• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Expert Tips: अगर आप भी बैठे-बैठे पैर हिलाते हैं तो ये हो सकता है बीमारी का संकेत

अगर आपमें बिना वजह अपने काम के दौरान बैठे हुए पैर हिलाने की आदत है तो ये किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है और आपको इस पर ध्यान देना चाहिए।   
author-profile
Published -07 Jun 2022, 18:46 ISTUpdated -07 Jun 2022, 19:05 IST
Next
Article
what is leg shaking

कई बार हम काम करते हुए अपने काम में मन लगाने के लिए कोई ऐसी एक्टिविटी करते हैं जिससे हमारा ध्यान उस काम में केंद्रित रहे। कुछ लोग काम में मन लगाने के लिए लगातार अपने पैर हिलाते हैं। बैठे -बैठे पैरों को हिलाना या फिर सोते समय ऐसा करना वैसे तो एक आम दशा भी हो सकती है। लेकिन कई बार ये किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

कई बार आप अपने डेस्क पर काम कर रहे हैं, शायद अपने दिन भर में कई कॉल्स भी निपटाए होंगे लेकिन आपने पिछले एक घंटे से अपना पैर हिलाना बंद नहीं किया है। हो सकता है कि आप इस बात पर ध्यान न दे पाएं लेकिन आपकी सेहत से जुड़ी किसी समस्या का कारण भी हो सकता है। हमने कई लोगों को ऐसी गतिविधि करते हुए देखा और इस बात का पता लगाने के लिए हमने Samarth Suryavanshi, Physiotherapis से बात की। उन्होंने हमें इस बारे में कुछ जानकारी दी जो आपको भी जाननी चाहिए। 

बैठे -बैठे पैर हिलाना चिंता का संकेत 

restles leg syndrome

वैसे तो इसके कई कारण हो सकते हैं लेकिन इसका एक मुख्य कारण रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम हो सकता है जो लगभग 10 प्रतिशत लोगों को हो सकता है। दरअसल यह एक ऐसी स्वास्थ्य समस्या है जो नर्वस सिस्टम से जुड़ी होती है। ये वैसे तो महिलाओं और पुरुषों दोनों में ही होता है लेकिन इस सिंड्रोम से प्रभावित लोगों में महिलाएं ज्यादा हैं। 

Recommended Video

क्या है रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम

यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति को बैठने और सोने में अचानक से दर्द होने लगता है और जब हम पैरों को मूव करते हैं तो इस दर्द में कमी होने लगती है। जब यह दर्द की स्थिति बार-बार होती है तो इसे रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम कहा जाता है। यह समस्या आयरन की कमी के कारण भी हो सकती है। कई बार गर्भवती स्त्रियों में डिलीवरी से कुछ दिन पहले हार्मोनल बदलाव से भी यह समस्या बढ़ने लगती है। लेकिन डिलीवरी के कुछ दिन बाद ही यह समस्या कम होकर ठीक होने लगती है। 

इसे जरूर पढ़ें:आखिर महिलाओं के लिए क्यों जरूरी होते हैं पीरियड्स?

जेनेटिक भी हो सकते हैं इसके कारण 

leg shaking health expert

वैसे तो इस सिंड्रोम का सही कारण बता पाना मुश्किल है लेकिन कई बार ये जेनेटिक भी हो सकता है। कई बार घर में माता या पिता को ये समस्या होती है जो बच्चों में होने की संभावना होने लगती है। 

कैसे हो सकता है इलाज 

इस सिंड्रोम को ठीक करने के लिए ऑर्थोपैडिक्स या फिजियोथेरेपी ट्रीटमेंट (फिजियोथेरेपिस्ट के बताए टिप्स) लिया जा सकता है। ऑर्थोपैडिक्स ट्रीटमेन्ट में कुछ दवाइयां दी जाती हैं जिसमें डोपामिन हार्मोन को बढ़ाया जा सकता है जिससे इस सिंड्रोम को कम करने में मदद मिलती है। इसमें कैल्शियम के सप्लीमेंट्स दिए जाते हैं और आयरन की दवाएं दी जाती हैं जिससे इसे कण्ट्रोल किया जा सके। फिजियोथेरेपी ट्रीटमेंट में थेरेपी के दौरान ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाया जा सकता है। जब सर्कुलेशन लेग्स में बना रहा है तो दर्द कम करने में मदद मिलती है। मसल्स की स्टेचिंग करके भी इस सिंड्रोम को ठीक किया जा सकता है। 

इस प्रकार यदि आपको भी बार-बार पैर हिलाने की आदत है तो ये आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं क्योंकि ये बीमारी के संकेत भी हो सकते हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।