसलिए पुरुषों के लिए यह समझना जरूरी है कि मेनोपॉज क्या है? क्यों‍कि यह जानने में मदद कर सकता है कि महिलाओं के जीवन में उम्र बढ़ने के साथ-साथ मेनोपॉज के साथ क्या हो होता है। मेनोपॉज हमेशा आसान नहीं होता है, इस दौरान कई महिलाओं को बहुत ज्यादा परेशानियों को सामना करना पड़ता है। इसलिए थोड़ी सहानुभूति से वह एक लंबा रास्ता तय कर सकती है।

मेनोपॉज एक रात में नहीं होता है

सबसे पहली बात मेनोपॉज सिर्फ रात भर में नहीं होता है। यह वास्तव में पेरिमेनोपॉज से शुरू होता है, जिसमें वर्षों लग सकते हैं। एक महिला को केवल इस बात से आराम महसूस होता है कि अब उनके पीरियड्स खत्म हो चुके हैं।

इसे जरूर पढ़ें: मेनोपॉज के दौरान वेजाइना में आते हैं कई बदलाव, इनसे ऐसे बचें 

मेनोपॉज अपने साथ लाता है परेशानियां

दूसरे, मेनोपॉज उम्र बढ़ने का एक हिस्सा है जिसमें महिलाएं सिर्फ गुजरती नहीं है। वास्तव में, इसके साथ महिलाओं को सालों अनिद्रा, चिंता और मूड स्विंग्स के साथ बिताने पड़ते हैं।

sad women angry

सभी महिलाओं के पीरियड्स एक जैसे नहीं होते हैं

सभी महिलाओं को पीरियड्स के दौरान अलग-अलग समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। पुरुषों के लिए यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि हर महिला एक ही तरह के लक्षण का अनुभव नहीं करती है। विभिन्न महिलाओं के पीरियड्स और उनका आराम का लेवल बॉडी के हिसाब से अलग-अलग होता है।

इसे जरूर पढ़ें: मेनोपॉज के दौरान एस्‍ट्रोजन लेवल गिरने से बढ़ता है इस बीमारी का खतरा

मेनोपॉज शारीरिक असुविधा का कारण बनता है

हालांकि, एक पुरुष के दृष्टिकोण से, ऐसा लग सकता है कि एक महिला पीरियड्स से छुटकारा पाने के लिए बेहद खुश होती है। लेकिन इस दौरान महिलाओं को बहुत सारे शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुजरना पड़ता है जो उसके लिए थोड़ा मुश्किल होता है।

मेनोपॉज में महिलाओं में शारीरिक लक्षण भी दिखते हैं

पुरुषों को यह भी समझना चाहिए कि मेनोपॉज के दौरान एक महिला के शरीर में कई तरह के शारीरिक बदलाव जैसे सिरदर्द, वेजाइना में ड्राईनेस और बालों में बदलाव शामिल हैं। हॉट फ्लैशेज, इमोशनल बदलाव और वजन का बढ़ना भी मेनोपॉज के कुछ लक्षण हैं जो अचानक प्रकट होते हैं, और महिलाओं को इससे छुटकारा पाना होता है।

sad couple health

अगर पुरुषों को लगता है कि मेनोपॉज का मतलब है पीएमएस की तरह होता है, यानि पीरियड्स से पहले होने वाले कुछ लक्षण। लेकिन महिलाओं का कहना है कि मेनोपॉज बिना किसी राहत के पीएमएस है। मेनोपॉज का एक साइड इफेक्‍ट यह है कि कुछ महिलाएं स्‍लो मेटाबॉल्जिम का अनुभव करती हैं। इससे उनका वजन बढ़ सकता है। इसके अलावा, मेनोपॉज से अक्सर ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है और महिलाओं में एस्ट्रोजेन के लेवल में कमी के कारण हार्ट डिजीज का खतरा बढ़ जाता है।



किसी को भी ये समझना चाहिए कि मेनोपॉज के पहले लक्षण वास्तव में एक महिला में 30 की उम्र से ही शुरू हो सकते हैं। साधारण तौर पर, आम आदमी की शर्तों में वह समय होता है जब एक महिला ओवुलेशन रोकती है और उसके पीरियड्स रुक जाते है, यह शायद ही रात भर की प्रक्रिया है और इसमें एक साल तक का समय लग सकता है।

मेनोपॉज निपटना एक मुश्किल काम हो सकता है। यह अपूर्ण है कि पुरुष इस अवधि के दौरान एक सहायक भूमिका निभाते हैं ताकि आने वाले वर्षों में महिला और उनके रिश्ते दोनों सही रहें।