अगर खाना खाने के बाद पेट बाहर दिखे तो बहुत स्वाभावित बात है, क्योंकि कुछ देर बाद यह खुद ही अंदर चला जाता है। मुश्किल तब आती है जब पेट बाहर आने के बाद अंदर जाता ही नहीं है। दरअसल यह ब्लॉटिंग की वजह से हो सकता है। ब्लोटिंग की प्रॉब्लम हैल्थ रीजन्स की वजह से भी हो सकती है, लेकिन इसके लिए हमारी खानपान की आदतें भी जिम्मेदार हो सकती हैं। आमतौर पर ब्लोटिंग को डाइजेशन प्रॉब्लम के तौर पर देखा जाता है। 15 से 30 प्रतिशत मामलों में ब्लोटिंग होने पर बेचैनी भी महसूस हो सकती हैं। आइए जानते हैं कि खानपान की कौन सी आदतों की वजह से ब्लोटिंग की प्रॉब्लम हो सकती है-

अच्छे से न चबाना

हमें बचपन से सिखाया जाता है कि खाने को अच्छी तरह चबा कर खाएं। आमतौर पर खाने को कम से कम 30 बार चबाने की सलाह दी जाती है। भले ही आप खाते समय गिनती ना करें, लेकिन आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप खाना अच्छी तरह से चबाकर खा रही हैं। ठीक तरह से चबाने से खाना आसानी से पच जाता है और हमारे डाइजेस्टिव सिस्टम पर अतिरिक्त भार नहीं पड़ता।

इसे जरूर पढ़ें: अपने बच्चे की सेहत बनाए रखने के लिए उसे दें संपूर्ण आहार

जल्दबाजी में खाना खाना

अक्सर हम किसी काम के लिए देरी होने पर खाना जल्दी में खाते हैं। यह आदत आपके डाइजेशन सिस्टम के लिए बिल्कुल भी सही माना जाता है। दरअसल जल्दी-जल्दी खाना खाने पर शरीर में ज्यादा हवा चली जाती है और इसी वजह से खाना खाने के कुछ देर बाद गैस और इनडाइजेशन की प्रॉब्लम हो सकती है। ऐसे में ध्यान रखें कि खाने को स्वभाविक तरीके से और अच्छी तरह से चबाकर खाएं। 

Recommended Video

खाने में ध्यान न देना

reasons for bloating eating bad habits inside

अक्सर महिलाओं टीवी देखते-देखते या फिर स्मार्टफोन पर काम करते-करते खाना खाती हैं। शायद आपको हैरानी हो, लेकिन आपकी यह आदत भी आपके डाइजेशन पर बुरा असर डाल सकती है। डायजेशन की सेफेलिक स्टेज दिमाग से शुरू होती है और खाने के पेट तक पहुंचने से पहले ही यह प्रक्रिया शुरू हो जाती है। अगर हमारा ध्यान खाने में नहीं होता तो सेलेफिक फेज शुरू नहीं हो पाता। इस वजह से ब्लॉटिंग की प्रॉल्बम हो सकती है। ऐसे में ध्यान दें कि खाना खाते हुए टीवी या कंप्यूटर या अन्य गैजेट्स को दूर रख दें। 

पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीना

शरीर में अगर पानी की कमी हो तो कब्ज की समस्या हो सकती है और यह भी ब्लोटिंग से कनेक्टेड है। हमें दिनभर में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीने की जरूरत होती है। इससे स्टूल सॉफ्ट हो सकता हैं और अगले दिन फ्रेश होने में समस्या नहीं आती। इसके साथ ही नियमित रूप से एक्सरसाइज करना भी जरूरी है। 

खाना खाने के साथ पानी पीने की आदत

reasons for bloating eating bad habits inside

अक्सर बहुत सी महिलाएं खाना खाते हुए पानी पी लेती हैं। इससे भी ब्लोटिंग की प्रॉब्लम बढ़ सकती है। दिन भर शरीर को भली प्रकार से हाइड्रेटेड रखना जरूरी है, लेकिन खाना के दौरान पानी पीने से प्रॉब्लम बढ़ती है, फिर चाहें आप खाना खाते हुए ज्यादा पानी पिएं या फिर खाना खाने के से पहले और बाद में। जरूरत से ज्यादा पानी पेट में जाने से खाना पचाने वाले एसिड डायल्यूट हो जाते हैं, जिससे खाना ठीक तरीके से पच नहीं पाता। दरअसल स्टमक एसिड खाने पचाने और पैथोजेनिक माइक्रोब्स को मारने के काम आ सकता है।

स्टमक एसिड की मात्रा कम होने से खाना ज्यादा लंबे समय तक पेट में रह सकता है और इससे पेट बाहर निकला हुआ दिखाई दे सकता है। इन वजहों को जानने के बाद आप आसानी से इन पर ध्यान दे सकती हैं और इन्हें दूर कर ब्लोटिंग की समस्या से छुटकारा पा सकती हैं। अगर आप हेल्थ और फिटनेस से जुड़ी और भी जानकारियां पाने में दिलचस्प रखती हैं तो विजिट करती रहें HerZindagi।

Image Credit:(@www.gastrosav.com)